ताज़ा खबर
 

Jansatta Coverage of Election Results 2019: बीजेपी की प्रचंड जीत का क्या था फॉर्मूला? ‘गणितज्ञ’ मोदी ने बताया

Lok Sabha Election/Chunav Results 2019: प्रचंड मोदी लहर की वजह से बीजेपी को इस बार कुल 303 सीटों पर जीत मिली है।

Election Results 2019: तस्वीर का प्रयोग प्रतीकात्मक तौर पर किया गया है।

Lok Sabha Election Results 2019:  प्रधानमंत्री नेरंद्र मोदी ने लोकसभा में भारी जीत के लिए देश की जनता को बधाई दी है। उन्होंने इस जीत को भारत की जीत करार दिया है। मोदी ने खालिस गणित के अंदाज में जीत की समिक्षा कर डाली। उन्होंने ट्वीट करके बताया, ” सबका साथ+ सबका विकास+ सबका विश्वास= विजयी भारत”- मोदी के इस ट्वीट का मतलब है कि जनता ने उनके ‘सबका साथ, सबका विकास’ के नारे पर भरोसा दिखाया है। प्रधानमंत्री मोदी ने इसके आगे ट्वीट में क्रमवार ढंग से अपने अगले पांच साल का उद्देश्य भी सामने रख दिया है। उन्होंने ट्विट कर कहा, “हम एक साथ विकास करेंगे। एक साथ समृद्ध होंगे। हम सभी एक साथ मिलकर भारत को मजबूत राष्ट्र बनाएंगे। भारत फिर से जीत हासिल करेगा।”

Election Results 2019 LIVE Updates: यहां देखें नतीजे 

 नतीजे देख रो पड़े ‘एक्सिस माय इंडिया’ चीफ, एग्जिट पोल पर हो रही थी आलोचना: लोकसभा चुनाव के नतीजों के बाद साफ हो गया है कि इस दफे भी ‘नमो’ ब्रांड की सुनामी भीतर-भीतर देश में चल रही थी। हालांकि, भारतीय जनता पार्टी (BJP) के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) की बड़ी जीत की भविष्यवाणी लगभग सभी एग्जिट पोल में की गई थी। लेकिन, सभी एग्जिट पोल के मुकाबले ‘एक्सि माय इंडिया’ और ‘इंडिया टुडे’ की भविष्यवाणी सबसे सटिक लगभग 95 फीसदी सच हुई है। ऐसे जब चुनाव के रिजल्ट इंडिया टुडे पर दिखाए गए एग्जिट पोल से मेल खाने लगे, तब ‘एक्सि माय इंडिया’ के प्रमुख फूट-फूटकर रोने लगे। इंडिया टुडे पर कार्यक्रम के दौरान ही ‘एक्सि माय इंडिया’ के सीएमडी प्रदीप गुप्ता की आंखों में आंसू आ गए और वह रोने लगे। पढ़ें पूरी खबर..

देखें चुनाव मतगणना से संबंधित वीडियोज

 ‘मेरे मुंह पर जोरदार तमाचा पड़ा है’, चुनाव में मिली हार पर एक्टर Prakash Raj का ट्वीट वायरल: 17वीं लोकसभा के गठन के लिए वोटों की मतगणना जारी है। रुझानों और शुरुआती नतीजों को देखें तो एनडीए की प्रचंड जीत तय है। अभी तक आए नतीजों/परिणामों के हिसाब से एनडीए को 345 से ज्यादा सीटें मिलती दिख रही हैं। इन सबके बीच कर्नाटक की राजधानी बैंगलुरू से निर्दलीय चुनाव लड़े एक्टर प्रकाश राज की हार लगभग तय है। हालांकि खबर लिखे जाने तक परिणाम का ऐलान नहीं हुआ है लेकिन रुझानों में वो बहुत पीछे चल रहे हैं। अपनी हार देखते हुए प्रकाश राज ने एक ट्वीट किया है। इस ट्वीट में प्रकाश राज ने लिखा है- मेरे मुंह पर जोरदार तमाचा पड़ा है। और भी गालियां ट्रोलिंग और शर्मिंदगी मेरे रास्ते में आने वाली है। लेकिन मैं अपने रास्ते पर टिका रहूंगा। सेक्यूलर इंडिया के लिए जंग का मेरा प्रण कायम रहेगा। एक कठिन सफर की तो ये बस शुरुआत है। मेरे साथ अबतक के सफर में बने रहने वाले लोगों को शुक्रिया। जय हिंद। पढ़ें पूरी खबर..

