जातिगत जनगणना को रोकने की कोशिश में हैं पीएम मोदी- लालू बोले- हम इसे कराकर रहेंगे, आए ऐसे कमेंट्स

राजद प्रमुख ने कहा कि अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति की जनसंख्या बढ़ गई है, इसलिए सरकार को उन्हें नौकरी देनी है। भले ही सरकार इससे इनकार करे लेकिन हम यह सुनिश्चित करेंगे कि जाति आधारित जनगणना हो।

lalu-yadav
राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव (एक्सप्रेस फोटो: आलोक जैन )

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ने शनिवार को दिल्ली में कहा कि वे जातिगत जनगणना लागू कराने के लिए आंदोलन करेंगे। उन्होंने कहा कि सभी पार्टी के लोग तैयार हैं। लालू यादव ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी और भाजपा यह योजना बना रहे हैं कि जातिगत जनगणना न हो।

राजद प्रमुख ने कहा कि अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति की जनसंख्या बढ़ गई है, इसलिए सरकार को उन्हें नौकरी देनी है। भले ही सरकार इससे इनकार करे लेकिन हम यह सुनिश्चित करेंगे कि जाति आधारित जनगणना हो। लालू यादव ने कहा कि अगर केंद्र सरकार जातीय जनगणना नहीं कराना चाहती है तो बिहार सरकार अपने खर्चे पर जातीय जनगणना कराए।

लालू यादव ने कहा, ”अगर जाति जनगणना नहीं होती है तो हम लोग इसके लिए देशव्यापी प्रदर्शन करेंगे।” इसके अलावा उन्होंने बिहार की नीतीश कुमार सरकार पर हमला बोला और कहा कि प्रदेश में अफसरशाही है और यह बात हम लोग पहले से ही कहते आ रहे हैं। लालू यादव ने कहा कि बिहार विधानसभा में मंत्री जीवेश मिश्रा के साथ जो हुआ वह गलत हुआ।

उन्होंने अधिकारियों पर कार्रवाई करने की मांग की। लालू प्रसाद ने कहा कि विधानसभा में शराब की बोतल मिलना बताता है कि राज्य में शराबबंदी को लेकर नीतीश सरकार की पुलिस किस तरह नाकाम साबित हो गई है।

सोशल मीडिया पर यूजर्स ने दी प्रतिक्रियाएं

वहीं, लालू यादव के जातिगत जनगणना कराने की मांग पर सोशल मीडिया पर यूजर्स ने तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं दीं। अरुण देहिंगिया नामक यूजर ने लिखा, ”यूपीए के समय में नहीं किया,अब गेम खेल रहे हैं।”

जबकि, राहुल गोयल नामक यूजर ने लिखा, ”हमें 2021 में जाति आधारित जनगणना की आवश्यकता क्यों है? हमें 21वीं सदी में इस जाति आधारित व्यवस्था को तोड़ने की जरूरत है।”

इसी तरह, एक अन्य यूजर ने लिखा, ”ये नेता जाति व्यवस्था खत्म नहीं होने देंगे।” एक यूजर बलराम ने लिखा, ”जाति आधारित जनगणना में क्या गलत है?इस देश के लोगों को मालूम होना चाहिए कि किस जाति को लाभ मिल रहा है और आरक्षण से कितनी मदद मिली है।”

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट