ताज़ा खबर
 

MP: महिलाओं को नहीं मिली मजदूरी तो CM शिवराज को बना दिया ‘फुटबॉल’

मध्य प्रदेश में इस साल विधानसभा के चुनाव होने हैं। जानकारों का कहना है कि चुनाव से पहले इस तरह के वाकये वाकई में जाहिर करते हैं कि शिवराज सरकार से लोग खुश नहीं हैं।

खंडवा में महिला किसानों ने विरोध का यह अनोखा तरीका अपनाया। (फोटोः टि्वटर)

मध्य प्रदेश में महिलाओं को मजदूरी नहीं मिली तो उन्होंने राज्य सरकार के खिलाफ विरोध जताने का अनूठा तरीका अपनाया। सोमवार (नौ जुलाई) को पीड़िताओं ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की तस्वीर की कटिंग फुटबॉल पर लगाकर जमकर उसमें किक मारीं। महिलाओं का कहना था, “सरकार ने जैसे आम लोगों को फुटबॉल बनाकर लात मारी, उस तरह हम भी चुनाव में उन्हें किक जड़ेंगे।” महिला इस खेल के जरिए जब विरोध जता रही थीं, तो उस दौरान आस-पास में मौजूद लोगों ने उनका फोटो खींच लिए थे।

मंगलवार (10 जुलाई) को यही तस्वीरें टीवी न्यूज चैलनों और सोशल मीडिया के माध्यम से सामने आई हैं। यह मामला खंडवा जिले का है, जहां पर रेशम उत्पादक किसान सात दिनों से धरने पर हैं। आरोप है कि चार सालों पहले महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (मनरेगा) के अंतर्गत उन्होंने रेशम कीट उत्पादन के लिए पेड़ लगाए थे, पर अभी तक उन्हें मजदूरी नहीं चुकाई गई है।

Shivraj Singh Chauhan, Issue of Terrorism, India is Different, No One will be Spared, Shivraj Singh Chauhan Statement, Today India, Shivraj Singh Chauhan in America, madhya pradesh cm, madhya pradesh cm in USA, National News, Jansatta मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (फाइल फोटो)

महिला किसानों ने इसी के विरोध में सीएम शिवराज की तस्वीर फुटबॉल पर चिपकाई और किक लगाकर अपनी भड़ास निकाली। घटना की जानकारी कुछ देर बाद पुलिस को मिली, जिसके बाद प्रदर्शनकारियों को वैसा करने से मना किया गया। आपको बता दें कि मध्य प्रदेश में इस साल विधानसभा के चुनाव होने हैं। जानकारों का कहना है कि चुनाव से पहले इस तरह के वाकये वाकई में जाहिर करते हैं कि शिवराज सरकार से लोग खुश नहीं हैं।

हालांकि, सीएम ने हाल ही में बड़ा दावा किया था मध्य प्रदेश के शहर अमेरिका के शहरों से भी अच्छे बनाए जाएंगे। सागर में एक कार्यक्रम में वह बोले, “सरकार निरंतर प्रयास कर रही है। शहरों को संवारने का काम जारी है।” शिवराज ने पिछले साल प्रदेश की सड़कों को यूएस से बेहतर बताया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App