ताज़ा खबर
 

बड़ा खुलासाः किसान आत्महत्या कर रहे और CM मुख्यमंत्री राहत कोष से डांसर्स को बैंकॉक भेज रहे

मुंबई के एक आरटीआई में बड़ा खुलासा हुआ है, जिसमें महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडनवीस की सरकार सवालों के घेरे में है।

Author नई दिल्ली/ मुंबई | October 24, 2015 10:03 PM

मुंबई के एक आरटीआई में बड़ा खुलासा हुआ है, जिसमें महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडनवीस की सरकार सवालों के घेरे में है। आरटीआई में नियमों को ताक पर रखते हुए मुख्यमंत्री राहत कोष से 15 डांसर्स को बैंकॉक और थाइलैंड की यात्रा पर भेजने का खुलासा हुआ है।

HOT DEALS
  • Apple iPhone 6 32 GB Gold
    ₹ 25900 MRP ₹ 29500 -12%
    ₹3750 Cashback
  • Lenovo Phab 2 Plus 32GB Champagne Gold
    ₹ 17999 MRP ₹ 17999 -0%
    ₹900 Cashback

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक आरटीआई कार्यकर्ता अनिल गलगली की ओर से सूचना के अधिकार के तहत मांगी गई जानकारी में इसका खुलासा हुआ है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक इसके लिए मुख्यमंत्री राहत कार्य कोष से आठ लाख रुपये डांसर्स के लिए ट्रांसफर किए गए हैं, जिन्हें विदेश भेजा गया है।

ये सभी 15 डांसर्स सचिवालय जिमखाना में सरकारी कर्मचारी हैं। ये एक निजी संस्था की ओर से आयोजित किए गए परफॉर्मिंग आर्ट्स के पांचवे कल्चरल ओलंपियाड में हिस्सा ले रहे हैं। गौरतलब है कि नियमों के मुताबिक मुख्यमंत्री राहत कोष के फंड का इस्तेमाल सिर्फ प्राकृतिक आपदा से प्रभावित लोगों की मदद के लिए किया जा सकता है। डांसर्स के लिए इस राशि को स्पेशल केस मान कर मंजूरी दी गई है।

वहीं दूसरी ओर वरिष्ठ अधिकारियों का कहना है कि मुख्यमंत्री इस फंड का इस्तेमाल अपने विवेक के मुताबिक कर सकते हैं। जरूरतमंद लोगों को यह धनराशि मुहैया कराई जा सकती है।

राहत कोष विवाद: कांग्रेस-राकांपा के निशाने पर फड़णवीस, बचाव में उतरी भाजपा

अधिकारियों ने कहा कि डांसर्स ने इस साल नेशनल लेवल प्रतियोगिता जीती है। हालांकि सीएम फरनवीस इस बात से इंकार करते हुए आरोपों का खंडन कर रहे हैं।

Out of the third, 25% funds are reserved for cultural activities out of which we sponsored ppl in ques: D Fadnavis pic.twitter.com/cX0f9Xfjqy

— ANI (@ANI_news) October 24, 2015

उन्होंने कहा उन्होंने डांसर्स के लिए इस मनी ट्रांसफर किया कि उन्हें लगा कि विदेश में भारतीय प्रतिभा के प्रचार-प्रसार के लिए इसे बढ़ावा दिया जाना चाहिए। वहीं आरटीआई कार्यकर्ता का कहना है कि महाराष्ट्र में सूखे और फसल बर्बाद होने की वजह से अब तक 660 किसान खुदकुशी कर चुके हैं। यही वजह है कि यह मामला इतना गर्माया हुआ है।

बताते चलें कि महाराष्ट्र में सूखे की मार झेल रहे कई किसान लगातार आत्महत्या कर रहे हैं और इस बीच मुख्यमंत्री राहत कोष के पैसे गलत जगहों पर खर्च हो रहे हैं। गौरतलब है कि मुख्यमंत्री राहत कोष का इस्तेमाल राज्य सरकार प्राकृतिक आपदा के प्रभावित लोगों के लिए करती हैं।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App