मध्य प्रदेश: किडनैपर समझ कर तीन कांग्रेस नेताओं को जमकर पीटा, तोड़ डाली गाड़ी

पुलिस ने कहा है कि ‘गांववासियों ने उन्हें किडनैपर समझ लिया और उनके साथ मारपीट की। गांववासी यही नहीं रुके और उन्होंने उनकी कार को भी तोड़ दिया। मामले में बैतूल पुलिस ने केस दर्ज कर लिया गया है और जांच की जा रही है।’

Trinamul, East Midnapore, cut money, hindi news, latest news, national news, jansatta news
तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फाइल फोटो)

मध्य प्रदेश में तीन कांग्रेस नेताओं को किडनैपर समझकर भीड़ ने जमकर पीटा। इस दौरान उनकी गाड़ी के साथ भी तोड़फोड़ की गई। मामला मध्य प्रदेश के बैतूल स्थित नवल सिंग ढाना रोड का है। भीड़ ने बीते कुछ दिनों से इलाके में फैली बच्चों की किडनैपिंग की अफवाह के आधार पर नेताओं को पीटा। हालांकि पुलिस ने मौके पर पहुंचकर स्थिति को संभाला और तीनों नेताओं को भीड़ के चंगुल से बचा लिया।

पुलिस के मुताबिक कांग्रेस नेता धर्मेंद्र शुक्ला, जनपद सदस्य धरमू सिंग लांजीवार और आदिवासी कोरकु समाज के तहसील अध्यक्ष ललित बारस्कर रात में करीब साढ़े ग्यारह बजे कार में सवार होकर केसिया गांव से लौट रहे थे। इस दौरान उन्होंने रास्ते में कुछ झाड़िया पड़ी हुई देखी। उन्होंने लूट की आशंका को देखते हुए अपनी कार को वापस मोड़ लिया। इस बीच घात लगाए बैठे गांववासी वहां आ गए और उन्हें जमकर पीटा और उनकी कार पर भी हमला किया। दरअसल गांववासियों ने ही एक सड़क पर  झाड़ियां गिराकर रोड़ को ब्लॉक कर दिया था।

सीनियर पुलिस अधिकारी राम स्नेही मिश्रा ने बताया ‘गांववासियों ने उन्हें किडनैपर समझ लिया और उनके साथ मारपीट की। गांववासी यही नहीं रुके और उन्होंने उनकी कार को भी तोड़ दिया। मामले में बैतूल पुलिस ने केस दर्ज कर लिया गया है और जांच की जा रही है।’

मालूम हो कि बीते एक हफ्ते के दौरान मध्य प्रदेश में बच्चा चोरी की अफवाह के आधार भीड़ द्वारा मारपीट के एक दर्जन मामले सामने आए हैं। इनमें तीन केस बैतूल के ही जहां पर तीनों कांग्रेस नेताओं को पीटा गया। वहीं बाकी बचे केस इंदौर, भोपाल, होशांगाबाद, सीहोर, नीमच, रायसेन और देवास से सामने आए हैं। देवास के मामले में अगर पुलिस मौके पर नहीं पहुंचती तो भीड़ द्वारा एक अपाहिज महिला को किडनैपर समझकर भीड़ पीट-पीटकर मार डालती। महिला की दिमागी हालात भी ठीक नहीं है।

अपडेट