बीजेपी के जश्‍न में पीएम मोदी का तड़का, शाम को बढ़ाएंगे भाजपाइयों का जोश: रुझानों में भाजपा को बहुमत मिलने के बाद बीजेपी में जश्‍न की तैयारियां शुरू हो गई हैं। जगह-जगह भाजपाइयों ने लड्डू बनने के ऑर्डर तो पहले ही दे दिए थे, अब आतिशबाजी, जुलूस आदि की तैयारी हो रही है। जगह-जगह भाजपा कार्यकर्ता सड़कों पर निकल गए हैं। शाम को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी दिल्‍ली में भाजपा मुख्‍यालय पहुंच कर देश भर के कार्यकर्ताओं का धन्‍यवाद करेंगे और उनका जोश बढ़ाएंगे। देश की तमाम जगहों में कहीं बीजेपी कार्यकर्ता ढोल नगाड़े के साथ जीत का जश्न मना रहे हैं तो कहीं आतिशबाजी करते दिख रहे हैं। बीजेपी पहले से ही अपनी जीत को लेकर आश्वत थी और मतगणना के नतीजों से भी साफ जाहिर है मोदी का पीएम बनना तया है। बताया जा रहा है कि इस साल के लोकसभा चुनावों में बीजेपी 2014 से भी ज्यादा सीटें ला रही है।..पढ़ें पूरी खबर

एनडीए को 340 के पार देख झूम उठा बाजार, सेंसेक्स में गजब उछाल: भारत में 17वीं लोकसभा के गठन के लिए 542 सीटों के लिए चल रही मतगणना में एनडीए 340 से ज्यादा सीटों पर बढ़त बनाए हुए है। वहीं, यूपीए को मात्र 85 सीटें ही मिलती दिख रही है। इन दोनों गठबंधन से इतर दलों को 117 सीटें मिलती दिख रही है। शुरूआती रूझान में एनडीए को बहुमत मिलता देख शेयर बाजार झूम उठा। पहले घंटे में सेंसेक्स में 600 अंकों की उछाल हुई। इन रुझानों में कांग्रेस पार्टी के लिए बेहद बुरी खबरें आई हैं। उनके अधिकतर बड़े नेता पीछे चल रहे हैं। ऐसे लोगों में राहुल गांधी से लेकर ज्योतिरादित्य सिंधिया और मल्लिकार्जुन खड़गे से लेकर दिग्विजय सिंह तक अपने प्रतिद्वंदियों से पीछे चल रहे हैं।

‘टुकड़े टुकड़े गैंग के टुकड़े टुकड़े हो गए’, फिल्ममेकर के ट्वीट पर लोग ले रहे मजे: मतगणना के रूझानों में बीजेपी की अगुवाई में एनडीए ने 337 का आंकड़ा छू लिया है। आंकड़ों को देखकर बीजेपी समर्थकों के खेमे में खुशी का माहौल है। ऐसे में एक जाने-माने फिल्ममेकर ने एक ट्वीट कर इशारों ही इशारों में विपक्ष पर निशाना साधा है। फिल्ममेकर अशोक पंडित अक्सर राजनीतिक मुद्दों पर सोशल मीडिया पर अपनी बात बेबाकी से रखते आए हैं। अशोक पंडित ने एक ट्वीट में लिखा- टुकड़े-टुकड़े गैंग के टुकड़े टुकड़े हो चुके हैं। हैशटैग के साथ अशोक पंडित ने लिखा मोदी आ गया। अशोक के इस ट्वीट पर बीजेपी समर्थक अपना रिएक्शन दे रहे हैं। एक यूजर ने लिखा- मोदी जी के प्रधानमंत्री बनने पर हार्दिक बधाई। वहीं एक अन्य यूजर लिखता है- हुआ तो हुआ। पढ़ें पूरी खबर..

