ताज़ा खबर
 

महाराष्ट्रः पुणे में बारिश में बड़ा हादसा, दीवार गिरने से 15 मरे, कई जख्मी; कुछ गाड़ियां भी मलबे में फंसीं

रेस्क्यू टीम ने इसके बाद घायलों को फौरन नजदीकी अस्पताल पहुंचाया, जबकि कुछ टीमें राहत और बचाव कार्य में जुटी हैं।

हादसे के बाद राहत-बचाव कार्य में जुटे कर्मचारी। (फोटोः ANI)

महाराष्ट्र के पुणे में शुक्रवार देर रात करीब डेढ़ से पौने दो बजे के बीच बड़ा हादसा हो गया। बारिश के चलते कोंढवा के तालाब मस्जिद इलाके में एक सोसायटी की लगभग 20 फुट ऊंची दीवार झोपड़ियों पर गिरने से चार बच्चों समेत 15 लोगों की मौत हो गई, जबकि कई बुरी तरह जख्मी हुए। घटनास्थल पर इसके अलावा कई गाड़ियां भी बुरी तरह फंस गई थीं। सूचना पर आनन-फानन में मौके पर एनडीआरएफ, पुणे दमकल विभाग और नगर निगम की टीमें पहुंचीं, जिन्होंने घायलों को पास के अस्पताल पहुंचाया और मौके पर राहत-बचाव कार्य किया। महाराष्ट्र सीएम देवेंद्र फडणवीस ने इस बाबत ट्वीट कर हादसे पर दुख जताया और मृतकों के परिजन को चार-चार लाख रुपए मुआवजे का ऐलान किया।

दरअसल, सोसायटी की दीवार झोपड़ियों के ऊपर गिरी थी। शुरुआती जांच की मानें तो पुणे और आसपास के इलाके में 48 घंटे से हो रही बारिश को इसके पीछे मुख्य वजह बताया गया है। बता दें कि पुणे में शुक्रवार को 73.1 मिमी बारिश हुई थी, जबकि 2010 के बाद जून में हुई यह दूसरी सबसे अधिक बारिश है।

जानकारी के मुताबिक, आवासीय सोसायटी में निर्माण कार्य हो रहा था और उसके पास ही मजदूरों के रहने के लिए अस्थाई घर (झोपड़ियां) बनाए गए थे। बारिश के दौरान पार्किंग से सटा इमारत का हिस्सा अचानक गिरा, जिसके बाद यह घटना हुई थी। ‘भाषा’ की रिपोर्ट में कोंढवा पुलिस थाने के अधिकारी के हवाले से कहा गया, “हादसे में 15 लोग (चार बच्चों, दो महिलाओं और नौ पुरुष) मारे गए और तीन अन्य घायल हुए हैं।” हालांकि, पुलिस ने इससे पहले मृतकों की संख्या 17 बताई थी।

पुणे की पार्षद मुक्ता तिलक इस घटना पर बोलीं कि मामले की जांच कराई जाएगी। फिलहाल हम काम रोकने का आदेश दे रहे हैं, ताकि इस साइट पर अभी (इस बारिश के मौसम) में कोई निर्णाण कार्य न हो।

पुणे के जिला कलेक्टर नवल किशोर राम ने ‘एएनआई’ से इस बाबत कहा, “दीवार भारी बारिश के चलते गिरी है। इस हादसे के साथ ही कंस्ट्रक्शन कंपनी की अनदेखी का मामला भी प्रकाश में आया है। 15 लोगों की जान जाना छोटी बात नहीं है। उनमें से अधिकतर मजदूर बिहार और बंगाल के थे। सरकार मृतकों के परिजन और पीड़ितों को मदद मुहैया कराएगी।”

वहीं, पुलिस कमिश्नर के.वेंकटेशम ने समाचार एजेंसी को बताया- हमारी टीम हादसे के पीछे का कारण ढूंढ रही है। जो भी दोषी पाया गया, उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। हम जांच करेंगे कि वहां निर्माण कार्य के लिए जरूरी अनुमति ली गई थी या नहीं। साथ ही यह भी देखा जाएगा कि क्या सही सुरक्षा उपाय अपनाए गए थे?

वहीं, बिहार सीएम नीतीश कुमार ने भी कटिहार से ताल्लुक रखने वाले मृतकों और उनके परिजन के प्रति संवेदना जताई है। साथ ही उनके घर वालों को दो-दो लाख रुपए की आर्थिक मदद मुहैया कराने की घोषणा की है, जबकि घायलों को 50 हजार रुपए का मुआवजा मिलेगा।

Next Stories
1 रेलवे की 9000 भर्तियों में आधे पदों पर महिलाएं
2 IAF जगुआर का फुटेज आया सामने, पक्षी से टकराने पर पायलट ने फौरन गिराया फ्यूल टैंक, देखें- VIDEO
3 ’93 बार राष्ट्रपति शासन लगाने वाले मुझे लोकतंत्र का पाठ न पढ़ाएं’, लोकसभा में कांग्रेस पर बरसे अमित शाह
ये पढ़ा क्या?
X