ताबीज़ पहनने से नहीं होंगी बीमारियां, बोलीं शिवराज की मंत्री, पहले हनुमाान चालीसा पढ़कर कोरोना भगाने का कर चुकी हैं दावा

गौरतलब है कि 4 दिसंबर को टंट्या मामा के बलिदान दिवस पर महू के पातालपानी में एक बड़ा आयोजन किया जा रहा है। ऐसे में इंदौर में कोरोना के बढ़ते खतरे को लेकर सावधानी बरतने पर जब पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर से सवाल किया गया तो उनकी तरफ से इस तरह का अजीब जवाब आया।

Usha Thakur, Madhya Pradesh, Indore
मध्य प्रदेश की पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर(फोटो सोर्स: फेसबुक/फाइल)।

मध्य प्रदेश की पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर का एक बयान इन दिनों काफी सुर्खियों में हैं। बता दें कि उषा ठाकुर इंदौर में कोरोना के बढ़ते खतरे पर सावधानी को लेकर कहा कि टंट्या मामा की ताबीज पहनने से बीमारियां नहीं होंगी। उनके मुताबिक टंट्या मामा की ताबीज लोगों को स्वस्थ रखती है।

गौरतलब है कि मध्य प्रदेश की सियासत में 2023 के चुनाव से पहले आदिवासी वोट बैंक को लेकर गरमाई सियासत के बीच जननायक क्रांतिकारी टंट्या मामा को लेकर उषा ठाकुर का बयान चर्चा में हैं। दरअसल 4 दिसंबर को टंट्या मामा के बलिदान दिवस पर महू के पातालपानी में एक बड़े आयोजन की तैयारियां चल रही हैं। इसी मौके पर शिवराज सरकार में मंत्री ने यह बयान दिया।

इसके पहले भी कोरोना को लेकर दिया था बयान: बता दें कि कोरोना के खतरनाक वेरिएंट ओमिक्रॉन को लेकर बढ़ी सतर्कता के बीच ताबीज से बीमारियों से दूर रहने को लेकर मंत्री उषा ठाकुर का बयान अपने आप में अनूठा है। इससे पहले उषा ठाकुर ने कोरोना की दूसरी लहर में कहा था कि हनुमान चालीसा का पाठ करने से संक्रमण नहीं होगा।

देशभर में अलर्ट: कोरोना वायरस के नये वेरिएंट ओमिक्रॉन के चलते केंद्र सरकार ने सभी राज्यों और केंद्र शासित राज्यों को सतर्क रहने की सलाह दी है। गौरतलब है कि कोरोना के इस नए वेरिएंट को लेकर वैज्ञानिकों का कहना है कि यह अब तक का सबसे घातक और संक्रामक वेरिएंट है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस ओमिक्रॉन वेरिएंट में करीब 32 म्यूटेशन देखे गए हैं, जिसके कारण डब्ल्यूएचओ की चिंता अधिक बढ़ गई है।

इस वेरिएंट के लक्षणों की बात करें तो वैज्ञानिकों का कहना है कि बी.1.1.1.529 वेरिएट के सामान्य लक्षण ही हैं। कोरोना के बाकी लक्षणों की तरह ही इससे संक्रमित लोगों में समस्याएं हो रही हैं। ओमिक्रॉन वेरिएंट में, सांस लेने में तकलीफ, स्वाद और गंध की क्षमता खो जाना, खांसी, गले में खराश और बुखार जैसे लक्षण देखने को मिल रहे हैं।

वैक्सीन पर भी बेअसर माने जा रहे इस वेरिएंट को लेकर WHO की तरफ से कहा गया है कि बिना मास्क के घर से बाहर ने निकले और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। अपने हाथों को साफ करते रहें।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।