ताज़ा खबर
 

Lok Sabha Election 2019: साध्वी प्रज्ञा से पहले साक्षी महाराज बता चुके हैं गोडसे को देशभक्त, बीजेपी ने कुछ नहीं किया

लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण के चुनाव से पहले भाजपा में गोडसे पर घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है। ऐसा पहली बार नहीं है कि भाजपा के किसी नेता ने गोडसे को देशभक्त बताया है।

साक्षी महाराज के बयान पर संसद के दोनों सदनों हुआ था हंगामा। (फाइल फोटोः पीटीआई)

Lok Sabha Election 2019: तीसरे चरण के मतदान से पहले साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को ‘देशभक्त’ बताए जाने के बयान के बाद भाजपा में विवाद थमने का नाम ही नहीं ले रहा है। ऐसा पहली बार नहीं है कि भाजपा नेता की तरफ से नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताया गया है।

साल 2014 में लोकसभा चुनाव जीतने के 7 महीने बाद भाजपा के उन्नाव से सांसद साक्षी महाराज ने संसद के बाहर बातचीत में नाथूराम गोडसे को देशभक्त बताया था। साक्षी महाराज ने कहा था, ‘मेरा मानना है कि नाथूराम गोडसे राष्ट्रवादी थे और महात्मा गांधी ने भी देश के लिए बहुत कुछ किया है। गोडसे बहुत व्यथित व्यक्ति थे। उन्होंने गलती से कुछ कर दिया लेकिन वह राष्ट्र विरोधी नहीं दे। वह देशभक्त थे।’

उस समय सांसद साक्षी महाराज के बयान पर संसद के दोनों सदनों में कांग्रेस के नेतृत्व में विपक्ष ने सांसद से लोकसभा में माफी मांगने की बात रखी थी। इसके बाद साक्षी महाराज ने कहा था, ‘मैं सदन के सामने खेद व्यक्त करता हूं और भारत…मैं उसे कभी राष्ट्रभक्त नहीं मानते हैं। मैंने गलती से कुछ कह दिया था।’

साल 2015 में भाजपा के राष्ट्रीय सोशल मीडिया प्रमुख अमित मालवीय ने भी गोडसे को लेकर विवादित ट्वीट किया था। मालवीय ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘नाथूराम गोडसे के पास महात्मा गांधी की हत्या करने के लिए कारण था।’

 

गोडसे को साध्वी की तरफ से राष्ट्रभक्त बताने को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी कह चुके हैं कि वह साध्वी प्रज्ञा को दिल से कभी माफ नहीं कर पाएंगे। पार्टी ने महात्मा गांंधी पर विवादित बयान को लेकर मध्यप्रदेश के मीडिया सेल के प्रभारी अनिल सौमित्र को बर्खास्त कर चुकी है।

पार्टी का कहना है कि वह साध्वी प्रज्ञा ठाकुर, केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े, कर्नाटक सांसद नलिन कुमार कतिल के खिलाफ गोडसे से संबंधित बयान देने को लेकर कार्रवाई शुरू कर चुकी है। पार्टी अध्यक्ष अमित शाह का कहना है कि पार्टी की अनुशासनात्मक समिति 10 दिन में इस मुद्दे पर अपनी रिपोर्ट सौंप देगी।

Next Stories
1 नाथूराम गोडसे की कहानी: नथ पहना कर बेटी की तरह पाला गया था, ऐसे बना संपादक से बापू का कातिल
2 मालेगांव ब्लास्ट: आरोप ऐसे हैं कि हफ्ते में एक बार कोर्ट में हाजिर होना ही होगा, प्रज्ञा सहित सभी आरोपियों को जज का फरमान
3 गोडसे प्रकरण: सीपीआई की मांग- साध्वी प्रज्ञा और हेगड़े को पार्टी से निकाले बीजेपी
यह पढ़ा क्या?
X