ताज़ा खबर
 

क्रिसमस से पहले उद्धव मंत्रिमंडल का विस्तार? तीनों दलों के बीच हो चुका विभागों का बंटवारा

उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ 28 नवंबर को ली थी। उनके साथ शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस तीनों से दो-दो मंत्रियों ने शपथ ली थी।

नई दिल्ली | December 20, 2019 1:08 PM
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे। (file)

उद्धव ठाकरे नीत महाराष्ट्र मंत्रिपरिषद का विस्तार क्रिसमस से पहले हो सकता है। कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने पीटीआई-भाषा को बताया, ‘‘मंत्रिपरिषद का विस्तार 23 या 24 दिसंबर को होने की संभावना है। विभागों का आवंटन हो चुका है। कुछ विभागों में तीनों दलों के बीच अदला-बदली हो सकती है।’’ उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ 28 नवंबर को ली थी। उनके साथ शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस तीनों से दो-दो मंत्रियों ने शपथ ली थी।

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के मुख्यमंत्री बनने के दो सप्ताह बाद 12 दिसंबर को महाराष्ट्र सरकार में विभागों के बटवारे की घोषणा की गई, जिसमें शिवसेना को महत्वपूर्ण गृह विभाग मिला। शिवसेना नेता एकनाथ ंिशदे को गृह, शहरी विकास, वन, पर्यावरण, बिजली आपूर्ति, जल संरक्षण, पर्यटन, सार्वजनिक प्रतिष्ठानों और संसदीय मामलों का प्रभार सौंपा गया। शिवसेना के अन्य मंत्री सुभाष देसाई को कृषि, उद्योग, उच्च एवं तकनीकी शिक्षा, खेल एवं युवा कल्याण, बागान, परिवहन, मराठी भाषा और संस्कृति मामलों एवं बंदरगाहों का प्रभार दिया गया। राकांपा के मंत्री जयंत पाटिल को वित्त एवं योजना, आवास, जन स्वास्थ्य, सहयोग, खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति, श्रम तथा अल्पसंख्यक कल्याण विभाग सौंपा गया।

राकांपा के ही मंत्री छगन भुजबल को ंिसचाई, ग्रामीण विकास, सामाजिक न्याय, आबकारी, कौशल विकास, खाद्य एवं मादक पदार्थ प्रशासन विभाग दिये गए। कांग्रेस के मंत्री बालासाहेब थोराट को राजस्व, ऊर्जा, चिकित्सा शिक्षा, स्कूली शिक्षा, पशुपालन, डेयरी और मत्स्य पालन विभाग सौंपा गया। कांग्रेस के ही नितिन राउत को पीडब्ल्यूडी, जनजातीय कल्याण, महिला एवं बाल विकास, वस्त्र, राहत एवं पुनर्वास, ओबीसी, वीजेएनटी, विशिष्ट पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग सौंपे गए। महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री समेत 43 मंत्री हो सकते हैं।

कांग्रेस नेता ने कहा कि इस पर भी निर्णय लिया जाएगा कि क्या पूर्व मंत्री मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण और पृथ्वीराज चव्हाण दोनों को ठाकरे नीत मंत्रिपरिषद में शामिल किया जाए या फिर इनमें से एक को ही शामिल किया जाए। वहीं पर्यवेक्षकों का मानना है कि यह देखना दिलचस्प होगा कि राकांपा प्रमुख शरद पवार मंत्रिपरिषद में अजित पवार को शामिल करेंगे या नहीं और अगर शामिल करते हैं तो इसका मतलब यह होगा कि उन्हें पहले से अपने भतीजे की योजना के बारे में जानकारी थी।

Next Stories
1 CAA: एसपी सांसद शफीकुर्रहमान बर्क समेत सात नेताओं पर FIR, हिरासत में लिए गए 3000 लोग
2 CAA Protest: मुंबई की सड़कों पर उतरे फरहान अख्तर, अनुराग कश्यप समेत ये बॉलीवुड सितारे, कहा- अपने इरादे साफ करे मोदी सरकार
3 शिवसेना ने बढ़ाई BJP की मुश्किलें? कहा- फडणवीस के कई लोग बन चुके हैं उद्धव सरकार के मित्र, मोदी सरकार पर यूं कसा तंज
ये पढ़ा क्या ?
X