X

सर्जिकल स्ट्राइक की योजना बनाने वाले अफसर ने तोड़ी चुप्पी, कहा- पाकिस्तान के पलटवार की थी आशंका

लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) हूडा ने कहा, "जब एलओसी के पार सर्जिकल स्ट्राइक करके अलग-अलग टुकड़ियों के वापस आने की खबर मिलना शुरू हुई तो उससे जो खुशी मिली थी वो असीम थी।"

पिछले साल नियंत्रण रेखा (एलओसी) पार करके पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में सर्जिकल स्ट्राइक की योजना और क्रियान्वयन के जिम्मेदार लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) डीएस हूडा ने पहली बार अपनी चुप्पी तोड़ी है। लेलेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) हूडा ने इंडियन एक्सप्रेस से बात बात करते हुए कहा, “एक ही रात में अपनी तरह के अलहदा अलग-अलग लक्ष्यों को निशाना बनाना काफी जटिल था।” लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) हूडा सर्जिकल स्ट्राइक के समय सेना की उत्तरी कमान के प्रमुख थे। लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) हूडा ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, “हुआ ये कि हम कई जगहों से एलओसी के पार पाकिस्तान के 10 कार्प्स (इलाके) में गये और उन्हें भौंचक्का कर दिया।” लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) हूडा ने कहा कि सेना का अभियान पूरी तरह सफल रहा था। लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) हूडा ने कहा, “उस अभियान को दोबार करना हुआ तो भी मैं उसमें कुछ बदलाव नहीं करूंगा।”

लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) हूडा ने कहा, “हमें आतंकवादियों को मारना था लेकिन सौ आतंकवादियों को मारने के बाद भी अगर हमारा कोई सैनिक पीछे छूट जाता तो ये हमारी विफलता होती।” लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) हूडा ने कहा कि अभियान की सबसे अहम उपलब्धि ये नहीं थी कि कितने आंतकवादी मारे गये बल्कि हमारे सभी सैनिकों का सुरक्षित वापस आना हमारी बड़ी सफलता थी।” लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) हूडा  ने बताया कि सर्जिकल स्ट्राइक कई घंटों तक चली थी। लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) हूडा  ने कहा, “जब हमारा आखिरी सैनिक वापस आया तब तक पौ फट चुकी थी।”

लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) हूडा  ने माना कि भारतीय सेना ने अभियान 28-29 सितंबर 2016 की रात को किया था। लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) हूडा  ने कहा, “जब एलओसी के पार सर्जिकल स्ट्राइक करके अलग-अलग टुकड़ियों के वापस आने की खबर मिलना शुरू हुई तो उससे जो खुशी मिली थी वो असीम थी।” लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) हूडा  ने कहा कि भारतीय सेना को सर्जिकल स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान द्वारा “बदले की कार्रवाई किए जाने की आशंका” थी। लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) हूडा ने कहा, “जब पाकिस्तान सर्जिकल स्ट्राइक होने की बात से इनकार कर दिया तो हम समझ गये कि नैतिक रूप से हम जीत गये हैं।”

लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) हूडा  ने कहा कि भारतीय सेना जरूरत पड़ने पर भविष्य में भी सर्जिकल स्ट्राइक कर सकती है। लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) हूडा  ने कहा, “बेहद विपरीत परिस्थितियों में जटिल कार्रवाई करने को लेकर स्पेशल फोर्सेज का आत्मविश्वास काफी बढ़ गया है।”