ताज़ा खबर
 

सर्वे: महाराष्ट्र में फिर बन सकती है बीजेपी-शिवसेना की सरकार, कांग्रेस-एनसीपी गठबंधन को 28 सीटों के नुकसान के आसार

Maharashtra Assembly Elections: सर्वे के मुताबिक सत्तारूढ़ गठबंधन को बहुमत से (145) से ज्यादा 205 सीटें मिल सकती हैं जबकि विपक्षी गठबंधन कांग्रेस-एनसीपी 55 सीटों पर सिमट सकती है।

महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडणवीस और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे। फाइल फोटो। सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस

Maharashtra Assembly Elections: महाराष्ट्र और हरियाणा में चुनाव की तारीखों का ऐलान होने के साथ ही एबीपी न्यूज और सी-वोटर ने ओपिनियन पोल सर्वे जारी किया है। सर्वे के मुताबिक महाराष्ट्र में फिर से बीजेपी-शिवसेना गठबंधन की सरकार बन सकती है। सर्वे के मुताबिक सत्तारूढ़ गठबंधन को बहुमत से (145) से ज्यादा 205 सीटें मिल सकती हैं जबकि विपक्षी गठबंधन कांग्रेस-एनसीपी 55 सीटों पर सिमट सकती है। सर्वे के मुताबिक अन्य दल 28 सीटें जीत सकते हैं। बता दें कि महाराष्ट्र में विधान सभा की 288 सीटें हैं।

साल 2014 में बीजेपी को 122 सीटें मिली थीं जबकि शिव सेना को 63 सीटें मिली थीं। तब दोनों पार्टियों ने अलग-अलग चुनाव लड़ा था। उधर, विपक्षी कांग्रेस को 42 सीटें मिली थीं जबकि एनसीपी को 41 सीटें मिली थीं। इन दोनों दलों ने भी अलग-अलग चुनाव लड़ा था।

सर्वे के मुताबिक अगर राज्य में बीजेपी और शिवसेना का गठबंधन नहीं होता है तब भी बीजेपी फायदे में रह सकती है। ऐसी सूरत में बीजेपी को 144 सीटें मिलने की उम्मीद जताई गई है, जो 2014 के मुकाबले 22 सीट ज्यादा है। हालांकि, गठबंधन नहीं होने की सूरत में शिव सेना को बड़ा नुकसान हो सकता है। सर्वे के मुताबिक उसे केवल 39 सीटें मिल सकती हैं जो 24 सीटों का नुकसान है। कांग्रेस और एनसीपी को भी अलग-अलग लड़ने पर नुकसान उठाना पड़ सकता है। सर्वे के मुताबिक इस सूरत में इन दोनों पार्टियों को 21 और 20 सीटें मिलने का अनुमान है।

वोट परसेंटेज की बात करें तो गठबंधन नहीं होने की सूरत में बीजेपी को 31 फीसदी वोट मिल सकता है जबकि शिवसेना को 15 फीसदी, कांग्रेस को 16 फीसदी, एनसीपी को 12 फीसदी और अन्य को 26 फीसदी वोट मिलने के आसार जताए गए हैं। गठबंधन होने की स्थिति में बीजेपी की अगुवाई वाले एनडीए गठबंधन को 46 फीसदी जबकि कांग्रेस की अगुवाई वाले यूपीए को 30 फीसदी वोट मिल सकते हैं। अन्य को 24 फीसदी वोट मिलने की संभावना जताई गई है। ओपिनियन पोल के दौरान महाराष्ट्र के लोगों ने पानी और बेरोजगारी को सबसे बड़ा चुनावी मुद्दा माना। हालांकि, मुख्यमंत्री पद के लिए देवेंद्र फडणवीस लोगों की नंबर वन पसंद बनकर उभरे हैं।

Next Stories
1 BJP के दो बड़े नेताओं के बीच भिड़ंत! पत्नी के लिए टिकट चाहते हैं मोदी सरकार के मंत्री, बेटे के लिए जुटे पूर्व सांसद
2 महाराष्ट्र: एक महीने में 38 लोगों ने छोड़ी कांग्रेस-एनसीपी, पांच महीने पुराने पैटर्न से बीजेपी-शिवसेना को मिल सकती हैं 230 सीटें
3 HARYANA ASSEMBLY ELECTIONS: इन 5 कारणों से है बीजेपी को शानदार जीत का भरोसा
ये पढ़ा क्या?
X