ताज़ा खबर
 

मोदी के कायल पर भाजपा से दूर चिराग पासवान, एनडीए की बैठक से किया किनारा, बताई यह वजह

एलजेपी ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के विरोध में राज्य में एनडीए से अलग होकर अकेले राज्य विधानसभा चुनाव लड़ा था।

नई दिल्ली | January 30, 2021 3:05 PM
एलजेपी नेता चिराग पासवान। (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

लोक जनशक्ति पार्टी (एलजेपी) के अध्यक्ष चिराग पासवान उन नेताओं में शामिल हैं, जिन्हें संसद के बजट सत्र के लिए राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के एजेंडे पर चर्चा के लिए सत्तारूढ़ गठबंधन की बैठक में आमंत्रित किया गया है। एलजेपी सूत्रों ने बताया कि पासवान को बैठक के लिए आमंत्रित किया गया है, लेकिन वह स्वास्थ्य संबंधी कारणों से इसमें शामिल नहीं होंगे। उन्होंने बताया कि वह सर्वदलीय बैठक में भी शामिल नहीं हुए।

एलजेपी ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के विरोध में राज्य में एनडीए से अलग होकर अकेले राज्य विधानसभा चुनाव लड़ा था। इस घटनाक्रम की पृष्ठभूमि में संसदीय मामलों के मंत्री प्रह्लाद जोशी का पासवान को गठबंधन की बैठक के लिए आमंत्रित करना महत्व रखता है। एलजेपी बिहार चुनाव में केवल एक सीट जीत पाई थी, लेकिन उसने जद(यू) को काफी नुकसान पहुंचाया था। जद(यू) की सीटों की संख्या 71 से गिरकर 43 रह गई थी, जिसके कारण कुमार की पार्टी ने पासवान की आलोचना की थी और इसके कुछ नेताओं ने सवाल किए थे कि क्या पासवान को केंद्र में एनडीए का अब भी हिस्सा बनाए रखना चाहिए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कायल पासवान ने कई बार कहा है कि वह केंद्र में भाजपा के सहयोगी हैं। भगवा दल के वरिष्ठ नेताओं ने भी बिहार चुनाव में जद(यू) के खिलाफ उम्मीदवार खड़े करने के लिए पासवान की निंदा की थी। पासवान को बैठक के लिए आमंत्रित किया जाना इस बात का इशारा करता है कि अपने कुछ अहम सहयोगियों को खो चुकी भाजपा लोजपा को अपना सहयोगी समझती है। इस पार्टी की स्थापना दलित नेता राम विलास पासवान ने की थी।

इधर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी संसद के बजट सत्र के लिए सरकार का विधायी एजेंडा प्रस्तुत करने को लेकर शनिवार को एक सर्वलीय बैठक की अध्यक्षता की। इस बार यह परंपरागत सर्वदलीय बैठक सत्र शुरू होने के बाद आयोजित की जा रही है। दोनों सदनों (लोकसभा और राज्यसभा) की संयुक्त बैठक में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण के साथ संसद का बजट सत्र शुक्रवार को शुरू हुआ। आमतौर पर इस तरह की सभी बैठकें संसद के सत्र से पहले होती हैं, ताकि दोनों सदनों की कार्यवाही सुगमता से हो सके।

Next Stories
1 भाजपा ने अपने ही कार्यकर्ताओं से करवाई पत्थरबाजी, AAP का आरोप, शेयर की किसानों से भिड़ने वाले की तस्वीरें
2 जब कांग्रेस नेता ने कहा था, नरेंद्र मोदी सबसे स्टुपिड पीएम, लोगों ने लिया राहुल का नाम, स्मृति ईरानी ने बंद कर दी बोलती
3 Kerala Karunya Lottery KR 484 Today Results: यहां चेक करें लॉटरी रिजल्ट, पहला इनाम 80 लाख रुपये का
ये पढ़ा क्या?
X