 जय श्री राम नहीं बोला तो पीट डाला! TMC नेता ने BJP पर लगाया आरोप: पश्चिम बंगाल के मिदनापुर लोकसभा क्षेत्र के सलबोनी में तृणमूल कांग्रेस के नेता की ‘जय श्री राम’ न बोलने पर पिटाई कर दी गई। तृणमूल नेता कंचन चक्रवर्ती ने आरोप लगाया कि बीजेपी कार्यकर्ताओं ने उनके साथ मारपीट की। उन्होंने आरोप लगाया कि तृणमूल कांग्रेस ज्वॉइन करने पर उन्हें मारा गया। तृणमूल के सूत्रों के मुताबिक, एग्जिट पोल में बीजेपी की भारी जीत की आशंका के बीच बीजेपी कार्यकर्ता हतोत्साहित थे इस वजह से उन्होंने अपनी धाक जमाने की कोशिश की। मंगलवार रात 15 से 20 बीजेपी कार्यकर्ता सलबोली के भाधुताला गांव में कंचन चक्रवर्ती के घर में जबरन घुस गए और उनकी लोहे की रॉड से पिटाई कर दी।..पढ़ें पूरी खबर

2014 में मतगणना वाले दिन Modi का ये ट्वीट खूब हुआ था वायरल: 16 मई 2014 को जब नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी ने जीत दर्ज की थी। इस दौरान उन्होंने दोपहर 12 बजे एक ट्वीट किया था, जिसने इतिहास रच दिया था। नरेंद्र मोदी ने अपने ट्वीट में लिखा था- इंडिया की जीत हुई, भारत की विजय, अच्छे दिन आने वाले हैं। मोदी के इस ट्वीट को ट्विटर पर करीब 1 लाख से ज्यादा बार रि-ट्वीट किया गया था। वहीं इस ट्वीट को करीब 85 हजार लोगों ने लाइक किया था। पढ़ें पूरी खबर..

यूपी में 60 के पार बीजेपी: 80 लोकसभा सीटों वाले उत्तर प्रदेश में रुझान आने शुरू हो गए हैं। एबीपी न्यूज के मुताबिक, यूपी की 60 सीटों पर बीजेपी आगे हैं, जबकि 2 सीट पर कांग्रेस पर ने बढ़त बना रखी है। वहीं गठबंधन 17 सीटों पर आगे चल रहा है। देश की सियासत में यूपी को किंगमेकर माना जाता है। 80 लोकसभा सीटों वाले इस सूबे में मतगणना शुरू हो गई है। 2014 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने यहां की 80 में से 73 सीटें जीतकर खलबली मचा दी थी। विरोधी दलों के हालात इतने ज्यादा खराब थे कि सपा महज 5 सीटें जीत सकी तो कांग्रेस 2 सीटों पर ही सिमटकर रह गई। इसके अलावा बसपा खाता तक नहीं खोल पाई थी। 2019 के लोकसभा चुनाव में विरोधी दलों ने बीजेपी को कड़ी टक्कर देने की तैयारी की और कट्टर विरोधी सपा-बसपा एक साथ आ गए। आज (23 मई) ईवीएम में वोटों की गिनती के साथ ही यूपी की सियासी बिसात एक बार फिर बिछने के लिए तैयार है। यहां की 80 सीटों के सबसे तेज लाइव रिजल्ट के लिए Election Commission की आधिकारिक वेबसाइट्स eciresults.nic.in, eci.nic.in, eci.gov.in, या ceouttarpradesh.nic.in पर विजिट कर सकते हैं। पढ़ें पूरी खबर…

