Lord Ram should not be linked with religion: Vice president - Jansatta
ताज़ा खबर
 

किसी धर्म और जाति से न जोड़ें राम को: उपराष्ट्रपति

स्थापना दिवस के 67 साल बाद बुधवार को उत्तर प्रदेश दिवस मनाया गया। कार्यक्रम उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू, राज्यपाल राम नाइक और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अगुआई में संपन्न हुआ।

Author January 25, 2018 12:51 AM
उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू

उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू ने राम को किसी धर्म या जाति से न जोड़ कर देखने की बात कही। उन्होंने कहा कि लोग राम के बारे में चर्चा करते हैं। उन्हें किसी मजहब से नहीं जोड़ा जाना चाहिए। हमें राम का अर्थ जानना होगा। रामराज का अर्थ शांति फैलाना और जातिगत लड़ाई से दूर रहना है। ’उपराष्ट्रपति ने कहा कि यहां बहुत से लोगों के पास बंदूकें हैं। उन्होंने शस्त्र लाइसेंस धारियों से कहा कि वे अपनी बंदूकें वापस कर दें। उन्होंने सवाल किया कि आखिर बंदूकों की जरूरत है क्यों। प्रदेश में खस्ताहाल कानून व्यवस्था का हवाला देकर विपक्ष के हाथों घिर रही योगी सरकार का उपराष्ट्रपति  ने बचाव किया। उन्होंने कहा, उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था पिछली सरकारों से बेहतर हो रही है।

स्थापना दिवस के 67 साल बाद बुधवार को उत्तर प्रदेश दिवस मनाया गया। कार्यक्रम उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू, राज्यपाल राम नाइक और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अगुआई में संपन्न हुआ। इस अवसर पर उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू ने राम को किसी धर्म या जाति से न जोड़ कर देखने की बात कही। उन्होंने कहा कि लोग राम के बारे में चर्चा करते हैं। उन्हें किसी मजहब से नहीं जोड़ा जाना चाहिए। हमें राम का अर्थ जानना होगा। रामराज का अर्थ शांति फैलाना और जातिगत लड़ाई से दूर रहना है। समारोह में 23 हजार करोड़ रुपए की विभिन्न योजनाओं का शिलान्यास हुआ। समारोह में मुख्यमंत्री ने एक जिला-एक उद्योग की शुरुआत की। इसके तहत राज्य के सभी जिलों में उसकी पहचान के साथ जुड़े उद्योगों को नई गति देने की योजनाएं योगी सरकार ने तैयार की हैं। इन योजनाओं के तहत लाखों लोगों को रोजगार देने की तैयारी है।

उपराष्ट्रपति ने कहा कि यहां बहुत से लोगों के पास बंदूकें हैं। उन्होंने शस्त्र लाइसेंसधारियों से कहा कि वे अपनी बंदूकें वापस कर दें। उन्होंने सवाल किया कि आखिर बंदूकों की जरूरत है क्यों। प्रदेश में खस्ताहाल कानून व्यवस्था का हवाला देकर विपक्ष के हाथों घिर रही योगी सरकार का उपराष्ट्रपति ने बचाव किया। उन्होंने कहा, उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था पिछली सरकारों से बेहतर हो रही है। इसे सर्वश्रेष्ठ होना होगा। उन्होंने कहा कि अब उत्तर प्रदेश ने खुद को बीमारू राज्य से बाहर निकालने की तरफ कदम बढ़ा दिया है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पिछली सरकार पर चुटकी लेते हुए कहा, अवध शिल्प ग्राम बहुत अच्छा बना है। लेकिन पहले किसी अधिकारी को यह पता ही नहीं था कि इस स्थान का उपयोग क्या करना है?

अधिकारियों ने मुझे सुझाव दिया कि इस स्थान का उपयोग विवाह समारोह में किराए पर देकर किया जा सकता है जिससे मुनाफा होगा। इस सोच पर मुझे हंसी आई। एक जिला एक उद्योग का शुभारंभ करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि अब उत्तर प्रदेश के नौजवानों को रोजगार के लिए कहीं जाने की आवश्यकता नहीं है। हम जिस राज्य से हैं, उसका असीमित सामर्थ्य है। हम इस राज्य को देश के अग्रणी प्रदेशों में शुमार कर ही दम लेंगे। कई जिले ऐसे हैं जहां अभी तक बुनियादी सुविधाओं का अभाव है। वहां आवास सहित कई सुविधाओं और योजनाओं को लेकर प्रदेश सरकार पहुंच रही है।
राज्यपाल राम नाइक ने कहा कि 24 जनवरी 1950 को इस राज्य को उत्तर प्रदेश नाम मिला। उन्होंने कहा कि मैंने पिछली सरकार के मुख्यमंत्री से उत्तर प्रदेश दिवस मनाने को कहा, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App