ताज़ा खबर
 

आइपीएल के पूर्व प्रमुख ललित मोदी के खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी

यहां धन शोधन रोकथाम कानून से संबंधित एक विशेष अदालत ने धन शोधन के एक मामले में प्रवर्तन निदेशालय के एक आवेदन पर आईपीएल के पूर्व प्रमुख ललित मोदी के खिलाफ आज गैर जमानती गिरफ्तारी वारंट जारी कर दिया ।

Author August 5, 2015 19:51 pm
ललित मोदी के खिलाफ मुंबई की अदालत ने गैर-जमानती वारंट जारी किया

इंडियन प्रीमियर लीग (आइपीएल) के पूर्व आयुक्त ललित मोदी के खिलाफ धन शोधन मामले में मुंबई की एक विशेष अदालत ने बुधवार को गैरजमानती वारंट जारी किया। मोदी के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय धनशोधन मामले में जांच कर रहा है। निदेशालय ने अदालत में याचिका दायर करते हुए मोदी के खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी करने की मांग की थी। बुधवार को गैरजमानती वारंट जारी होने के बाद मोदी की मुश्किलें बढ़ गई हैं क्योंकि अब उनके खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी करने का रास्ता साफ हो गया है।

विशेष अदालत के जज पीआर भावके ने सुनवाई के दौरान जानना चाहा कि अभी तक ललित मोदी को गिरफ्तार क्यों नहीं किया गया है और क्या जांच के दौरान मोदी के खिलाफ वारंट जारी किया गया है। निदेशालय के वकील हितेन वेणेगावकर ने अदालत को बताया कि ललित मोदी भारत में नहीं हैं। उन्हें नोटिस जारी किए गए थे मगर उन्होंने जवाब नहीं दिया। इसलिए निदेशालय चाहता है कि ललित मोदी के खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी किया जाए। निदेशालय का पक्ष सुनने के बाद अदालत ने ललित मोदी के खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी करने का निर्देश दिया। अदालत का मानना था कि चूंकि निदेशालय मोदी को तीन नोटिस जारी कर चुका है और मोदी ने एक भी नोटिस का जवाब नहीं दिया, लिहाजा मोदी के खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी करना उचित है।

मोदी के खिलाफ द बोर्ड आॅफ कंट्रोल फॉर क्रिकेट इन इंडिया (बीसीसीआई) ने चैन्नई में 2010 में भारतीय दंड विधान की कई धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज करवाई थी। 2012 में प्रवर्तन निदेशालय ने भी आइपीएल के करोड़ों रुपए के टेलीविजन प्रसारण अधिकार देने के मामले में धन शोधन कानून के तहत मोदी के खिलाफ मामला दर्ज किया था। निदेशालय ने मोदी को उनके वकील और ईमेल के जरिये नोटिस जारी किए।

वकील ने नोटिस स्वीकार नहीं किया जबकि ईमेल पर भेजे गए नोटिस का का जवाब मोदी ने नहीं दिया। इसके बाद मोदी के खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी करवाने के लिए प्रवर्तन निदेशालय ने 27 जुलाई को मुंबई की विशेष अदालत में याचिका दायर की थी।
निदेशालय ने अदालत में बिना चार्जशीट पेश किए याचिका दायर की थी। इसकी सफाई में उसका कहना था कि धनशोधन कानून के तहत बिना चार्जशीट पेश किए गैरजमानती वारंट जारी करने का प्रावधान है। इसके बाद अदालत ने बुधवार को ललित मोदी के खिलाफ गैरजमानती वारंट जारी किया। इस वारंट के जारी होने से ललित मोदी की गिरफ्तारी और उनके खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी करने का रास्ता साफ हो गया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App