ताज़ा खबर
 

Election 2019 Updates: ‘मिशन 2019’ के लिए 11 जनवरी को होगी भाजपा की दो दिवसीय बैठक

Lok Sabha General Election 2019 India News Updates: भाजपा ‘‘मिशन 2019’’ की शुरुआत 11-12 जनवरी को दिल्ली के रामलीला मैदान में होने वाली राष्ट्रीय परिषद की बैठक से करेगी जहां देशभर के पार्टी नेताओं एवं कार्यकर्ताओं को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ‘जीत’ का मंत्र देंगे ।

Author नई दिल्ली | Jan 10, 2019 17:33 pm
पीएम नरेन्द्र मोदी, फोटो सोर्स- ट्विटर (@BJP4India)

Election 2019 Updates:  भाजपा ‘‘मिशन 2019’’ की शुरुआत 11-12 जनवरी को दिल्ली के रामलीला मैदान में होने वाली राष्ट्रीय परिषद की बैठक से करेगी जहां देशभर के पार्टी नेताओं एवं कार्यकर्ताओं को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ‘जीत’ का मंत्र देंगे । भाजपा अध्यक्ष अमित शाह राष्ट्रीय परिषद की बैठक का उद्घाटन करेंगे जबकि शनिवार को बैठक के समापन भाषण में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ‘मिशन 2019’ के लिए पार्टी का मुख्य चुनावी नारा भी देंगे। यह अब तक की सबसे बड़ी राष्ट्रीय परिषद होगी, जिसमें देशभर से लगभग 12 हजार प्रमुख कार्यकर्ता जुटेंगे।

यह बैठक समान्य वर्ग के आर्थिक रूप से कमजोर तबके के लोगों को शिक्षा एवं रोजगार में 10 प्रतिशत आरक्षण देने का प्रावधान करने वाले संविधान संशोधन विधेयक को लोकसभा और राज्यसभा की मंजूरी मिलने के बीच हो रही है। इसने हाल में संपन्न विधानसभा चुनावों में ंिहदी पट्टी के तीन राज्यों मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में पार्टी को मिली हार के बाद भगवा पार्टी के मनोबल को बढ़ाया है। भाजपा का मानना है कि राष्ट्रपति की मंजूरी मिलने के बाद यह कानून लागू हो जाएगा। इससे ंिहदीभाषी राज्यों में अगड़ी जाति के मतदाता पार्टी के समर्थन में आएंगे। साथ ही जाट, पाटीदार, मराठा और राजनीतिक रूप से अन्य महत्वपूर्ण समुदायों में भी उसकी अपील मजबूत होगी।

पार्टी का एक हिस्सा मानता है कि अगड़ी जाति के मतदाताओं के आक्रोश का खामियाजा उसे हालिया विधानसभा चुनावों में भुगतना पड़ा। पार्टी सूत्रों ने बताया कि ओबीसी आयोग को संवैधानिक दर्जा देना, दलितों और आदिवासियों के खिलाफ अत्याचार पर कानून को मजबूत बनाने जैसे मोदी सरकार के कदमों को भी रेखांकित किया जाएगा और इसे उसकी ‘सामाजिक न्याय’ परियोजना के हिस्से के तौर पर पेश किया जाएगा।,उन्होंने बताया, ‘‘मोदी सरकार ने समाज के हर तबके को सशक्त बनाया है। पार्टी विस्तार से इस बारे में बात करेगी।’’ उन्होंने बताया कि किसानों के लिये पार्टी नीत सरकार द्वारा उठाए गए कदमों और गरीबों के कल्याण के लिये चलाई गई विभिन्न योजनाओं और आर्थिक विकास के लिये उठाए गए कदमों पर भी चर्चा की जाएगी। गौरतलब है कि किसानों की कर्ज माफी और राफेल सौदे को लेकर कांग्रेस सरकार को घेरने का प्रयास कर रही है।