Loksabha Elections Result 2019 Constituency wise results

चुनाव आयोग के मुताबिक 280 के पार बीजेपी, जानिए ECI के रुझान/नतीजे: चुनाव आयोग की वेबसाइट के मुताबिक पीलीभीत से वरुण गांधी आगे चल रहे हैं तो वहीं दरभंगा सीच से भी बीजेपी प्रत्याशी गोपाल ठाकुर बढ़त बनाए हुए हैं। ECI के रुझानों के मुताबिक एनडीए बहुत के लगभग करीब पहुंच चुकी है। इसके रुझानों में बिहार के बेगूसराय से कन्हैया कुमार पीछे चल रहे हैं। राहुल गांधी को चुनाव आयोग की वेबसाइट पर स्मृति ईरानी से आगे दिखाया जा रहा है। बता दें कि लोकसभा चुनाव 2019 में किस पार्टी के सिर सजेगा सत्ता का ताज, ये कुछ ही देर में पता चल जाएगा। आज 17वीं लोकसभा के नतीजों (Election Result 2019) की घोषणा हो रही है। कौन सी राजनैतिक पार्टी अगले पांच सालों के लिए देश की बागडोर संभालेगी, इस पर सभी की निगाहें लगी हैं। हालांकि इस सारी कवायद के बीच चुनाव आयोग (Election Commission) की जिम्मेदारी काफी बढ़ गई है। सुरक्षित और निष्पक्ष मतदान के बाद देश की चुनावी संस्था पर मतगणना उचित तरीके से संपन्न कराने की भी जिम्मेदारी है। यही वजह है कि चुनाव आयोग ने इसके लिए पूरी तैयारी की है।

Follow live coverage on election result 2019. Check your constituency live result here.

जेल में हुए टॉर्चर की आपबीती सुना रो पड़ी थीं साध्वी प्रज्ञा, दिग्विजय सिंह से चल रहीं आगे: भोपाल से भाजपा उम्मीदवार साध्वी प्रज्ञा ठाकुर अपने विरोधी उम्मीदवार कांग्रेस के दिग्विजय सिंह से आगे चल रही हैं। दिग्विजय सिंह राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के राज्य सभा से सांसद हैं। भाजपा ने इस बार यहां से अपने मौजूदा सांसद आलोक संजर का टिकट काटकर मालेगांव बम धमाकों के आरोपी को उम्मीदवार बनाया था। साध्वी ने यहां जोरदार ढंग से चुनाव प्रचार किया था। भोपाल सीट पर देश भर की नजर टिकी हुई है। इस सीट से बीजेपी जहां हर हाल में जीत दर्ज करना चाहेगी वहीं कांग्रेस भी अपने बड़े चेहरे को हारता कभी नहीं देखना चाहेगी। बता दें कि साध्वी पहली बार लोकसभा का चुनाव लड़ रही है। पढ़ें पूरी खबर..

Loksabha Elections Result 2019 Constituency wise results

नए सांसद नहीं ले पाएंगे फाइव स्टार होटल का मजा: 17वीं लोकसभा में जीतकर आने वाले किसी भी नए सांसद को होटल में नहीं ठहराया जाएगा। इनके लिए वेस्टर्न कोर्ट सहित अलग- अलग राज्यों के भवन में व्यवस्था की गई है। बुधवार को लोकसभा महासचिव स्रेहलता श्रीवास्तव ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि इन स्थानों पर करीब तीन सौ कमरे आरक्षित किए गए हैं। इस कदम को सांसदों को होटल में ठहराने पर होने वाले भारी भरकम खर्चों में कटौती से जोड़कर देखा जा रहा है। लोकसभा महासचिव ने बताया, ‘‘ लोकसभा के नवनिर्वाचित सदस्यों को अस्थायी तौर पर होटलों में ठहराने की पुरानी व्यवस्था समाप्त कर दी गयी है। नव निर्वाचित सांसदों को होटलों की बजाय वेस्टर्न कोर्ट, नवनिर्मित एनेक्सी भवन और विभिन्न राज्यों के भवनों में ठहराया जाएगा ।’’ उन्होंने बताया कि अभी करीब 250 सांसदों के ठहरने की व्यवस्था की गई है। जब तक उन्हें स्थायी आवास नहीं मिल जाते हैं तब तक उनके लिये अस्थायी रूप से ठहरने की व्यवस्था की गई है। पढ़ें पूरी खबर..

