ताज़ा खबर
 

चुनाव से हफ्ते भर पहले बीजेपी ने सावरकर को भारत रत्न देने का वादा क्यों किया? समझिए सियासी दांव-पेंच

Maharashtra Election 2019: महाराष्ट्र के कई इलाकों में सावरकर का काफी महिमामंडन किया जाता है। महाराष्ट्र में बीजेपी की सहयोगी पार्टी शिवसेना और खुद बीजेपी अक्सर सावरकर की देशभक्ति का गुणगान करती रहती है।

Veer Savarkar, Modi, PM Modi. Bharat Ratna,महाराष्ट्र चुनाव से पहले बीजेपी वीर सावरकर को भारत रत्न देने की तैयारी में है। (फाइल फोटो-PTI)

Maharashtra Election 2019: महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के बीजेपी ने जो घोषणापत्र जारी किया है उसमें विनायक दामोदर सावरकर यानी वीर सावरकर को भारत का सबसे बड़ा नागरिक सम्मान भारत रत्न देने की घोषणा की है। हिंदुत्व विचारधारा के समर्थक वीर सावरकर को भारत रत्न दिए जाने को लेकर राजनीतिक पार्टियों में मतभेद है। महाराष्ट्र के कई इलाकों में सावरकर का काफी महिमामंडन किया जाता है। महाराष्ट्र में बीजेपी की सहयोगी पार्टी शिवसेना और खुद बीजेपी अक्सर सावरकर की देशभक्ति का गुणगान करती रहती है। सावरकर समर्थक अक्सर सावरकर को मिली काला पानी की सजा (अंडमान जेल में कैद) का जिक्र करते हैं। वहीं सावरकर के आलोचक उनके द्वारा अंग्रेजी शासन के सामने माफीनामा लिखने को लेकर उनकी आलोचना करते रहते हैं।

आरएसएस और सावरकर के समर्थक सावरकर को हिंदू राष्ट्रवाद का जनक मानते हैं। लेकिन आरएसएस अक्सर हिंदू महासभा से दूरी बनाती नजर आती है जबकि सावरकर ने 1937 से 6 साल के लिए हिंदू महासभा का नेतृत्व किया था। अब सवाल यह है कि बीजेपी वीर सावरकर को चुनाव से हफ्ते भर पहले भारत रत्न से सम्मानित क्यों करना चाहती है और इसके राजनीतिक मायने क्या है।

दरअसल, बीजेपी इस फैसले से अपनी हिंदुत्व की राजनीति को कमतर नहीं होने देना चाहती है। बीजेपी और आरएसएस चाहती है कि कोई भी राजनीतिक या गैर राजनीतिक दल हिंदुत्व वाली राजनीति में सेंध ना लगाने पाए।इंडियन एक्सप्रेस में लिखे एक लेख के मुताबिक बीजेपी और आरएसएस के साथ लंबे समय से काम कर चुके एक राजनीतिक जानकार का कहना है कि सावरकर पर कोई भी हमला या टिप्पणी होती है तो बीजेपी या आरएसएस तुरंत प्रतिक्रिया नहीं देते हैं बल्कि इन संगठनों के शरारती तत्व ऐसा करते हैं और वहीं पहले सामने आते हैं।

हालांकि, बीजेपी और आरएसएस का नेतृत्व इन असामाजिक तत्वों का भी एक दायरे से आगे नहीं बढ़ने देता है। इतनी ही नहीं भारत रत्न देने का यह फैसला शिवसैनिकों को खुश करेगा। वहीं आरएसएस और बीजेपी कार्यकर्ताओं को भी इससे खुशी मिलेगी।इसके अलावा यह बीजेपी के लिए भी एक तरह का मौका है कि वह अपने राजनीतिक विचारकों को राष्ट्रीय पटल पर स्थापित कर सके। आरएसएस ने कभी भी स्वतंत्रता संग्राम में अपने पुराने नेताओं का महिमामंडन करने से जरा भी नहीं हिचकती नजर आई है।

अपनी हालिया पुस्तक द आरएसएस: रोडमैप्स फॉर द 21 वीं सेंचुरी में, सुनील अम्बेकर ने स्वतंत्रता संग्राम विचारधारा-केंद्रित होने के बजाय व्यक्तित्व-केंद्रित (गांधी-केंद्रित) बनाने के लिए केबी हेडगेवार की आपत्ति का जिक्र किया है। संघ ने हिंदू-मुस्लिम मुद्दे पर गांधी के दृष्टिकोण को भी नापसंद करती है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कई लोग मानते हैं कि महात्मा गांधी के महिमामंडन के चलते सुभाष चंद्र बोस और सावरकर जैसी बड़े नेताओं को वो नाम नहीं मिला जिसके वह हकदार थे।

संघ पहले से ही यह मानता आया है कि आजादी के पहले का इतिहास सावरकर के बिना अधूरा है। और इसी मकसद के साथ आरएसएस अपने नेताओं को  देश के राष्ट्रीय नेताओं की फेहरिस्त में जोड़ना चाहता है। साल 2014 में बीजेपी के सत्ता में आने के बाद  संघ प्रमुख मोहन भागवत ने इस तरफ इशारा किया था कि संघ अपनी विचारधारा और अपने प्रतीकों को मुख्यधारा से जोड़ना चाहता है और आरएसएस के बारे में जो भी भ्रम और भ्रांतियां हैं उन्हें दूर करना चाहता है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 हरियाणा चुनाव 2019: बाबा रामदेव बोले- मनोहर लाल खट्टर साहब बिना विवाह किए हमारी जमात के हैं
2 छात्र जीवन में ही वीडी सावरकर ने साथियों संग किया था मस्जिद पर हमला, हिंदुओं के रुख से थे खफा
3 सुन्नी वक्फ बोर्ड पर भड़के कांग्रेस नेता राशिद अल्वी, बोले- सुप्रीम कोर्ट लगाए 5 करोड़ का जुर्माना
IPL 2020 LIVE
X