ताज़ा खबर
 

अरुण जेटली के निधन के छह महीने बाद परिवार ने पूरी की उनकी अंतिम इच्छा, जानें- क्या थी बीजेपी नेता की आखिरी ख्वाहिश?

आखिरी वक़्त पर जो बात उनके दिमाग में बार-बार चल रही थी वह उनके बेटे रोहन की शादी थी, जो नवंबर में होने वाली थी। ऐसे में जेटली ने अपने परिवार से कहा कि वह समारोह आयोजित करने के लिए बहुत बीमार हैं लेकिन परिवार को तैयारियां शुरू कर देनी चाहिए।

Author Translated By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Updated: February 16, 2020 9:26 AM
पूर्व वित्त मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली। (indian express)

पूर्व वित्त मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली का 24 अगस्त 2019 को दिल्ली के एम्स में लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया था। अपने अंतिम दिनों में भाजपा नेता को एक बात की चिंता साता रही थी। वही उनकी आखिरी ख्वाहिश भी थी। जो बात उनके दिमाग में बार-बार चल रही थी वह उनके बेटे रोहन की शादी थी, जो नवंबर में होने वाली थी। ऐसे में जेटली ने अपने परिवार से कहा कि वह समारोह आयोजित करने के लिए बहुत बीमार हैं लेकिन परिवार को तैयारियां शुरू कर देनी चाहिए।

24 अगस्त को जेटली का निधन हो गया, लेकिन जेटली परिवार ने उनकी आखिरी ख्वाहिश का सम्मान करने का फैसला किया और उनकी मौत के छह महीने बाद, इस महीने की शुरुआत में शादी का उत्सव शुरू किया। दूल्हा, रोहन जेटली, और उनकी दुल्हन, मेहर, दोनों वकील हैं। दोनों ने पिछले हफ्ते सभी रस्मों और ओपन-हाउस हास्पिटैलिटी के साथ शादी की, जैसे कि जेटली ने चाहा था।

बता दें सेहत संबंधी समस्याओं की वजह से अरुण जेटली ने लोकसभा चुनाव नहीं लड़ा था। मई में जेटली ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर कहा था कि स्वास्थ्य कारणों से वो नई सरकार में कोई ज़िम्मेदारी नहीं लेना चाहते हैं। जेटली ने कहा था कि 18 महीनों से वे सेहत संबंधी समस्याओं से जूझ रहे हैं जिस कारण से वह नई सरकार में कोई पद नहीं लेना चाहते हैं।

9 अगस्त 2019 को अरुण जेटली को एम्स में भर्ती कराया गया था। तब पूर्व वित्त मंत्री ने सांस लेने में परेशानी की शिकायत की थी। एम्स में उन्हें आईसीयू में रखा गया था। इस से पहले मई महीने में अरुण जेटली की किडनी ट्रांसप्लांट की गई थी। अरुण जेटली कैंसर का इलाज करवाने अमेरिका भी गए थे। अरुण जेटली का जन्म 28 दिसंबर 1952 को हुआ था। पेशे से वकील जेटली ने भाजपा सरकार में वित्त और रक्षा मंत्री का पद संभाला था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 सड़क किनारे शौच करने पर दबंगों ने दलित को लात-जूते और लाठी-डंडों से पीटा, हो गई मौत; बचाने पहुंची बहन को दुधमुंहे बच्चे समेत फेंका
2 25 यूरोपीय राजनयिकों के साथ कश्मीर दौरे के बाद बोले फ्रेंच एम्बेसडर- जल्द दूर करें सारे प्रतिबंध
3 दिल्ली: पार्षद बने विधायक, खाली सीटों पर दावेदारी शुरू