ताज़ा खबर
 

विस चुनाव 2014: रिकॉर्ड मतदान की ओर झारखंड, जम्मू-कश्मीर

नक्सल प्रभावित राज्य झारखंड में आदिवासी संथाल परगणा के 16 विधानसभा क्षेत्र और जम्मू-कश्मीर के 20 विधानसभा क्षेत्रों में वोट डाले जा रहे हैं। झारखंड में दोपहर 1 बजे तक लगभग 54 प्रतिशत को वहीं दूसरी ओर जम्मू-कश्मीर में लगभग 30 फीसद वोट डाले गए हैं। झारखंड के पांचवे और अंतिम चरण में आज आदिवासी […]

Author December 20, 2014 4:41 PM
झारखंड और जम्मू-कश्मीर में विधानसबा चुनाव के अंतिम चरण का मतदान चल रहा है। (फ़ोटो-पीटीआई)

नक्सल प्रभावित राज्य झारखंड में आदिवासी संथाल परगणा के 16 विधानसभा क्षेत्र और जम्मू-कश्मीर के 20 विधानसभा क्षेत्रों में वोट डाले जा रहे हैं। झारखंड में दोपहर 1 बजे तक लगभग 54 प्रतिशत को वहीं दूसरी ओर जम्मू-कश्मीर में लगभग 30 फीसद वोट डाले गए हैं।

झारखंड के पांचवे और अंतिम चरण में आज आदिवासी संथाल परगणा के 16 विधानसभा क्षेत्रों में आज अपराह्न एक बजे तक शांतिपूर्ण ढंग से लगभग 53.86 प्रतिशत मतदान हो चुका है।

ठंड में सुबह सात बजे से शुरू हुए मतदान के दौरान लोगों को मतदान केन्द्रों पर कतारबद्ध देखा गया और दिन चढ़ने के साथ इसमें तेजी आयी।

झारखंड के मुख्य निर्वाचन अधिकारी पीके जाजोरिया ने बताया कि राज्य विधानसभा चुनावों के पांचवें और अंतिम चरण की 16 सीटों के लिए आज सुबह सात बजे शांतिपूर्ण ढंग से मतदान प्रारंभ हो गया और अपराह्न एक बजे तक शांतिपूर्ण ढंग से लगभग 53.86 प्रतिशत मतदान हो चुका है।

जाजोरिया ने कहा कि मतदाताओं के उत्साह को देखते हुए आज सत्तर प्रतिशत तक मतदान होने की संभावना है। उन्होंने बताया कि नक्सल प्रभावित होने के कारण सभी सोलह सीटों पर सुरक्षा बलों की बड़े पैमाने पर तैनाती की गयी है और अब तक कहीं से किसी अप्रिय घटना की सूचना नहीं है। सभी 16 विधानसभा सीटों पर दोपहर तीन बजे मतदान समाप्त हो जाएगा।

अब तक सर्वाधिक 60.5 प्रतिशत मतदान पाकुड़ में दर्ज किया गया है जहां पूर्व विधानसभाध्यक्ष कांग्रेस के आलमगीर आलम और झामुमो के अकील अख्तर चुनाव मैदान में हैं।

कुल मिलाकर राजमहल में 50 प्रतिशत, बोड़ियो में 46 प्रतिशत, बरहेट में 52, लिट्टीपाड़ा 59, पाकुड़ में 60.5, महेशपुर 58, शिकारीपाड़ा 60.15, दुमका 43, जामा में 56, जरमुंडी 57, नाला 56, जामताड़ा 57, सारठ में 59.5, पोरियाहाट 56, गोड्डा में 47 और महगामा में 48 प्रतिशत मतदान रिकॉर्ड किया गया है।

अंतिम चरण में आज सोलह सीटों के लिए सोलह ही महिला उम्मीदवारों समेत कुल 208 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। जहां नाला विधानसभा क्षेत्र से सर्वाधिक 19 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं वहीं लिट्टीपाड़ा क्षेत्र से सबसे कम आठ उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं।

जम्मू-कश्मीर में दोपहर तक करीब 30 प्रतिशत मतदान:

कड़ाके की ठंड के बावजूद जम्मू-कश्मीर में विधानसभा चुनाव के पांचवें और अंतिम चरण में दोपहर तक करीब 30 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया। एक आधिकारिक प्रवक्ता ने कहा, ‘‘जम्मू, कठुआ और राजौरी जिलों की 20 सीटों पर दोपहर तक 29.75 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया।’’

कई जगहों पर मतदाता सुबह आठ बजे मतदान शुरू होने से पहले ही मतदान केंद्रों पर कतार बांधकर खड़े दिखाई दिए। हाड़ कंपा देने वाली सर्दी के बावजूद मतदान केंद्रों के बाहर गर्म कपड़ों से लदे लोगों की लंबी कतारे देखी गयीं।

केंद्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह ने यहां अपने मताधिकार का इस्तेमाल करने के बाद मतदान के लिए बड़ी संख्या में आए लोगों को धन्यवाद दिया। उन्होंने गांधीनगर में एक मतदान केंद्र के बाहर संवाददाताओं से कहा, ‘‘मैं बड़ी संख्या में मतदान करने के लिए आए लोगों को धन्यवाद देता हूं। यह लोकतंत्र की जीत और लोकतांत्रिक प्रक्रिया के विरोधी सभी दूसरी ताकतों की हार है।’’

मीडिया से बात करते हुए जम्मू के जिला निर्वाचन अधिकारी अजीत कुमार साहू ने कहा कि मतदान शांतिपूर्ण रूप से जारी है और किसी भी जगह से किसी तरह की अप्रिय घटना की खबर नहीं है।

साहू ने कहा, ‘‘कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच लोग बड़ी संख्या में मतदान करने के लिए आ रहे हैं। 200 से अधिक सुरक्षा कंपनियां तैनात की गयी हैं। हमें आज भारी मतदान की उम्मीद है।’’

उपमुख्यमंत्री तारा चंद और चार मंत्री उन 312 उम्मीदवारों में शामिल हैं जिनकी किस्मत का आज फैसला होगा। चुनाव अधिकारियों ने बताया कि कठुआ जिले के बनी विधानसभा क्षेत्र में सबसे अधिक 41 प्रतिशत मतदान हुआ जबकि जम्मू शहर के जम्मू पूर्व विधानसभा क्षेत्र में सबसे कम 19.20 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया।

आरएस पुरा विधानसभा क्षेत्र में 38 प्रतिशत, नगरोटा में 34 प्रतिशत, रायपुर डोमाना में 33.28 प्रतिशत, छम्ब और सुचेतगढ़ में 32-32 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया।
इसी तरह हीरानगर में 30.47, बिश्नाह में 28, मढ़ में 38.28, कठुआ में 34.19, बशोली में 27, बिल्लावर में 29.88, गांधीनगर में 24 और जम्मू पश्चिम में 25.80 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया। इनके अलावा नौशेरा में 25.24, दरहाल में 27.21, कालाकोटे में 20.65, राजौरी में 28.04 और अखनूर में 38.52 प्रतिशत मतदान हुआ।

पिछले चार चरणों में विशेषकर कश्मीर घाटी में रिकॉर्ड मतदान होने के बाद जम्मू क्षेत्र के जम्मू, कठुआ और राजौरी जिलों में भारी मतदान होने की उम्मीद है।
जम्मू क्षेत्र की सीटों पर 213 उम्मीदवार खड़े हैं जिनमें उपमुख्यमंत्री तारा चंद के अलावा श्यामलाल शर्मा, रमन भल्ला, मनोहर लाल शर्मा, अजय सधोत्रा जैसे मंत्री, भाजपा के पूर्व सांसद और मंत्री लाल सिंह एवं तालिब हुसैन शामिल हैं।

इन तीनों सीमाई जिलों में मतदाताओं की कुल संख्या 18,28,904 है जिसमें पुरुष मतदाताओं की संख्या 9,59,011 और महिला मतदाताओं की संख्या 8,69,891 है।
भाजपा के लिए इस चरण का चुनाव बेहद महत्वपूर्ण है क्योंकि 2008 के विधानसभा चुनाव में पार्टी को 10 सीटें हासिल हुई थीं। इसके बाद कांग्रेस ने पांच, नेशनल कांफ्रेंस ने दो, पीडीपी ने एक सीट जीती थी और दो पर निर्दलीय उम्मीदवार विजयी हुए थे।

तीनों सीमाई जिलों में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी गयी है और चुनाव को देखते हुए सुरक्षा बलों के लिए अलर्ट जारी कर दिया गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App