मध्य प्रदेश के CM कमलनाथ के साथ दिखा व्यापम घोटाले का मुख्य आरोपी, स्कूल के कार्यक्रम में मुख्यमंत्री संग था मौजूद

व्यापम घोटाले के सामने आने के बाद जगदीश सागर को 2013 में मुंबई की एक होटल से इंदौर की क्राइम ब्रांच ने गिरफ्तार किया था। जगदीश सागर को व्यापम घोटाले का मास्टर माइंड बताया जाता है।

मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ, फोटो सोर्स- एएनआई

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ की फोटो वायरल हुई है, जसमें वह इंदौर के एक स्कूल कार्यक्रम में व्यापम घोटाले के मुख्य आरोपी जगदीश सरकार के साथ दिख रहे हैं। इस फोटो के बाद व्यापम घोटाला एक बार फिर चर्चा में आ गया है। बताया जा रहा है कि सीएम कमलनाथ एक कॉलेज स्कूल में पुरस्कार वितरण कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे थे। इस कार्यक्रम में उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी और वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह भी मौजूद थे।

क्रांइम ब्रांच ने किया था गिरफ्तार: व्यापम घोटाले के सामने आने के बाद जगदीश सागर को 2013 में मुंबई की एक होटल से इंदौर की क्राइम ब्रांच ने गिरफ्तार किया था। जगदीश सागर को व्यापम घोटाले का मास्टर माइंड बताया जाता है। शिवराज सिंह के सरकार के दौरान इस मुद्दे को खूब उछला गया था। विधानसभा के चुनाव के दौरान भी कांग्रेस ने इस मुद्दे को लेकर भाजपा को कटघरे में खड़ा किया था। ऐसे में सीएम कमल नाथ और जगदीश को एक कार्यक्रम में देखने के बाद राज्य की सियासी हलचल तेज हो गई है।

Hindi News Today, 08 December 2019 LIVE Updates: बड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

20 लोगों के खिलाफ दर्ज हुआ था मामला: गौरतलब है कि इस घोटाले का मामला औपचारिक तौर पर 7 जुलाई 2013 को पहली बार सामने आया था। इस मामले में 2013 से पहले मध्यप्रदेश में लगभग 55 मामले दर्ज किए गए थे। इसी दौरान 16 जुलाई 2013 को घोटाले का मास्टरमाइंड माना जाने वाला जगदीश सागर पुलिस की गिरफ्त में आया। इंदौर कि क्राइम ब्रांच ने लगभग बीस लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया । इस मामले में परीक्षा देने वाले छात्रों की जगह किसी और को बैठाकर परीक्षा दिलाया गया था।

प्री-मेडिकल टेस्ट में धांधली करने के मामले में आरोपी: बता दें कि जगदीश सरकार पेशे से एक चिकित्सक है जिस पर प्री-मेडिकल टेस्ट में धांधली करने और सैकड़ों छात्रों को गलत साधनों के माध्यम से परीक्षा दिलाने में मदद करने का आरोप है। अपने चुनावी हलफनामे में उसने बताया है कि उसके खिलाफ मध्य प्रदेश प्री मेडिकल टेस्ट (एमपीपीएमटी) घोटाला और मनी लॉन्ड्रिंग निरोधक अधिनियम (पीएमएलए) के तहत प्रवर्तन निदेशालय द्वारा मामला दर्ज किया गया है।

Next Stories
1 Kerala State Lottery Today Results LIVE: यहां देखें आज के सभी विजेताओं की पूरी सूची
2 BSP चीफ मायावती का BJP पर हमला, कहा- बयानबाजी बहुत हुई, अब असल मुद्दों पर काम करे मोदी- योगी सरकार
3 Karnataka Assembly Bye-Election Results 2019: खत्म होगा येदियुरप्पा की ‘बदकिस्मती’ का दौर? जानें BJP के लिए क्यों अहम हैं ये नतीजे
यह पढ़ा क्या?
X