ताज़ा खबर
 

मध्यप्रदेश से राज्यसभा के लिए प्रियंका के नाम आने के बाद दिग्विजय, ज्योतिरादित्य सिंधिया की राह मुश्किल, ये है पूरा समीकरण

राज्यसभा की तीन सीटों के लिए कांग्रेस की तरफ से पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह जबकि भाजपा की तरफ से प्रभात झा और सत्यनारायण जाटिया के नाम सामने आ रहे हैं। वहीं, कांग्रेस के नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया और लोक निर्माण विभाग मंत्री सज्जन सिंह वर्मा के बीच भी मुकाबला है।

Author Edited By Anil Kumar भोपाल | Published on: February 19, 2020 8:23 AM
राज्यसभा के लिए कांग्रेस के दिग्विजय सिंह का दावा मजबूत नजर आ रहा है। (फाइल फोटोः पीटीआई)

मध्यप्रदेश से राज्यसभा के तीन सदस्यों का कार्यकाल इस साल 9 अप्रैल को खत्म हो रहा है। इसके बाद एक बार फिर से कांग्रेस और भाजपा में राज्यसभा में इन सीटों के लिए कई नेताओं के बीच मुकाबला होगा। राज्यसभा के लिए अचानक प्रियंका गांधी को भेजे की मांग के बाद एक सीट के लिए पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच मुकाबला होने की संभावना है।

वहीं भाजपा की तरफ से भी नेताओं के नाम पर माथापच्ची जारी है। इन सीटों के लिए कांग्रेस की तरफ से पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह जबकि भाजपा की तरफ से प्रभात झा और सत्यनारायण जाटिया के नाम सामने आ रहे हैं। वहीं, कांग्रेस के नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया और लोक निर्माण विभाग मंत्री सज्जन सिंह वर्मा के बीच भी मुकाबला है। सज्जन सिंह वर्मा को मुख्यमंत्री कमलनाथ का करीबी माना जाता है।

16 साल में यह पहली बार होगा कि जब राज्यसभा के लिए चुनाव के दौरान भाजपा विपक्ष में होगी। मौजूदा गणित के हिसाब से कांग्रेस के खाते में दो और भाजपा के खाते में एक सीट जाने की संभावना है। जीतने के लिए फर्स्ट प्रिफरेंस के 58 वोट की जरूरत होगी। 230 सदस्यों वाली विधानसभा में दो विधायकों के निधन के बाद उनकी जगह रिक्त है।

कांग्रेस के पास वर्तमान में 114 जबकि भाजपा के पास 107 विधायक हैं। कमलनाथ सरकार को चार निर्दलीय, बसपा के दो और सपा के एक विधायक का भी समर्थन हासिल है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 कर्नाटक में सीएम पद से हटाए जाएंगे 77 वर्षीय येदियुरप्पा? पार्टी के असंतुष्ट विधायकों ने की पूर्व सीएम शेट्टार से मुलाकात
2 मोदी सरकार ने राष्ट्रपति के सचिव को बनाया CVC, नियुक्ति पर बढ़ा विवाद, सर्च कमेटी के सदस्य पर उठाए सवाल
3 विदेशी करार दी गईं असम की जबीदा बेगम को हाई कोर्ट ने भी नहीं माना भारतीय, अब सुप्रीम कोर्ट में दिखाना होगा कागज