ताज़ा खबर
 

कॉमेडियन मुनव्वर फारूकी को नहीं मिली जमानत, कोर्ट ने कहा- भगवान राम और सीता पर करते हैं भद्दे मजाक

गौरतलब है कि इससे पहले जिला अदालत के एक मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट और इसके बाद एक सत्र न्यायाधीश फारुकी की जमानत अर्जियां दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद खारिज कर दी थीं।

Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र इंदौर | Updated: January 28, 2021 12:59 PM
मुनव्वर फारूकी को 1 जनवरी को इंदौर पुलिस ने भाजपा विधायक एकलव्य गौड़ (बाएं) की शिकायत के बाद गिरफ्तार किया था।

हिंदू देवी-देवताओं को लेकर कथित आपत्तिजनक टिप्पणियों के मामले में गुजरात के हास्य कलाकार मुनव्वर फारुकी की जमानत याचिका मध्यप्रदेश हाईकोर्ट ने खारिज कर दी है। कोर्ट ने सोमवार को ही इस मामले में फैसला सुरक्षित रख लिया था। सुनवाई के दौरान एमपी हाईकोर्ट की इंदौर बेंच ने कहा कि अब तक जितने भी सबूत इकट्ठा किए गए हैं उनसे सामने आया है कि याचिकाकर्ता ने स्टैंड-अप कॉमेडी शो के बहाने जानबूझकर कुछ नागरिकों की धार्मिक भावनाओं को आहत किया था।

जमानत याचिका खारिज करते हुए जज ने कहा कि शिकायतकर्ता के वकील के चुनिंदा अभिकथन से साफ है कि याचिकाकर्ता (मुनव्वर फारूकी) और मामले में सहआरोपियों ने सोशल मीडिया पर पिछले 18 महीनों में कथित तौर पर हिंदू देवी-देवताओं, भगवान श्रीराम और देवी सीता पर भद्दे जोक्स बनाए। जबकि इसके खिलाफ सोशल मीडिया पर विरोध भी दर्ज कराए गए। जबकि इसके उलट कुछ भी रिकॉर्ड में मौजूद नहीं है।

गौरतलब है कि इससे पहले जिला अदालत के एक मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट और इसके बाद एक सत्र न्यायाधीश फारुकी की जमानत अर्जियां दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद खारिज कर दी थीं। इसके बाद हास्य कलाकार ने जमानत पर रिहाई के लिए उच्च न्यायालय की शरण ली।

भाजपा विधायक के बेटे की शिकायत पर दर्ज हुआ था केस: पुलिस अधिकारियों के मुताबिक स्थानीय भाजपा विधायक के बेटे एकलव्य सिंह गौड़ ने फारुकी और हास्य कार्यक्रम के आयोजन से जुड़े चार अन्य लोगों के खिलाफ तुकोगंज पुलिस थाने में एक जनवरी की रात मामला दर्ज कराया था। विधायक के बेटे का आरोप है कि शहर के एक कैफे में एक जनवरी की शाम आयोजित इस कार्यक्रम में हिंदू देवी-देवताओं, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और गोधरा कांड को लेकर अभद्र टिप्पणियां की गई थीं।

चश्मदीदों के मुताबिक एकलव्य अपने साथियों के साथ बतौर दर्शक इस कार्यक्रम में पहुंचे थे। उन्होंने कथित आपत्तिजनक टिप्पणियों के विरोध में जमकर हंगामा किया और कार्यक्रम रुकवाने के बाद फारुकी समेत पांच लोगों को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया था। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि विवादास्पद कार्यक्रम को लेकर पांचों लोगों को भारतीय दंड विधान की धारा 295-ए और अन्य सम्बद्ध प्रावधानों के तहत गिरफ्तार किया गया था। बाद में इस कार्यक्रम के आयोजन में शामिल होने के आरोप में एक और व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया था।

Next Stories
1 हिंदू देवी-देवताओं के अपमान के आरोपी कॉमेडियन मुनव्वर फारुकी को जमानत नहीं, कोर्ट ने दूसरी बार खारिज की याचिका
2 राहुल का बयान साझा कर बोले दिग्विजय, भाजपा में जाते ही भ्रष्टाचारी हो जाते हैं ईमानदार, यूजर्स ने पूछा- मानते हैं कि कांग्रेस में सभी भ्रष्ट
3 कमलनाथ सरकार गिराने में नरेंद्र मोदी की अहम भूमिका थी, पर्दे के पीछे की बात बता रहा हूं- बोले बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय
ये पढ़ा क्या?
X