ताज़ा खबर
 

लोकसभा में गतिरोध कायम, दोनों पक्ष एक-दूसरे पर लगा रहे हैं चर्चा से भागने का आरोप

कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि विपक्ष चर्चा से कतई नहीं भाग रहा है और वह लचीला रुख अपनाते हुए बिना किसी नियम के इस पर चर्चा को तैयार है।

Author नई दिल्ली | December 15, 2016 16:07 pm
लोकसभा की कार्यवाही। (पीटीआई फाइल फोटो)

नोटबंदी के मुद्दे पर चर्चा को लेकर एक दूसरे को चुनौती दे रहे विपक्ष और सत्ता पक्ष के हंगामे के कारण गुरुवार (15 दिसंबर) को भी लोकसभा की कार्यवाही नहीं चल पायी। दोनों पक्षों ने एक दूसरे पर चर्चा से भागने का आरोप लगाया। विपक्ष के साथ ही सत्ता पक्ष ने भी कहा कि वे आज (गुरुवार, 15 दिसंबर) ही इस मुद्दे पर सदन में चर्चा के लिए तैयार हैं लेकिन इसके बावजूद कोई चर्चा नहीं हुई और दोनों पक्षों के भारी हंगामे के कारण सदन की कार्यवाही एक बार के स्थगन के बाद दोपहर करीब सवा 12 बजे दिनभर के लिए स्थगित कर दी गयी। इस मुद्दे पर भारी हंगामे के कारण एक बार के स्थगन के बाद सदन की कार्यवाही 12 बजे फिर से शुरू होने के बाद कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि विपक्ष चर्चा से कतई नहीं भाग रहा है और वह लचीला रुख अपनाते हुए बिना किसी नियम के इस पर चर्चा को तैयार है लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी चर्चा से भाग रहे हैं। वह सदन में नहीं आ रहे।

उनके इस आरोप पर कड़ा प्रहार करते हुए संसदीय कार्य मंत्री अनंत कुमार ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने काले धन के खिलाफ संघर्ष शुरू किया है और सरकार नोटबंदी के मुद्दे पर चर्चा को तैयार थी , तैयार है और तैयार रहेगी। उन्होंने कांग्रेस को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि विपक्षी पार्टी नोट जुगाड़ में लगी है और आज एक नया खुलासा सामने आया है। अनंत कुमार ने कहा कि अगस्तावेस्टलैंड मामले में नया खुलासा हुआ है जिसमें ब्रिटिश हथियार डीलर क्रिश्चियन माइकल की डायरी में नोट लिखा हुआ है कि पिछली संप्रग सरकार के कार्यकाल में 16 मिलियन यूरो की राशि भारत के बेहद शक्तिशाली राजनीतिक परिवारों में से एक परिवार को दी गयी। पिछली मनमोहन सिंह सरकार ने वर्ष 2010 में अगस्तावेस्टलैंड करार पर हस्ताक्षर किए थे।

अनंत कुमार ने अपने प्रहार की धार तेज करते हुए कहा, ‘अगस्तावेस्टलैंड के नए खुलासे पर सदन में चर्चा होनी चाहिए… कांग्रेस के नोट जुगाड़ पर चर्चा होनी चाहिए, बसपा, सपा और कांग्रेस की भूमिका पर चर्चा होनी चाहिए। सरकार चर्चा से नहीं भाग रही है।’ उन्होंने कहा, ‘राहुल गांधी भाग रहे हैं, कांग्रेस भाग रही है और विपक्ष चर्चा से भाग रहा है।’ कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि विपक्ष लगातार 16 नवंबर से ही कोशिश कर रहा है कि नोटबंदी के मुद्दे पर सदन में चर्चा हो। नियम 56 के तहत चर्चा की मांग को नकारे जाने के बाद विपक्ष ने नियम 184 के तहत चर्चा की मांग की लेकिन उसे भी नकार दिया गया। हम तो अब बिना किसी नियम के भी चर्चा को तैयार हैं। उन्होंने कहा, ‘हम आज इसी वक्त चर्चा को तैयार हैं, भागना नहीं चाहते। उल्टा सरकार चर्चा से भाग रही है।’

खड़गे ने कहा कि नोटबंदी से लोगों को भारी तकलीफ हो रही है लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी चर्चा से भाग रहे हैं, सदन में नहीं आ रहे हैं। इसी बीच, तेलंगाना राष्ट्र समिति के जितेन्द्र रेड्डी ने कहा कि यह बड़े दुख की बात है। 15 नवंबर को जिस दिन सर्वदलीय बैठक हुई थी तो सभी ने इस बात को स्वीकार किया था कि जो भी कदम सरकार ने उठाया है, वह सही है। और सभी इस बात पर सहमत थे कि इस कदम के क्रियान्वयन में खामियां हैं। उनकी इस बात का तृणमूल कांग्रेस के कल्याण बनर्जी और कांग्रेस ने कड़ा प्रतिवाद किया और कहा कि टीआरएस सदस्य झूठ बोल रहे हैं। बनर्जी ने कहा कि टीआरएस सदस्य जितेन्द्र रेड्डी को सत्ता पक्ष की ओर चले जाना चाहिए। रेड्डी ने कहा कि उन्होंने पांच दिसंबर को नियम 193 के तहत इस मुद्दे पर चर्चा के लिए नोटिस दिया था लेकिन उन्हें बोलने नहीं दिया जा रहा है।

इससे पूर्व 12 बजे सदन की बैठक दोबारा शुरू होने पर तृणमूल कांग्रेस के सुदीप बंदोपाध्याय ने कहा कि सत्र समाप्ति में एक दिन बचा है और हम चर्चा शुरू कर रहे हैं। सभी दल बिना मत विभाजन वाले नियम के तहत चर्चा को राजी हुए हैं। लेकिन हमारा यह कहना है कि कल के बाद भी नोटबंदी के मुद्दे पर चर्चा जारी रहनी चाहिए। उन्होंने अध्यक्ष से सदन को इसके लिए राजी करने की अपील की। लेकिन विपक्ष पर अनंत कुमार की टिप्पणी के बाद सदन में हंगामा बढ़ गया और सदन की कार्यवाही करीब सवा 12 बजे दिनभर के लिए स्थगित कर दी गयी। इससे पूर्व अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने आवश्यक दस्तावेज तथा मजदूरी संदाय (संशोधन) विधेयक सदन के पटल पर रखवाये।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App