ताज़ा खबर
 

‘जय श्री राम’ को JSR कह रहे थे ओवैसी के नेता, एंकर का तंज- कहीं पार्टी आपको निकाल न दे

एंकर ने AIMIM प्रवक्ता को हल्की सी मुस्कान के साथ तीन बार टोका, "जेएसआर क्या?" एआईएमआईएम प्रवक्ता बोले- आप तो समझ ही रही हैं। जय श्री...। आपको तो मतलब पता ही है, आप मेरे मुंह में अलफाज क्यों डाल रही हैं?

AIMIM प्रवक्ता वारिस पठान (फाइल फोटोः FB/warispathanmla)

असदुद्दीन ओवैसी के नेतृत्व वाली AIMIM के प्रवक्ता वारिस पठान “जय श्रीराम” बोलने से बचते नजर आए। गुरुवार को एक टीवी न्यूज डिबेट में वह इस नारे के लिए शॉर्ट फॉर्म का इस्तेमाल कर रहे थे। एक बार नहीं बल्कि कई बार उन्होंने इसे जेएसआर (JSR) कहा। टोकने के बाद भी उनकी जुबान पूरे नारे के लफ्ज न आए, जिसपर एंकर ने तंज कसते हुए कहा कि कहीं पार्टी निकाल न दे।

दरअसल, यह वाकया हिंदी चैनल “आज तक” से जुड़ा है। हल्ला बोल नाम के परिचर्चा आधारित कार्यक्रम में यूपी के लोनी में मुस्लिम बुजुर्ग की पिटाई के मामले पर बात हो रही थी। शो में एक पल ऐसा आया, जब एंकर अंजना ओम कश्यप ने पूछा कि जांच पुलिस करेगी या हैदराबाद में होगी? पठान बोले- पहले एक वीडियो आया, जिसमें बुजुर्ग की पिटाई और दाढ़ी काटने की घटना है। जो भी इसमें शामिल थे, उनके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई हो। दूसरा वीडियो आता है, जिसमें किसी पार्टी का एक पार्टी नेता है। फेसबुक लाइव में अब्दुल समद (जिन्हें मारा-पीटा गया) खुद आकर बोलते हैं कि उन्हें दो बजे से शाम सात बजे तक मारा गया। मुझे जेएसआर बोलने पर मजबूर किया गया। वह वीडियो सबके सामने आया। काफी शेयर किया गया…।

इसी पर एंकर ने उन्हें हल्की सी मुस्कान के साथ तीन बार टोका, “जेएसआर क्या?” एआईएमआईएम प्रवक्ता बोले- आप तो समझ ही रही हैं। जय श्री…। आपको तो मतलब पता ही है, आप मेरे मुंह में अलफाज क्यों डाल रही हैं?

अंजना ने आगे तंज कसते हुए कहा, “हां, मुझे मालूम है…पार्टी कहीं निकाल न दे। पार्टी फिर आपको बोल दे कि प्रवक्ता नहीं बन सकते हैं।” पठान ने जवाब दिया- हमारे यहां कोई नहीं निकालता। हमारी पार्टी संविधान को यकीन में रखकर चलती है। पार्टी का ऐसा कुछ नहीं है, पर…। देखें, आगे क्या हुआः

Next Stories
1 कविता ‘शव वाहिनी गंगा’ की तारीफ करने वाले ‘साहित्यिक नक्सल’- गुजरात साहित्य अकादमी प्रमुख ने लिखा; लामबंद हुईं 169 साहित्यिक हस्तियां
2 धर्मेंद्र प्रधान मेहरबानी कर रहे…आप पैसे बचा नहीं सकते इसलिए तेल के दाम बढ़ा बचत कर रहे…रवीश कुमार का तंज
3 अयोध्या: ट्रस्ट की जमीन के बगल में दूसरी जमीन की कीमत में भी मिला अंतर, दोनों सौदों में गवाह हैं रवि मोहन तिवारी
ये पढ़ा क्या?
X