हिंदी भाषी राज्यों में भाजपा शानादर जीत की ओर: देश के हिंदी भाषी राज्यों में बीजेपी ने शानदार बढ़ात बनाई हुई है। इन राज्यों से भाजपा को जैसे प्रदर्शन की उम्मीद थी रुझान भी उसी तरफ इशारा कर रहे हैं। यूपी के वाराणसी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमेठी में स्मृति ईरानी कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से आगे चल रही हैं। देशभर की 543 लोकसभा सीटों में से 542 सीटों पर चुनाव हो चुके हैं। बता दें कि हिंदी हार्टलैंड कहे जाने वाले क्षेत्र को सियासी लिहाज से बेहद महत्वपूर्ण माना जाता है। यहां की 199 सीटों के सबसे तेज लाइव रिजल्ट के लिए Election Commission की आधिकारिक वेबसाइट्स eciresults.nic.in, eci.nic.in, eci.gov.in, , ceomadhyapradesh.nic.in, ceojharkhand.nic.in, ceorajasthan.nic.in, ceobihar.nic.in, ceochhattisgarh.nic.in या ceouttarpradesh.nic.in पर विजिट कर सकते हैं। पढ़ें पूरी खबर..

निरहुआ या अखिलेश? जानिए कौन जीत रहा आजमगढ़ की सीट: आजमगढ़ सीट सपा का गढ़ मानी जाती है, क्योंकि यह यादव बाहुल्य इलाका है। 2014 की प्रचंड मोदी लहर में भी मुलायम सिंह यादव इस सीट को बचाने में कामयाब रहे थे। इस बार अखिलेश अपने पिता की जगह इस सीट से मैदान में उतरे हैं और जीत की उम्मीद लगाए बैठे हैं। वहीं, बीजेपी ने निरहुआ को मैदान में उतारकर स्टारडम का दांव खेला है। इसके अलावा निरहुआ तो मुलायम सिंह यादव का सपना देखने का भी दावा कर चुके हैं। यहां के सबसे तेज लाइव रिजल्ट के लिए Election Commission की आधिकारिक वेबसाइट्स eciresults.nic.in, eci.nic.in, eci.gov.in, या ceouttarpradesh.nic.in पर विजिट कर सकते हैं। क्लिक कर पढ़ें पूरी खबर..

राहुल गांधी ने कार्यकर्ताओं से कहा फर्जी एक्जिट पोल से निराश ना होंः लोकसभा चुनाव के नतीजों से पहले आए विभिन्न एग्जिट पोल में भाजपा नीत राजग को बहुमत मिलने का अनुमान जताया गया है। इसी बीच कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को पार्टी कार्यकर्ताओं को कहा कि कि वे ‘फर्जी एग्जिट पोल’ से निराश नहीं हों और सतर्क रहें। उन्होंने यह भी कहा कि कांग्रेस के लोग खुद और पार्टी पर विश्वास रखें क्योंकि उनकी मेहनत बेकार नहीं जाएगी। गांधी ने ट्वीट कर कहा, ‘‘कांग्रेस पार्टी के प्रिय कार्यकर्ताओं, अगले 24 घंटे महत्वपूर्ण हैं । सतर्क और चौकन्ना रहें । डरे नहीं । आप सत्य के लिए लड़ रहे हैं । फर्जी एग्जिट पोल के दुष्प्रचार से निराश न हों । खुद पर और कांग्रेस पार्टी पर विश्वास रखें, आपकी मेहनत बेकार नहीं जाएगी । जय हिन्द ।’’

