ताज़ा खबर
 

लेटर विवादः सोनिया गांधी के कांग्रेस चीफ पद छोड़ने की उड़ी खबर, रणदीप सुरजेवाला बोले- नहीं दे रहीं इस्तीफा

इसी बीच, असम कांग्रेस अध्यक्ष रिपुण बोरा ने कहा है- कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और राज्यसभा सांसदों के साथ पूर्व में एक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान मैं मुख्यतः सोनिया गांधी से अपील कर चुका हूं कि वह राहुल गांधी को पार्टी की कमान दे दें, क्योंकि नरेंद्र मोदी उन्हीं से ही डरते हैं।

Sonia Gandhi, Rahul Gandhi, Congressबेटे राहुल गांधी के साथ सोनिया गांधी। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

लेटर विवाद के बीच कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा है वह अपने पद पर एक साल का कार्यकाल पूरा कर चुकी हैं। अब वह पार्टी चीफ नहीं रहेंगी। ऐसे में दल का नया प्रमुख चुन लिया जाना चाहिए। ये बातें रविवार को सूत्रों के हवाले से ‘India Today’ ने बताईं। अंग्रेजी समाचार चैनल की खबर में आगे बताया गया कि सोनिया ने कहा है, “सोमवार को होने वाली CWC (कांग्रेस कार्य समिति) बैठक में वह पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे देंगी।”

हालांकि, पार्टी प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने सोनिया के इस्तीफे से जुड़ी खबरों का खंडन किया है। उन्होंने रविवार रात समाचार एजेंसी ANI से कहा- सोनिया गांधी के अध्यक्ष पद छोड़ने की खबरें गलत हैं। वैसे, सोनिया की ओर से यह टिप्पणी तब आई, जब पार्टी के 20 से अधिक नेताओं ने खत लिखकर फुल टाइम पार्टी चीफ बनाने की मांग रखी है। लेटर लिखने वालों में आनंद शर्मा, गुलाम नबी आजाद, कपिल सिब्बल, विवेक तनखा, पृथ्वीराज च्वहाण, वीरप्पा मोइली, शशि थरूर, भूपेंद्र हुड्डा, राज बब्बर, मनीष तिवारी और मुकुल वासनिक सहित कई दिग्गज नेता हैं।

सोनिया के ताजा बयान के बाद वैसी ही स्थितियां पनपी हैं, जैसे साल भर पहले बनी थीं। राहुल गांधी ने तब पार्टी चीफ पद छोड़ दिया था। कांग्रेस उस दौरान भी दो खेमों में नजर आ रही थी। हालांकि, दोनों परिस्थितियों में अंतर है। सोनिया ने पार्टी में फेरबदल की मांग पर पद छोड़ने को लेकर बयान दिया है, जबकि राहुल लोकसभा चुनाव में बीजेपी से हार की जिम्मेदारी लेते हुए पार्टी चीफ पद से हट गए थे।

दरअसल, CWC बैठक से पहले पार्टी में विभिन्न स्वर उभरने लगे। वर्तमान सांसदों और पूर्व मंत्रियों के एक वर्ग ने जहां सामूहिक नेतृत्व की मांग की है, वहीं एक दूसरे वर्ग ने राहुल गांधी की पार्टी अध्यक्ष के रूप में वापसी की पुरजोर वकालत की।

कुछ पूर्व मंत्रियों समेत दो दर्जन कांग्रेस नेताओं ने पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी से संगठन में बड़े बदलाव की मांग करते हुए उन्हें पत्र लिखा। वहीं, राहुल के करीबी कुछ नेताओं ने सीडब्ल्यूसी को पार्टी प्रमुख के रूप में उनकी वापसी के लिए पत्र लिखा।

सोनिया के इस ऐलान से पहले समझा जा रहा था कि पूर्व मंत्रियों और कुछ सांसदों ने कुछ सप्ताह पहले यह पत्र लिखा, जिसके बाद सीडब्ल्यूसी की बैठक के हंगामेदार रहने के आसार हैं। बैठक में असंतुष्ट नेताओं द्वारा उठाये गये मुद्दों पर चर्चा और बहस होने की संभावना थी।

इन नेताओं ने शक्ति के विकेंद्रीकरण, प्रदेश इकाइयों के सशक्तिकरण और केंद्रीय संसदीय बोर्ड के गठन जैसे सुधार लाकर संगठन में बड़ा बदलाव करने का आह्वान किया है। वैसे, केंद्रीय संसदीय बोर्ड 1970 के दशक तक कांग्रेस में था लेकिन उसे बाद में खत्म कर दिया गया। इस पत्र में सामूहिक रूप से निर्णय लेने पर बल दिया गया है और उस प्रक्रिया में गांधी परिवार को ‘अभिन्न हिस्सा’ बनाने की दरख्वास्त की गयी है।

CWC बैठक में राहुल का नाम रखने की तैयारी में कई नेता: कांग्रेस अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को कई वरिष्ठ नेताओं की ओर लिखे गए पत्र के बाद नेतृत्व के मुद्दे पर तेज हुई बहस के बीच कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) के कई सदस्य सोमवार को होने वाली बैठक में राहुल गांधी को एक बार फिर से अध्यक्ष बनाने की मांग रखने की तैयारी में हैं।

साथ ही, कुछ नेताओं को यह उम्मीद है कि पार्टी की कमान संभालने के लिए राहुल गांधी के तैयार नहीं होने की स्थिति में भी नेतृत्व एवं संगठन को लेकर आगे की दिशा तय करने के लिए सीडब्ल्यूसी के सदस्यों के बीच किसी न किसी रोडमैप पर सहमति बन जाएगी। पार्टी सूत्रों का कहना है कि सोमवार सुबह वीडियो कांफ्रेस के माध्यम से होने जा रही सीडब्ल्यूसी की बैठक में वरिष्ठ नेताओं के पत्र एवं इसमें दिए गए सुझावों का मुद्दा हावी रहने की प्रबल संभावना है। (भाषा इनपुट्स के साथ)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 क्या होता है COVID-19 का ‘पीक’? समझें कब और कैसे आता है
2 असमः पूर्व CM के दावे पर पूर्व CJI रंजन गोगोई ने किया साफ- नहीं हूं सीएम कैंडिडेट, न ही राजनेता
3 Congress में कमान पर कलह! गांधी परिवार के पक्ष में पंजाब CM, बोले- यह नहीं है विरोध का वक्त
IPL 2020 LIVE
X