इस बारे में पूछे जाने पर भाजपा मीडिया प्रकोष्ठ के प्रमुख एवं राज्यसभा सदस्य अनिल बलूनी ने ‘भाषा’’ को बताया था कि यह देश भर के पार्टी कार्यकर्ताओं का ‘महासंगम’ होगा जहां से हम अपने विजय अभियान की शुरूआत करेंगे । उन्होंने कहा था कि इस बैठक में हर प्रदेश से पार्टी कार्यकर्ता आयेंगे । बैठक के दौरान प्रस्ताव भी पास होंगे । यह बैठक राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से तेलगू देशम पार्टी, राष्ट्रीय लोक समता पार्टी, असम गण परिषद के अलग होने तथा शिवसेना, अपना दल (एस), ओमप्रकाश राजभर की अगुवाई भारतीय सुहेलदेव समाज पार्टी के साथ तल्ख रिश्तों की पृष्ठभूमि में हो रही है।

यह पहला मौका है जब भाजपा अपनी राष्ट्रीय परिषद की बैठक को विस्तृत स्वरूप देने जा रही है। इसमें हर लोकसभा क्षेत्र के लगभग दस प्रमुख नेता हिस्सा लेंगे। बैठक में सभी सांसदों, विधायकों, परिषद के सदस्यों, जिला अध्यक्षों व महामंत्रियों के साथ हर क्षेत्र के विस्तारकों को भी बुलाया गया है ।
बैठक में राजनीतिक व आर्थिक मुद्दों समेत तीन प्रमुख प्रस्तावों के पारित किये जाने की संभावना है। इसमें राम मंदिर के मुद्दे पर भी पार्टी का रूख स्पष्ट किया जा सकता है। इस विषय पर आरएसएस समेत हिन्दुवादी संगठन मंदिर निर्माण के लिये कानून बनाने की मांग कर रहे हैं ।

समझा जाता है कि बैठक में कांग्रेस और उसकी सर्मिथत सरकारों के साठ साल के कामकाज की तुलना भी रखी जाएगी और बताया जाएगा कि वर्तमान सरकार के दौरान कितनी तेजी से विकास हुआ है। इसमें सबसे ज्यादा जोर भ्रष्टाचारमुक्त सरकार पर दिया जायेगा और कांग्रेस की पिछली सरकारों के घोटालों की तुलना करते हुए भाजपा अपनी बेदाग सरकार को जनता के सामने लेकर जाएगी। बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, पार्टी अध्यक्ष अमित शाह, केंद्रीय मंत्री, राष्ट्रीय और राज्यों के पदाधिकारियों समेत अन्य नेता भी शामिल होंगे।

Live Blog

17:31 (IST)10 Jan 2019
अटज जी के रास्ते पर चल रही बीजेपी, मोदी ने कहा

अटलजी ने जो रास्ता हमें दिखाया था भाजपा उसी पर चल रही है।’’ मोदी एक कार्यकर्ता के इस सवाल का जवाब दे रहे थे कि क्या भाजपा अन्नाद्रमुक, द्रमुक या रजनीकांत के साथ गठबंधन करेगी। रजनीकांत ने अभी अपना राजनीतिक दल नहीं बनाया है।व क्षेत्रीय दलों के साथ ‘‘अच्छा व्यवहार ना करने’’ के लिए कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा, ‘‘अटलजी ने जो किया वह कांग्रेस के ठीक विपरीत है जिसने कभी क्षेत्रीय आकांक्षाओं की परवाह नहीं की।’’

17:00 (IST)10 Jan 2019
चेन्नई में बोले पीएम, कहा- कांग्रेस को लगता है कि सत्ता में रहने का अधिकार सिर्फ उनके ही पास है

चेन्नई में पीएम मोदी ने कहा कि,  ‘‘कांग्रेस ने क्षेत्रीय राजनीतिक दलों, महत्वाकांक्षाओं और लोगों के साथ अच्छा व्यवहार नहीं किया क्योंकि उन्हें लगता है कि केवल उनके पास ही सत्ता में होने का अधिकार है।’’ भारतीय जनता पार्टी ने 2014 के लोकसभा चुनाव में तमिलनाडु में पीएमके, एमडीएमके समेत छोटे-छोटे क्षेत्रीय दलों के साथ गठबंधन किया था और 39 में से दो सीटों पर जीत दर्ज की थी जिसमें से एक सीट पार्टी ने और दूसरी पीएमके ने जीती थी।

