जब हेमा से जुड़े बयान पर सफाई देते वक्त लालू ने अटल बिहारी वाजपेयी का लिया था नाम

लालू प्रसाद यादव के कुछ बयान सियासी गलियारों में अक्सर ही चर्चा का विषय बने रहते हैं। हेमा मालिनी के गालों को लेकर की गई उनकी टिप्पणी कई बार चुनावी रैलियों और भाषण में सुनाई देती है।

AAJTAK Conclave, BJP, RJD
राष्ट्रीय जनता दल के नेता लालू प्रसाद यादव। (फाइल फोटो- रायटर)

लालू प्रसाद यादव के कुछ बयान सियासी गलियारों में अक्सर ही चर्चा का विषय बने रहते हैं। हेमा मालिनी के गालों को लेकर की गई उनकी टिप्पणी कई बार चुनावी रैलियों और भाषण में सुनाई देती है। एक मीडिया समूह के कार्यक्रम में लालू यादव ने इस बयान का खंडन करते हुए कहा कि यह बयान उन्होंने नहीं बल्कि अटल बिहारी वाजपेयी ने दिया था। लालू यादव समाचार चैनल ‘आज तक’ के ‘एजेंडा’ कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे थे। चर्चा के दौरान उन्होंने हेमा मालिनी के गालों की टिप्पणी पर अपना पक्ष रखते हुए कहा कि मैंने यह बयान नहीं दिया था और व्यक्तिगत तौर पर जाकर हेमा मालिनी को इस बयान के बारे में बताया भी था।

आरजेडी सुप्रीमो ने कहा कि अटल बिहारी वाजपेयी चटख मटख बात किया करते थे और लखनऊ में उन्होंने यह बयान दिया था। जिसके बाद उन्होंने इसे मेरे ऊपर डाल दिया था। एंकर के हेमा मालिनी से माफी मांगने के सवाल पर उन्होंने कहा कि मैंने माफी नहीं मांगी थी लेकिन उन्हें यह बता दिया था कि बयान मेरा नहीं बल्कि अटल बिहारी वाजपेयी का था।

किस बयान पर हो रही थी चर्चा: लालू के बयान को लेकर ऐसा कहा जाता है कि जब विरोधियों ने सड़कों की तुलना दिवंगत अभिनेता ओम पुरी के गालों से की थी तो जवाब में लालू ने कहा था कि आरजेडी सरकार पूरे बिहार में हेमा मालिनी के गालों जितनी मुलायम सड़के बना देगी।

जब हेमा मालिनी के प्रति जाहिर किया था अपना लगाव: एक मौके पर लालू यादव ने हेमा मालिनी के प्रति अपने लगाव को भी जाहिर किया था। साल 2016 की बात का वाक्या भी अक्सर याद किया जाता है। हेमा मालिनी एक कार्यक्रम में अपनी प्रस्तुति देने पहुंची थीं। वहां मुख्य अतिथि के तौर पर लालू प्रसाद यादव को बुलाया गया था। इस कार्यक्रम में लालू यादव ने बताया था कि हम हेमा जी को इतना पसंद करते हैं कि उन्हें पता भी नहीं होगा कि हमने अपनी एक बेटी का नाम उनके नाम पर हेमा रखा है।

लालू यादव इन दिनों राजनीति से दूर हैं, स्वास्थ्य कारणों से वह बहुत कम ही जनता के सामने आते हैं। राजनीतिक जगत में उनकी छवि एक हंसमुख नेता की रही है, अक्सर वह बयानों से विरोधियों के चेहरे पर हंसी ला दिया करते थे। अपने खास अंदाज के चलते लालू सिर्फ बिहार में नहीं बल्कि पूरी दुनिया में पहचाने जाते हैं।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट