ताज़ा खबर
 

Loksabha election 2019: बीएसपी के पूर्व नेता का आरोप, कहा- पुलवामा और राष्ट्रहित की बात की तो मायावती ने पार्टी से निकाल दिया

नेताओं के खिलाफ कार्रवाई के बारे में जानने के लिए बीएसपी में कोई प्रावधान नहीं है। लेकिन मुझे पूरा यकीन है कि मुझे पार्टी से निकालने के पीछे यही कारण है।

बसपा सुप्रीमो मायावती। (फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस)

Loksabha election 2019: बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) के पूर्व नेता रमेश चंद्र बिंद ने पार्टी सुप्रीमो मायावती पर आरोप लगाया है कि पुलवामा और राष्ट्रहित की बात करने पर उन्हें पार्टी से निकाला गया। भदोही संसदीय सीट से भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे बिंद का मायावती पर लगाए इस आरोप का वीडियो वायरल हो चुका है।

वीडियो में रमेश चंद्र बिंद कहते है ‘बसपा ने मुझे निष्कासित किया था। मामला कोई दूसरा नहीं था वही था पुलवामा में जो घटना हुई थी जिसमें हमारे देश के सैनिक शहीद हुए थे। मैं अपने वहां पार्टी कार्यकर्ता के बाहर आपस में बात कर रहा था। राष्ट्रहित पर मैंने अपनी बात रखी। और बात हमारी सुप्रीमो तक पहुंच गई। उन्होंने तुंरत पार्टी से निष्कासित कर दिया।’

यह पूछे जाने पर कि आपको कैसे पता कि आपको निष्कासित करने के पीछे यही एकमात्र कारण है तो उन्होंने कहा ‘नेताओं के खिलाफ कार्रवाई के बारे में जानने के लिए बीएसपी में कोई प्रावधान नहीं है। लेकिन मुझे पूरा यकीन है कि मुझे पार्टी से निकालने के पीछे यही कारण है। लेकिन मेरे साथ मौजूद अन्य लोग जो उस चर्चा में शामिल थे उनपर कोई एक्शन नहीं लिया गया।’

तीन बार के विधायक रमेश चंद्र बिंद के निष्कासन पर बसपा ने कहा है कि उन्हें पार्टी विरोधी गतिविधियों और अनुशासनहीनता के चलते पार्टी से निकाला गया है। बता दें कि पार्टी से निकाले जाने के एक महीने बाद ही उन्होंने भाजाप ज्वाइन कर ली थी। जिसके बाद 15 अप्रैल को उन्हें पार्टी ने भदोही से टिकट दे दिया। उधर इस सीट पर सपा-बसपा गठबंधन से पूर्व माध्यमिक शिक्षा मंत्री रंगनाथ मिश्रा जबकि कांग्रेस से रमाकांत यादव पहले ही ताल ठोंक चुके हैं। बता दें कि भदोही संसदीय सीट के लिए छठें चरण में मतदान के लिए 16 अप्रैल से नामांकन प्रक्रिया शुरू हो चुकी है।

Next Stories
1 Loksabha election 2019: AAP-कांग्रेस के गतिरोध में BJP का समीकरण गड़बड़ाया, उम्मीदवारों की घोषणा पर असमंजस
2 महात्मा गांधी के पड़पोते बोले, आरएसएस का विरोध करना होगा वर्ना हम गांधी के कार्यकर्ता ही कहने के लायक नहीं रहेंगे
3 पूर्वोत्तर व उत्तर भारत में आंधी-बारिश-ओले की चेतावनी
ये पढ़ा क्या?
X