16:02 (IST)10 Jan 2019
मोदी ने कहा- भाजपा गठबंधनों के लिए तैयार है, पुराने मित्रों के साथ दोस्ती निभाती है

नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को कहा कि भाजपा गठबंधन करने के लिए तैयार है और वह अपने पुराने मित्रों के साथ दोस्ती निभाते हुए चलती है। इसी के साथ उन्होंने इस बात के संकेत दे दिए कि भाजपा लोकसभा चुनाव के मद्देनजर तमिलनाडु में राजग को मजबूत करना चाहती है। तमिलनाडु में पांच जिलों के बूथ स्तरीय कार्यकर्ताओं के साथ वीडियो कांफ्रेसिंग के जरिए बातचीत में उन्होंने नब्बे के दशक में पूर्व प्रधानमंत्री दिवंगत अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा शुरू की गई ‘‘सफल गठबंधन राजनीति’’ को याद किया और कहा कि भाजपा के दरवाजे ‘‘हमेशा खुले हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘बीस साल पहले दूरदर्शी नेता अटलजी भारतीय राजनीति में नई संस्कृति लाए थे जो कि सफल गठबंधन राजनीति की संस्कृति थी।

15:23 (IST)10 Jan 2019
सपा-बसपा के गठबंधन के गठबंधन को लेकर शिवपाल का सवाल, ‘‘क्या दोनों पार्टिर्यों की विचारधारा मेल खाती है?

सपा-बसपा के गठबंधन पर सवाल उठाते हुए शिवपाल ने कहा, ‘‘क्या दोनों पार्टिर्यों की विचारधारा मेल खाती है? क्या बसपा पर विश्वास किया जा सकता है? कोई भरोसा नहीं है कि वह कब गठबंधन में शामिल हो और कब अलग हो जाए।‘‘ सपा संस्थापक मुलायम ंिसह यादव का आशीर्वाद हासिल होने या ना होने के सवाल पर पूर्व कैबिनेट मंत्री ने कहा, ‘‘अब यह कोई सवाल नहीं रह गया है। मैंने कदम आगे बढ़ा दिये हैं। अब सवाल प्रदेश और देश का है। साथ ही इस बात का भी सवाल है कि हम साम्प्रदायिक शक्तियों को कैसे रोकते हैं।‘‘ हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि वह मुलायम से प्रसपा के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़ने का आग्रह करेंगे। अगर वह इस प्रस्ताव को स्वीकार नहीं करते तो उनकी पार्टी चुनाव में उनका समर्थन करेगी, चाहे वह जहां से भी मैदान में उतरें।

15:14 (IST)10 Jan 2019
कांग्रेस संग गठबंधन को लेकर शिवपाल ने दिया बयान

कांग्रेस से गठबंधन की सम्भावना के सवाल पर शिवपाल ने कहा कि अभी उनकी कांग्रेस के किसी भी नेता से बात नहीं हुई है। हालांकि हमें यह ध्यान रखना चाहिये कि कांग्रेस एक राष्ट्रीय पार्टी है और वह भाजपा को रोककर केन्द्र में सरकार बना सकती है। उन्होंने कहा कि अगर सपा, बसपा और कांग्रेस भाजपा को रोकना चाहती हैं और प्रसपा को सम्मानजनक संख्या में सीटें देती हैं तो हम निश्चित रूप से गठबंधन में शामिल होंगे। शिवपाल ने कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव में उनकी पार्टी ‘किसान, जवान और मुसलमान‘ का मुद्दा उठाएगी और उनके हितों की रक्षा के लिये संघर्ष करेगी।

14:08 (IST)10 Jan 2019
शिवपाल ने कहा, हम बनेंगे किंगमेकर, सपा में वापसी का सवाल ही नहीं

