ताज़ा खबर
 

कार्यक्रम में देर से पहुंचे मंत्री तो गवर्नर ने लगाई फटकार, समय पर पाबंद रहने की दी नसीहत

मंत्री के देर से पहुंचने पर राज्यपाल भी देरी से कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे।

Teacher honor ceremony, Bhopal News , Governor Lalji Tandon, madhya pradesh governor, teachers day eventगवर्नर लाल जी टंडन ने उन्हें मंच से ही फटकार लगाई। फोटो: इंडियन एक्सप्रेस

मध्य प्रदेश में एक कार्यक्रम में मंत्री देर से पहुंचे तो गवर्नर लाल जी टंडन ने उन्हें मंच से ही फटकार लगाई। इसके साथ ही उन्होंने मंत्रियों को समय के प्रति पाबंद रहने की नसीहत भी दी। मामला भोपाल के एक स्कूल में आयोजित शिक्षक दिवस कार्यक्रम का है। यहां मंत्री के देर से पहुंचने पर राज्यपाल भी देरी से कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे। दरअसल कार्यक्रम में मंत्री के समय पर नहीं पहुंचने से प्रमुख सचिव समय पर राजभवन नहीं पहुंच पाईं।

प्रोटोकॉल के तहत स्कूल शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव को मंत्रियों के साथ राजभवन पहुंचकर राज्यपाल को स्कूल तक लाने की जिम्मेदारी दी गई थी। राज्यपाल 2 बजकर 30 मिनट पर ही तैयार होकर बैठ गए थे और उन्हें तीन बजे तक कार्यक्रम के लिए पहुंचना था। लेकिन 2 घंटे तक कोई राजभवन नहीं पहुंचा। हालांकि इतनी देरी के बावजूद लालजी टंडन कार्यक्रम में शामिल हुए।

उन्होंने कहा ‘अगर वह (मंत्री) समय की पाबंदी न करे तो लगता है कि उस कुर्सी पर जो बैठा है…कोई भी है। वो समाज को कोई अच्छी प्रेरणा नहीं दे रहा है। तीन बजे तक मेरे यहां जो राजभवन के कर्मचारी आए उन्होंने मुझसे कहा कि अभी तक कोई आया नहीं है। जबकि मेरा कार्यक्रम मिनट टू मिनट का था।’

उन्होंने आगे कहा ‘काफी देर इंतजार करने के बाद मैंने सोच लिया था कि अब कार्यक्रम में जाने का कोई फायदा नहीं। लेकिन फिर मैंने सोचा शिक्षक दिवस के मौके पर इतने टीचरों के सम्मान का सवाल है। मैंने अपना मन बदला और कार्यक्रम में शिरकत की। हालांकि मंच से राज्यपाल की फटकार के बाद स्कूल शिक्षा मंत्री डॉ. प्रभुराम चौधरी और भोपाल के प्रभारी मंत्री डॉ. गोविंद सिंह ने उनसे माफी मांगी।

Next Stories
1 योगी आदित्यनाथ का हेलिकॉप्टर देखने में मची अफरा तफरी, भगदड़ में एक की मौत
2 सेंट्रल आर्म्ड फोर्सेज को गृह मंत्रालय की सख्त हिदायत, सोशल मीडिया पर न करें आवाज बुलंद, वर्ना…
3 बीजेपी पर नीतीश कुमार का तंज- दो तिहाई से ज्यादा समय तक रही आपकी सरकार पर राज्य आगे क्यों नहीं बढ़ा?
ये पढ़ा क्या?
X