ताज़ा खबर
 

मुगलों का वंशज होने का दावा कर शख्स ने कहा- अयोध्या में राम मंदिर से एतराज नहीं, ओवैसी को बताया जोकर

साल 2002 में प्रिंस तूसी और उनके परिवार को कोर्ट ने बहादुर शाह जफर का वंशज मान लिया है। तूसी ने कहा कि बाबर का वंशज होने के नाते मैं ये बात कहना चाहता हूं कि अगर वहां मंदिर बनता है तो पहली ईंट मैं ही रखूंगा।

मुगल वंश के कथित वंशज प्रिंस तूसी। फोटो- Facebook/@PrinceofMoghals

मुगल वंश के आखिरी बादशाह बहादुर शाह जफर के कथित उत्तराधिकारी होने का दावा प्रिंस याकुब हबीबउद्दीन तूसी करते रहे हैं। इस बार प्रिंस तूसी ने राम मंदिर पर बड़ा बयान दिया है। समाचार एजेंसी एएनआई को दिए अपने बयान में प्रिंस तूसी ने कहा कि अगर अयोध्या की विवादित भूमि पर मंदिर का निर्माण करवाया जाता है तो हमें बाबर का वंशज होने के नाते कोई आपत्ति नहीं है। इसके अलावा अगर मंदिर की नींव रखी जाएगी तो पहली ईंट रखने के लिए खुद मैं वहां जाऊंगा।

हैदराबाद के रहने वाले प्रिंस याकुब हबीबउद्दीन तूसी ने एएनआई से कहा,” बाबर ने मरने के वक्त हुमायूं से अपनी वसीयत के बारे में कहा था कि मीर बाकी ने अयोध्या में जो हरकत की है उससे पूरे तैमूरी खानदान पर कलंक लग गया है। दूसरी बात जो उन्होंने कही थी कि अगर हिंदुस्तान में तुम्हें हुकूमत करनी है तो संतों-महंतों को ऐहतराम करो। मंदिरों की हिफाजत करो और एक जैसा न्याय करो।”

प्रिंस तूसी ने आगे कहा,” मुगलों ने कभी भी भारत की जनता का मन नहीं दुखाया है। मीर बाकी ने किया तो हमने अयोध्या में जाकर भी कहा है और सारे हिंदू समाज से भी माफी मांगी है। इसके अलावा जो छोटे-मोटे लीडर हैं जिनका इस मामले से कोई लेना-देना नहीं है। ये पूरी तरह से उत्तराधिकार का मामला है। हमारे पास एक जोकर है हैदराबाद में, ओवैसी। इसके अलावा एक है मुस्लिम पसर्नल लॉ, जिनका इस मामले से कोई लेना-देना नहीं है।

प्रिंस तूसी ने दावा किया कि ये पूरी तरह से उत्तराधिकार का मामला है। मंदिर-मस्जिद का मामला नहीं है। विवादित जमीन पर न तो मस्जिद बन सकती है और न ही नमाज हो सकती है इसीलिए कोर्ट से हमने कहा है कि अगर ये प्रॉपर्टी बाबर की निकल रही है तो हमें मंदिर बनाने की इजाजत देने में कोई आपत्ति नहीं है। साल 2002 में प्रिंस तूसी और उनके परिवार को कोर्ट ने बहादुर शाह जफर का वंशज मान लिया है। बाबर का वंशज होने के नाते मैं ये बात कहना चाहता हूं कि अगर वहां मंदिर बनता है तो पहली ईंट मैं ही रखूंगा।

वैसे बता दें कि प्रिंस तूसी को मुगल खानदान का आखिरी वंशज मानते हुए हर साल भारत सरकार और एएसआई ताजमहल में होने वाले शाहजहां के सालाना उर्स में उन्हें चादर चढ़ाने और संदल चढ़ाने की रस्म की अदायगी के लिए हर साल आगरा बुलाता है। प्रिंस तूसी भी अपने पूरे परिवार सहित इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए आगरा आते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App