समाजवादी पार्टी (सपा) में उपेक्षा से नाराज होकर प्रगतिशील समाजवादी पार्टी-लोहिया (प्रसपा) बनाने वाले शिवपाल सिंह यादव ने सपा में वापसी की सम्भावनाओं से इनकार करते हुए दावा किया है कि उनकी पार्टी अगले लोकसभा चुनाव के बाद किंगमेकर साबित होगी। शिवपाल ने ‘भाषा‘ से बातचीत के दौरान सपा में वापसी की सम्भावनाओं से लेकर गठबंधन तक विभिन्न मुद्दों पर चर्चा की। उन्होंने दावा किया, ‘‘केन्द्र में अगली सरकार हमारी पार्टी की मदद के बिना नहीं बन सकेगी। हमारी पार्टी पिछले तीन महीनों के अंदर एक बड़ी ताकत बनकर उभरी है। प्रदेश के सभी 75 जिलों में हमारा संगठन तैयार है और जनता अब हमें एक राजनीतिक शक्ति के तौर पर देखने लगी है।‘‘ सपा के संस्थापक सदस्यों में शुमार किये जाने वाले शिवपाल ने अपने पुराने ‘घर‘ में लौटने की सम्भावनाओं से भी इनकार किया। उनसे सपा नेता आजम खां के उस बयान के बारे में पूछा गया था जिसमें उन्होंने हालात अनुकूल होने पर पूरे यादव परिवार के एक साथ आने की बात कही थी।

13:04 (IST)10 Jan 2019
राज्यसभा की बैठक अनिश्चितकाल के लिए स्थगित

राज्यसभा का 11 दिसंबर से प्रारंभ हुआ शीतकालीन सत्र बुधवार को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया गया। उच्च सदन ने अंतिम बैठक में सामान्य वर्ग के गरीब लोगों को शिक्षा एवं सरकारी नौकरियों में आरक्षण देने के एक ऐतिहासिक संविधान संशोधन विधेयक को पारित कर दिया। लोकसभा को कल ही अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया गया था। उच्च सदन की बैठक संविधान (124वां संशोधन) विधेयक को चर्चा कर पारित करने के लिए एक दिन के लिए बढ़ायी गयी।

 उन्होंने बताया कि हंगामे के कारण सदन के कामकाज में 78 घंटे का नुकसान हुआ। इस दौरान कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा नहीं हो सकी। उच्च सदन का यह सत्र राफेल सौदे की संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) से जांच कराने की मांग, कावेरी नदी पर प्रस्तावित बांध का विरोध, आंध्र प्रदेश को विशेष दर्जा देने की मांग सहित विभिन्न मुद्दों पर हुए हंगामे के कारण अधिकतर बैठकों में बाधित रहा। 

12:19 (IST)10 Jan 2019
उपचुनाव में जींद से कांग्रेस उम्मीदवार होंगे सुरजेवाला

कांग्रेस ने हरियाणा की जींद विधानसभा सीट के उपचुनाव में पार्टी के वरिष्ठ नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला को उम्मीदवार बनाया है। पार्टी महासचिव मुकुल वासनिक की ओर से जारी बयान के मुताबिक कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सुरजेवाला की उम्मीदवारी को मंजूरी प्रदान की। सुरजेवाला अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के मीडिया विभाग के प्रमुख हैं और वर्तमान में कैथल से विधायक भी हैं।

पार्टी सूत्रों के मुताबिक लोकसभा चुनाव से पहले हो रहे जींद उपचुनाव को कांग्रेस नेतृत्व ने गंभीरता से लिया है, इसलिए अपने एक बड़े चेहरे को मैदान में उतारने का फैसला किया। गौरतलब है कि जींद सीट से विधायक हरिचंद मिड्ढा के निधन के बाद उपचुनाव हो रहा है।

मिड्ढा ने इनेलो के टिकट पर 2014 का चुनाव जीता था। लंबी बीमारी के चलते पिछले साल अगस्त में उनका निधन हो गया था। जींद में 28 जनवरी को मतदान है और 31 जनवरी को नतीजे आएंगे। बृहस्पतिवार को नामांकन दाखिल करने का आखिरी दिन है।

11:36 (IST)10 Jan 2019
16वीं लोकसभा के सबसे कम चले प्रश्नकालों में शामिल रहा शीतकालीन सत्र का प्रश्नकाल

