ताज़ा खबर
 

पीएम आवास योजना में मिले घरों से उखाड़े गए मोदी-शिवराज की तस्वीरों वाले टाइल्स

सरकारी अधिकारियों के मुताबिक, पेटलावद में पीएमएवाई योजना के तहत कुल 234 मकान बनाए गए थे और हर घर में एक टाइल लगाया गया था, जिस पर 'सबका अपना घर हो अपना' स्लोगन लिखा था।

कांग्रेस ने पीएमएवाई के तहत आवंटित घरों में पीएम-सीएम के फोटो वाले टाइल्स पर आपत्ति जताई थी। (फोटोः पीटीआई)

प्रधानमंत्री आवास योजना (पीएमएवाई) के तहत दिए गए घरों में से पीएम नरेंद्र मोदी और राज्य के सीएम शिवराज सिंह चौहान की तस्वीरों वाले टाइल्स उखाड़ने का काम शुरू हो गया। गुरुवार (11 अक्टूबर) को मध्य प्रदेश के झाबुआ जिला स्थित पेटलावद स्थित इन मकानों में टाइल्स उखाड़ने का काम जोर-शोर से हुआ। यह कार्रवाई कांग्रेस की तरफ से जताई गई आपत्ति के बाद की गई है। आपको बता दें कि 19 सितंबर को मध्य प्रदेश हाईकोर्ट की ग्वालियर बेंच ने इन मकानों से पीएम-सीएम के फोटो वाले टाइल्स हटाने को लेकर आदेश दिया था।

कोर्ट ने इस काम के लिए सरकार को 20 दिसंबर तक की मोहलत दी। हाईकोर्ट ने इसके साथ ही स्पष्ट कर दिया था कि मकानों के अंदर किसी भी राजनेता के फोटो नहीं लगने चाहिए। हालांकि, केंद्र सरकार ने इससे पहले पीएम-सीएम के फोटो वाले टाइल्स हटवाने की बात पर बल दिया था। वहीं, 18 सितंबर को राज्य सरकार ने कहा था कि टाइल्स हटवाने के आदेश दे दिए गए हैं।

सरकारी अधिकारियों के मुताबिक, पेटलावद में पीएमएवाई योजना के तहत कुल 234 मकान बनाए गए थे और हर घर में एक टाइल लगाया गया था, जिस पर ‘सबका अपना घर हो अपना’ स्लोगन लिखा था। दरवाजे पर लगे इस टाइल पर पीएम मोदी और सीएम शिवराज की तस्वीर भी बनी थी। यही नहीं, मकानों में ऐसा ही एक और टाइल रसोईघर में भी लगा था।

अप्रैल महीने में स्थानीय अधिकारियों को इन टाइल्स को योजना के अंतर्गत आवंटित घरों में लगाने का आदेश दिया गया था। लेकिन पिछले महीने कोर्ट के आदेश के बाद उन्हें हटाने का काम इन दिनों जोरों पर है। ऊपर से राज्य में चुनावी कार्यक्रम का शेड्यूल जारी होने के बाद से आचार संहिता भी लागू हो चुकी है।

गौरतलब है कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने चुनाव आयोग (ईसी) के पास इस संबंध में शिकायत देते हुए इन टाइल्स को चुनावी आचार संहिता का उल्लंघन करने वाला बताया था। झाबुआ के जिलाधिकारी आशीष सक्सेना ने इस बारे में एक अंग्रेजी अखबार को बताया कि आचार संहिता लागू होने के कारण हम कार्रवाई कर रहे हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App