विपक्षी पार्टियों को चुनाव आयोग ने दिया झटकाः चुनाव आयोग ने विपक्षी पार्टियों को झटका देते हुए मतगणना से पहले ईवीएम और वीवीपैट पर्चियों के मिलान की मांग को खारिज कर दिया है। बता दें कि 22 विपक्षी पार्टियों के नेताओं ने मंगलवार को चुनाव आयोग से मुलाकात की थी। इस मुलाकात में विपक्षी पार्टियों ने मतगणना से पहले वीवीपैट पर्चियों के मिलान की मांग की थी, लेकिन चुनाव आयोग ने मतगणना के बाद ही वीवीपैट पर्चियों के मिलान की बात कहते हुए विपक्षी नेताओं की मांग को खारिज कर दिया है।

कर्नाटक में गठबंधन सरकार को नहीं कोई खतराः कांग्रेस महासचिव के सी वेणुगोपाल ने मंगलवार को कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी और राज्य के वरिष्ठ कांग्रेसी नेताओं से हालिया राजनीतिक घटनाक्रम तथा लोकसभा चुनावों के सिलसिले में आए एक्जिट पोल के नतीजों पर चर्चा की। कांग्रेस सूत्रों के हवाले से खबर आयी है कि इस बैठक में वेणुगोपाल ने आश्वासन दिया कि गठबंधन सरकार को कोई खतरा नहीं है। कांग्रेसी नेता ने यह आश्वासन लोकसभा चुनावों के नतीजों के बाद गठबंधन सरकार के बने रहने को लेकर जारी अटकलों के बीच दिया है। जेडीएस के संरक्षक एच डी देवगौड़ा और कुमारस्वामी के ईवीएम के मुद्दे पर विपक्षी नेताओं के साथ बैठक में शामिल नहीं होने के बाद एआईसीसी महासचिव ने मुख्यमंत्री से मुलाकात की और सरकार के बने रहने के संबंध में आश्वासन दिया।

जानें क्या है ईवीएम सुरक्षा की पूरी प्रक्रियाआंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एवं तेदेपा प्रमुख चंद्रबाबू नायडू ने ईवीएम के साथ कथित छेड़छाड़ के मुद्दे पर विपक्षी पार्टियों को एकजुट करने के मकसद से पूर्व प्रधानमंत्री एवं जद(एस) अध्यक्ष एचडी देवगौड़ा से मंगलवार शाम में मुलाकात की। नायडू नई दिल्ली में ईवीएम के मुद्दे पर विपक्षी पार्टियों के साथ बैठक के बाद देर रात यहां पहुंचे थे और उन्होंने देवगौड़ा से करीब एक घंटे बात की। नायडू ने आरोप लगाया, ‘‘ पहले, भाजपा तक ने ईवीएम का विरोध किया था। उत्तर प्रदेश में हमने ईवीएम को होटलों एवं घरों में देखा है… स्ट्रॉन्ग रूम बदले जा रहे हैं।’’ वहीं देवगौड़ा ने कहा कि उन्होंने भी 2006 में ईवीएम को लेकर चुनाव आयोग को चिट्ठी लिखी थी। उन्होंने कहा कि इन जटिलताओं से बचने के लिए मत पत्रों को वापस लाना चाहिए।

विपक्ष द्वारा उठाए गए ईवीएम के मसले पर प्रधानमंत्री के रुख के बारे में पूछे जाने पर आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘ प्रधानमंत्री क्यों विरोध कर रहे हैं? ईवीएम और वीवीपैट हैं। आपने 9,000 करोड़ रुपये खर्च किए हैं… आप पारर्दिशता और जवाबदेही क्यों नहीं दिखा रहे हैं? उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘ इसका मतलब आप बदमाशी कर रहे हैं। आप ईवीएम से छेड़छाड़ कर रहे हैं।’’

