ताज़ा खबर
 

‘अमीरों की मुट्ठी में कैद है कानून और न्याय व्यवस्था’, रिटायरमेंट के दिन विदाई भाषण में बोले सुप्रीम कोर्ट जज

उन्होंने कहा, "वर्तमान समय और दौर में न्यायाधीश इससे अनजान होकर 'आइवरी टॉवर' में नहीं रह सकते कि उनके आसपास की दुनिया में क्या हो रहा है? उन्हें इसके बारे में जरूर पता होना चाहिए।"

Author Edited By प्रमोद प्रवीण नई दिल्ली | Updated: May 7, 2020 2:04 PM
06 मई को मौकरी से रिटायर हुए सुप्रीम कोर्ट के जज जस्टिस दीपक गुप्ता। (फाइल फोटो)

सुप्रीम कोर्ट के जज जस्टिस दीपक गुप्ता ने अपनी नौकरी के अंतिम दिन विदाई भाषण में जूडिशरी पर तीखी टिप्पणी की। बुधवार (06 मई) को सुप्रीम कोर्ट बार काउंसिल द्वारा आयोजित वर्चुअल फेयरवेल पार्टी में जस्टिस गुप्ता ने कहा कि देश का कानून और न्याय तंत्र चंद अमीरों और ताकतवर लोगों की मुट्ठी में कैद में है। उन्होंने कहा, “यदि कोई व्यक्ति जो अमीर और शक्तिशाली है, वह सलाखों के पीछे है, तो वह मुकदमे की पेंडेंसी के दौरान बार-बार उच्चतर न्यायालयों में अपील करेगा, जब तक कि किसी दिन वह यह आदेश हासिल नहीं कर लेता कि उसके मामले का ट्रायल तेजी से किया जाना चाहिए।” उन्होंने कहा, “वर्तमान समय और दौर में न्यायाधीश इससे अनजान होकर ‘आइवरी टॉवर’ में नहीं रह सकते कि उनके आसपास की दुनिया में क्या हो रहा है? उन्हें इसके बारे में जरूर पता होना चाहिए।”

जस्टिस गुप्ता ने कहा, ऐसा, गरीब प्रतिवादियों की कीमत पर होता है, जिनके मुकदमे में और देरी होती जाती है क्योंकि वह धन के अभाव में उच्चतर न्यायालयों का दरवाजा नहीं खटखटा सकते। जस्टिस गुप्ता यहीं नहीं रुके। उन्होंने कहा, “अगर कोई अमीर शख्स जमानत पर है और वह मुकदमे को लटकाना चाहता है तब भी वह उच्चतर न्यायालयों का दरवाजा खटखटाकर, मामले का ट्रायल या पूरी सुनवाई प्रक्रिया तब तक बार-बार लटकाएगा, जब तक कि विपक्षी पार्टी परेशान न हो जाय।”

Coronavirus in India Live Updates:

जस्टिस गुप्ता ने जोर देकर कहा कि ऐसी स्थिति में बेंच और बार की यह जिम्मेदारी बनती है कि वो समाज के वंचितों और गरीबों को न्याय दिलाने में मदद करें। वो इस बात पर नजर रखें कि कहीं गरीबी की वजह से उनके मुकदमे पेंडिंग बॉक्स में पड़े न रह जाएं। उन्होंने कहा, “यदि वास्तविक न्याय किया जाना है, तो न्याय के तराजू को वंचितों के पक्ष में तौलना होगा।”

जस्टिस गुप्ता ने कहा, “बार को पूरी तरह से स्वतंत्र होना चाहिए…और अदालतों में मामलों पर बहस करते समय बार के सदस्यों को अपनी राजनीतिक या अन्य संबद्धताओं को छोड़ देना चाहिए और मामले की पैरवी कानून के अनुसार सख्ती से करनी चाहिए।”

Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें:

कोरोना वायरस से बचना है तो इन 5 फूड्स से तुरंत कर लें तौबा

जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए

इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं

क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 बस इस एक गलती से मारा गया रियाज नायकू, जानिए हिजबुल सरगना के ढेर होने की कहानी
2 Visakhapatnam Gas Leak: केमिकल प्लांट में गैस लीक से मरने वालों का आंकड़ा 11 पहुंचा, सीएम जगनमोहन रेड्डी ने की एक करोड़ रुपये तक मुआवजे की घोषणा
3 IMD की नई पहल- अब जम्मू-कश्मीर के साथ पाकिस्तान के कब्जे वाले गिलगित-बाल्तिस्तान और मुजफ्फराबाद की भी कर रहा मौसम भविष्यवाणी
IPL 2020 LIVE
X