LIC जीवन लाभ पॉलिसी से सुरक्षा के साथ बचत भी, कई सारे प्रॉफिट प्लान भी शामिल

LIC जीवन लाभ पॉलिसी न सिर्फ सुरक्षा देती है बल्कि इससे बचत भी होती है। LIC जीवन लाभ पॉलिसी के तहत सीमित प्रीमियम का भुगतान करना होता है।

Income Tax, Reality Show, Prize Moneyफाइल फोटो

LIC जीवन लाभ पॉलिसी न सिर्फ सुरक्षा देती है बल्कि इससे बचत भी होती है। LIC जीवन लाभ पॉलिसी के तहत सीमित प्रीमियम का भुगतान करना होता है। साथ ही इसमें कई सारे प्रॉफिट प्लान भी शामिल रहते हैं। बीमाधारक की मृत्यु हो जाने पर ये परिवार के लिए वित्तीय सहायता भी मुहैया कराता है। ये सहायता कभी भी मिल सकती है और इस बात पर निर्भर नहीं करती है कि पॉलिसी मैच्योर हुई है या नहीं। मैच्युरिटी के समय पर बीमाधारक को एकमुश्त राशि भी मिलती है। ये प्लान कर्ज की सुविधा के जरिए तरलता से जुड़ी जरूरतों का भी ख्याल रखता है। LIC जीवन लाभ पॉलिसी के ये फायदे हैं :

मृत्यु की स्थिति में: पॉलिसी टर्म के दौरान मृत्यु होने पर, सभी बकाया प्रीमियम का भुगतान हुआ हो, मिलनी वाली राशि के अलावा इससे जुड़े बोनस भी मिलते हैं। सालाना प्रीमियम से 10 गुना ज्यादा राशि दी जाती है। पूरी की पूरी राशि एक साथ दी जाती है। जिसे कि बेसिक सम एश्योर्ड कहा जाता है। ये राशि सभी भुगतान किए गए प्रीमियम से 105 प्रतिशत कम नहीं होगी। प्रीमियम पर टैक्स नहीं लगेगा। एलआईसी के अनुसार अंडरराइटिंग डिसीजन और राइडर प्रीमियम के तहत अतिरिक्त राशि ली जा सकती है।

मेच्योरिटी से जुड़े लाभ: मेच्योरिटी के समय आपको मूल बीमित राशि के साथ-साथ बोनस और दूसरे बोनस भी मिलेंगे। जो कि पॉलिसी अवधि के अंत में जीवित रहने पर एक साथ मिलेंगे। बशर्ते कि सभी प्रीमियम का भुगतान किया गया हो।

मुनाफे में भागीदारी: पॉलिसी LIC के मुनाफे में हिस्सेदार होगी और बोनस की हकदार होगी। बशर्ते कि पॉलिसी पूरी तरह से लागू हो। एक अंतिम (अतिरिक्त) बोनस उस वर्ष के तहत घोषित किया जा सकता है जब पॉलिसी के तहत मृत्यु या मेच्योरिटी का दावा किया जाता है।

वैकल्पिक लाभ: पॉलिसीधारक के पास निम्नलिखित लाभ उठाने का विकल्प रहता है:

-एलआईसी का दुर्घटना, मृत्यु और विकलांगता लाभ राइडर
– एलआईसी का नया टर्म एश्योरेंस राइडर

इस स्थिति में, राइडर राशि मूल राशि से अधिक नहीं हो सकती है।

Next Stories
1 कृषि कानूनों पर समिति की पहली बैठक कल
2 एनआइए समन पर किसान नेताओं ने जताई नाराजगी
3 अपने ही जाल में फंसी टीएमसी! अब डरा सता रहा ‘बाहरी’ मुद्दे पर एक बड़ा वोट बैंक छीन सकती है भाजपा
यह पढ़ा क्या?
X