लोकसभा चुनावों की मतगणना से महज दो दिन पहले इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग शीनों (ईवीएम) में कथित छेड़छाड़ की खबरें सामने आने के बाद मंगलवार को राजनीतिक विवाद पैदा हो गया। विपक्ष ने चुनाव आयोग से अपील की है कि वह मतगणना में पूरी पारर्दिशता बरते। इस पूरे मामले में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने भी दखल दी। उन्होंने कहा है कि इन वोटिंग मशीनों को लेकर चल रही तमाम अटकलों पर विराम लगाने की जिम्मेदारी चुनाव आयोग की है।

यूपी के कुछ हिस्सों में इस मुद्दे पर हुए विरोध प्रदर्शन के बाद विपक्ष को ईवीएम में पड़े वोटों का मिलान वीवीपीएटी की र्पिचयों से करने के आंकड़े को बढ़ाने के लिए आयोग पर दबाव बनाने का एक और मौका मिल गया। विपक्ष ईवीएम की विश्वसनीयता को लेकर पहले भी चुनाव आयोग से भिड़ता रहा है। ईवीएम को कथित तौर पर इधर-उधर ले जाने और इन मशीनों से छेड़छाड़ के वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद विरोध प्रदर्शन होने लगे।

विरोध प्रदर्शनों पर प्रतिक्रिया जाहिर करते हुए कांग्रेस ने कहा कि चुनाव आयोग को देश के विभिन्न हिस्सों में स्ट्रॉंगरूमों से ईवीएम को लाने-ले जाने की शिकायतों के निदान के लिए तत्काल प्रभावी कदम उठाने चाहिए। हालांकि, चुनाव आयोग ने इस आरोप को ‘‘ओछा’’ और ‘‘अवांछित’’ करार दिया। चुनाव आयोग ने यह भी कहा कि 11 अप्रैल को शुरू और 19 मई को खत्म हुए सात चरणों के चुनाव के लिए इस्तेमाल की गई वोटिंग मशीनें स्ट्रॉंगरूमों में ‘‘पूरी तरह सुरक्षित’’ हैं।

बता दें कि देश में चुनाव नतीजों से पहले एग्जिट पोल में एनडीए की भारी जीत का दावा किया गया है। वहीं, इसके बाद देश के कई क्षेत्रों में ईवीएम मशीनों के साथ छेड़छाड़ की खबरें भी सोशल मीडिया पर वायरल हुईं। मंगलवार को चुनाव आयोग को सफाई देनी पड़ी और उसने बताया कि स्ट्रॉन्ग रूम में रखी ईवीएम के साथ छेड़छाड़ नहीं हो रही है। वहीं, EVM और VVPAT के मुद्दे पर कांग्रेस, टीएमसी, सपा और बसपा समेत 22 विपक्षी दलों के प्रतिनिधियों ने चुनाव आयोग को एक ज्ञापन दिया और काउंटिग से पहले पर्चियों की गिनती की मांग की। अभी काउंटिंग खत्म होने के बाद वीवीपैट पर्चियों का मिलान होता है।

विपक्षी दलों की तरफ से कांग्रेस के नेता गुलाम नबी आजाद ने मीडिया से कहा कि विपक्षी दलों ने वोटों की गिनती से पहले ईवीएम को दूसरी जगहों पर ले जाने पर आयोग के समक्ष चिंता जाहिर की है। टीडीपी नेता चंद्रबाबू नायडू ने कहा कि हम चुनाव आयोग से जनादेश का सम्मान करने के लिए कहा है। जबकि, बसपा के प्रतिनिधि सतीश मिश्रा ने कहा कि उत्तर प्रदेश में बड़े स्तर पर ईवीएम में धांधली हुई है।