संसद के शीतकालीन सत्र में लोकसभा में कामकाज की स्थिति 16वीं लोकसभा में तीसरे नंबर पर रही और इस बार प्रश्नकाल भी सबसे कम चले प्रश्नकालों में शामिल था। पीआरएस लेजिस्लेटिव रिसर्च ने यह बात कही। लोकसभा की बैठक मंगलवार को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी गयी, वहीं राज्यसभा की बैठक एक दिन के लिए बढ़ा दी गयी और इसके बुधवार को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित होने की संभावना है।

पीआरएस लेजिस्लेटिव रिसर्च के अनुसार 16वीं लोकसभा में सदन में तीसरा सबसे कम कामकाज हुआ। इसमें कहा गया, ‘‘इस दौरान प्रश्नकाल 16वीं लोकसभा के सबसे कम चले प्रश्नकालों में रहा। कामकाज में अवरोध के कारण पूरे शीतकालीन सत्र में केवल दो दिन प्रश्नकाल चला।’’

संस्था ने कहा, ‘‘लोकसभा ने अवरोध के कारण अपने तय समय के छठे हिस्से को खो दिया वहीं राज्यसभा की निर्धारित अवधि का तीसरा हिस्सा बर्बाद हो गया।’’ संस्था ने यह भी कहा कि सोलहवीं लोकसभा में 14वीं और 15वीं लोकसभा के मुकाबले विधायी कामकाज में ज्यादा समय लगाया गया। इसमें कहा गया कि लोकसभा का 52 प्रतिशत और राज्यसभा का 17 प्रतिशत समय विधायी कामकाज में लगा।

11:36 (IST)10 Jan 2019
16वीं लोकसभा के सबसे कम चले प्रश्नकालों में शामिल रहा शीतकालीन सत्र का प्रश्नकाल

संसद के शीतकालीन सत्र में लोकसभा में कामकाज की स्थिति 16वीं लोकसभा में तीसरे नंबर पर रही और इस बार प्रश्नकाल भी सबसे कम चले प्रश्नकालों में शामिल था। पीआरएस लेजिस्लेटिव रिसर्च ने यह बात कही। लोकसभा की बैठक मंगलवार को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी गयी, वहीं राज्यसभा की बैठक एक दिन के लिए बढ़ा दी गयी और इसके बुधवार को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित होने की संभावना है।

पीआरएस लेजिस्लेटिव रिसर्च के अनुसार 16वीं लोकसभा में सदन में तीसरा सबसे कम कामकाज हुआ। इसमें कहा गया, ‘‘इस दौरान प्रश्नकाल 16वीं लोकसभा के सबसे कम चले प्रश्नकालों में रहा। कामकाज में अवरोध के कारण पूरे शीतकालीन सत्र में केवल दो दिन प्रश्नकाल चला।’’

संस्था ने कहा, ‘‘लोकसभा ने अवरोध के कारण अपने तय समय के छठे हिस्से को खो दिया वहीं राज्यसभा की निर्धारित अवधि का तीसरा हिस्सा बर्बाद हो गया।’’ संस्था ने यह भी कहा कि सोलहवीं लोकसभा में 14वीं और 15वीं लोकसभा के मुकाबले विधायी कामकाज में ज्यादा समय लगाया गया। इसमें कहा गया कि लोकसभा का 52 प्रतिशत और राज्यसभा का 17 प्रतिशत समय विधायी कामकाज में लगा।

11:05 (IST)10 Jan 2019
TMC छोड़ बीजेपी में शामिल हुए सौमित्र खान

तृणमूल कांग्रेस सांसद सौमित्र खान ने लोकसभा चुनाव के लिए पश्चिम बंगाल में भाजपा के अभियान को बल देते हुए बुधवार को भगवा पार्टी का दामन थाम लिया। खान भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के साथ मुलाकात करने के बाद एक संवाददाता सम्मेलन में पार्टी में शामिल हो गए। वह बिष्णुपुर से लोकसभा सांसद हैं और राज्य विधानसभा के सदस्य भी रह चुके हैं।