ताज़ा खबर
 

Corona Crisis: 57 मजदूरों को ट्रक में ठूस ले जा रहा था घर, हर आदमी से वसूले थे 3000 रुपये

महाराष्ट्र के मुंबई-नासिक राजमार्ग पर पुरुष, महिलाओं और बच्चों से खचखच भरा एक ट्रक कई घंटों तक वहां खड़ा रहा। 40 डिग्री की चिलचिलाती गर्मी में यह ट्रक करीब 5 घंटे तक खड़ा रहा और लोगों के आने का इंतजार करता रहा।

तस्वीर का इस्तेमाल केवल प्रतीकात्मक रूप से किया गया है। (फोटो- विशाल श्रीवास्तव)

कोरोना वायरस की वजह से लगाए गए राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन की दर्दनाक तस्वीरें अब सामने आ रही हैं। लाखों प्रवासी मजदूर शहर छोड़कर अपने-अपने गाँव जाने को मजबूर हैं। मजदूरों की मजबूरी का आलम ये है कि अब वो किसी भी हालत में अपने गांव पहुंचना चाहते हैं। ये मजदूर पैदल, साइकिलों और ट्रकों में ठुसकर अपने घरों की तरफ जा रहा है। एनडीटीवी की एक रिपोर्ट के मुताबिक महाराष्ट्र के मुंबई-नासिक राजमार्ग पर पुरुष, महिलाओं और बच्चों से खचखच भरा एक ट्रक कई घंटों तक वहां खड़ा रहा। 40 डिग्री की चिलचिलाती गर्मी में यह ट्रक करीब 5 घंटे तक खड़ा रहा और लोगों के आने का इंतजार करता रहा।

57 प्रवासी मजदूरों को ले जाने वाला यह ट्रक सुबह करीब 9 बजे से यहां खड़ा था। मुंबई से ठाणे तक की यात्रा के बाद ड्राइवर ने ट्रक रोक दिया और वह कुछ और यात्रियों को इसमें बैठना चाहता था। इस ट्रक में बैठे लोग किसी भी तरह से अपने राज्य उत्तर प्रदेश जाना चाहते हैं। इन लोगों से इस यात्रा की एवज में 3 हजार प्रति व्यक्ति का किराया वसूला गया। ड्राइवर ज्यादा से ज्यादा पैसे कमाना चाहता था इसीलिए वह कुछ और लोगों का इंतजार कर रहा था।

Coronavirus Live update: यहां पढ़ें कोरोना वायरस से जुड़ी सभी लाइव अपडेट.

रिपोर्ट के मुताबिक इस ट्रक में खड़े होने तक की जगह नहीं थी। एक दर्जन से अधिक लोग ट्रक की छत पर बैठे हुए थे। फिर भी ड्राईवर कुछ और लोगों का इंतजार कर रहा था। एक बुजुर्ग ने कहा, “ड्राइवर यात्रा जारी रखना चाहता है लेकिन उसका ट्रक मालिक उसे और यात्रियों की प्रतीक्षा करने के लिए कह रहा है।” जब ड्राईवर से कहा गया कि ट्रक में और लोगों के लिए जगह नहीं है, तो चालक ने नाराज़ होते हुए कहा “तुम्हें इससे क्या करना मैं कैसे लोगों को ले जाता हूं।”

हजारों की संख्या में मजदूर ट्रकों में छिपकर आ रहे हैं। वहीं सोमवार को महाराष्ट्र से ट्रक में प्लास्टिक की एक बड़ी शीट के नीचे छुपकर उत्तर प्रदेश जा रहे 30 प्रवासियों को 1500 किमी की यात्रा के बाद पुलिस ने पकड़ा था। इन मजदूरों ने पुलिस को चकमा देते हुए 1,500 किमी यात्रा कर ली थी। लेकिन शाम को उनकी किस्मत ने उनका साथ नहीं दिया और तीन दिन की यात्रा के बाद खतौली कस्बे की पुलिस ने उन्हें पकड़ लिया। पुलिस ने बताया कि ट्रक तिरपाल से ढका था जिसे देख कर लग रहा था कि उसमें सब्जियां ले जाई जा रही हैं। उन्होंने कहा कि जांच करने पर पाया गया कि 30 में से नौ प्रवासी मजदूर मुजफ्फरनगर और बाकी अलीगढ़ जा रहे थे।

Coronavirus/COVID-19 और Lockdown से जुड़ी अन्य खबरें जानने के लिए इन लिंक्स पर क्लिक करें: शराब पर टैक्स राज्यों के लिए क्यों है अहम? जानें, क्या है इसका अर्थशास्त्र और यूपी से तमिलनाडु तक किसे कितनी कमाई । शराब से रोज 500 करोड़ की कमाई, केजरीवाल सरकार ने 70 फीसदी ‘स्पेशल कोरोना फीस’ लगाई । लॉकडाउन के बाद मेट्रो और बसों में सफर पर तैयार हुईं गाइडलाइंस, जानें- किन नियमों का करना होगा पालन । भारत में कोरोना मरीजों की संख्या 40 हजार के पार, वायरस से बचना है तो इन 5 बातों को बांध लीजिये गांठ…। कोरोना से जंग में आयुर्वेद का सहारा, आयुर्वेदिक दवा के ट्रायल को मिली मंजूरी ।

Next Stories
1 ‘जुल्म ही मोदी सरकार की इंसानियत है?’, मजदूरों पर मार को लेकर कांग्रेसी कीर्ति आजाद का ट्वीट, लोग कर रहे ऐसे कमेंट्स
2 India Lockdown Extension: नए नियमों के साथ 17 मई के बाद भी जारी रहेगा लॉकडाउन
3 कोरोना, लॉकडाउन के बीच PM नरेंद्र मोदी का संबोधन आज, आगे की नीति के लिए देश से मांग सकते हैं ‘साथ’
ये पढ़ा क्या?
X