गौरतलब है कि भारत में 17वीं लोकसभा के गठन के लिए 19 मई को सभी सात चरण के मतदान संपन्न हो गए। 23 मई को सभी 542 सीटों के नतीजे आएंगे। हालांकि, आधिकारिक रूप से रिजल्ट घोषित होने में देरी हो सकती है। वजह ये है कि ईवीएम के वोटों की गिनती के साथ ही प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र के पांच बूथों के वीवीपीएटी पर्ची का भी मिलान किया जाएगा। शनिवार को चुनाव आयोग ने मुख्य चुनाव अधिकारियों को नया निर्देश जारी किया है, जिसमें कहा गया ईवीएम और पोस्टल बैलेट की गणना एक साथ की जा सकती है।  ईवीएम की सेंट्रल यूनिट और पोस्टल बैलेट की गणना के बाद वीवीपैट की पर्चियों की गिनती शुरू होगी। सभी केंद्रों पर सुरक्षा के कड़े इंतजाम रहेंगे। स्थानीय पुलिस के साथ-साथ अर्द्धसैनिक बलों की भी तैनाती होगी।

एग्जिट पोल में केंद्र में दोबारा मोदी सरकार बनने की संभावना: 19 मई को मतदान संपन्न होने के बाद विभिन्न मीडिया संस्थानों और एजेंसियों द्वारा एग्जिट पोल के नतीजे जारी किए। इस नतीजों के अनुसार, एनडीए को बहुमत मिलने की संभावना जताई गई है। लगभग सभी में 272 के जादुई आंकड़े को पार करता हुआ दिखाया गया है। भाजपा को इंडिया टुडे-माय एक्सिस के अनुसार 339 से 365, रिपब्लिक टीवी-सीवोटर के अनुसार 287, न्यूज18-IPSOS के अनुसार 336, टाईम्स नाऊ-वीएमआर के अनुसार 306, रिपब्लिक भारत-जन की बात के अनुसार 305, न्यूज एक्स-NETA के अनुसार 242, एबीपी न्यूज-निल्सन के अनुसार 267, इंडिया टीवी-सीएनएक्स के अनुसार 300 और न्यूज24-टूडेज चाणक्या के अनुसार 350 सीटें मिलने की संभावना है। वहीं, यूपीए को 77 से लेकर 164 सीटें मिलने की संभावना व्यक्त की गई है। तीसरे मोर्चे को 69 से लेकर 148 सीटें मिलने की संभावना जताई गई है।

चुनाव से जुड़ी हर अपडेट और खबर के लिए यहां क्लिक करें। 

मतदान प्रतिशत: वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव में करीब 90 करोड़ मतदाताओं के पास अपने मताधिकार का प्रयोग करने का मौका था, जो कि पिछले लोकसभा सीट से करीब 9 करोड़ ज्यादा था। लेकिन इनमें से मात्र 67.11 प्रतिशत मतदाता ही अपने मताधिकार का प्रयोग किए। हालांकि, पिछले 2014 के चुनाव के मुकाबले यह 1.16 प्रतिशत ज्यादा है।

हिंसा: लोकसभा चुनाव के दौरान हिंसा की भी काफी घटनाएं सामने आयी, खासकर पश्चिम बंगाल में। यहां मतदान के दौरान गोलीबारी, बमबाजी और रोड़ेबाजी तक हुई। सबसे बड़ी घटना ये हुई कि चुनाव के सातवें चरण से पहले पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में अमित शाह के रोड शो को हिंसा की वजह से बीच में ही बंद करना पड़ा। इसका असर ये हुआ कि चुनाव आयोग ने राज्य में समय से पहले की प्रचार पर रोक लगा दिया। बिहार, उत्तर प्रदेश सहित कई अन्य राज्यों से भी हिंसा की छिटपुट घटनाएं सामने आयी।

इन सीटों पर टिकी सबकी निगाहें: इस बार के चुनाव में देश की निगाहें राहुल गांधी की सीट वायनाड और अमेठी, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सीट वाराणसी, बिहार के बेगूसराय सीट, गुजरात के गांधीनगर सीट, पश्चिम बंगाल के आसनसोल जैसी सीटों पर टिकी है। वजह ये है कि यहां मुकाबला काफी दिलचच्प होने की संभावना है।

Read here the latest Lok Sabha Election 2019 News, Live coverage and full election schedule for India General Election 2019

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App