ताज़ा खबर
 

लालू यादव का दावा-मेरे इस फॉर्मूले से 2019 में मिलेगी नरेन्द्र मोदी को मात

लालू यादव के मुताबिक सोनिया गांधी को कांग्रेस का अध्यक्ष होने के नाते महागठबंधन की शुरुआत करनी चाहिए, क्योंकि कांग्रेस भारत के हर राज्य में पहुंच रखने वाली पार्टी है।

राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के अध्यक्ष और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव। (फाइल फोटो)

आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने 2019 में पीएम मोदी को शिकस्त देने के लिए नया फॉर्मूला दिया है। लालू यादव ने कहा कि अगर यूपी, बिहार, पश्चिम बंगाल, और पंजाब के गैर एनडीए दल एक साथ आ जाएं तो 2019 में बीजेपी सत्ता से बाहर हो जाएगी। लालू ने अंग्रेजी अखबार इकोनॉमिक टाइम्स को दिये इंटरव्यू में कहा कि सोनिया गांधी को कांग्रेस का अध्यक्ष होने के नाते महागठबंधन की शुरुआत करनी चाहिए, क्योंकि कांग्रेस भारत के हर राज्य में पहुंच रखने वाली पार्टी है। लालू ने इस वक्त बिहार में महागठबंधन में टकराव की खबरों को खारिज किया, उन्होंने कहा कि बिहार में महागठबंधन बनने से पहले से कई विवाद थे, लेकिन देश को साम्प्रदायिक ताकतों से बचाने के लिए हमने एक साथ आने का फैसला किया।

लालू ने बीजेपी को पटखनी देने का फार्मूला बताया और कहा, यदि पूरब से पश्चिम तक विपक्षी पार्टियां एक साथ होकर बीजेपी के खिलाफ चुनाव लड़े तो बीजेपी से दिल्ली की कुर्सी छीनी जा सकती है, लालू ने विस्तार से बताया कि बीजेपी को रोकने के लिए पश्चिम बंगाल, बिहार, उत्तर प्रदेश और पंजाब के गैर बीजेपी दल एक साथ आएं तो ये महागठबंधन बन सकता है। लालू ने काह कि बीजेपी पाकिस्तान, श्मशान और कब्रिस्तान की राजनीति करती है लेकिन देश के गरीबों का इससे भला नहीं होने वाला है। लालू के मुताबिक विपक्ष के अलग होने का फायदा बीजेपी उठा रही है। लालू ने कहा कि उन्होंने ममता बनर्जी को सपोर्ट किया है, और मायावती से विपक्ष की दूसरी पार्टियों के साथ अपने मतभेद दूर करने को कहा है, इसके अलावा समाजवादी पार्टी के नेता पहले से ही इस महागठबंधन में शामिल होने के पक्षधर रहे हैं। लालू ने कहा कि अगर सबसे बड़ी पार्टी की अध्यक्ष होने के नाते सोनिया गांधी इस महागठबंधन की पहल करें तो पूरा उत्तर भारत कन्सॉलिडेट होगा, और देश के इतिहास में बड़ी राजनीतिक घटना साबित होगी।

लालू के मुताबिक महाराष्ट्र में बीजेपी और शिवसेना के बीच चल रहे टकराव का फायदा उन्हें मिलेगा। इसके अलावा माओवाद, महंगाई, केन्द्र की ढुलमुल नीतियां भी महागठबंधन के पक्ष में साबित होंगी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App