ताज़ा खबर
 

…जब कोकीन की तस्करी में गिरफ्तार हुए ललित मोदी

ललित मोदी प्रकरण में घिरी भाजपा सरकार अब उन्हीं के जरिए दूसरे नेताओं पर नकेल कसने की फिराक में है। इसलिए सरकार अब उन्हें जल्द से जल्द भारत लाना चाहती है। सरकार को लगने लगा है...

ललित मोदी प्रकरण में घिरी भाजपा सरकार अब उन्हीं के जरिए दूसरे नेताओं पर नकेल कसने की फिराक में है। इसलिए सरकार अब उन्हें जल्द से जल्द भारत लाना चाहती है। सरकार को लगने लगा है कि मुंहफट ललित मोदी को छुट्टा घूमने देना मुसीबत मोल लेने जैसा है क्योंकि वे कभी भी किसी के खिलाफ कुछ भी कह सकते हैं।

वित्त मंत्रालय के तहत आने वाले प्रवर्तन निदेशालय ने ललित मोदी पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। उसके खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस भी जारी करवाया जा सकता है। इसकी वजह यह है कि जिस तरह से उन्होंने वसुंधरा के खिलाफ दस्तावेज जारी किए वह इस बात का सबूत है कि वे कभी भी इन नेताओं के बारे में कुछ भी कह कर नया विवाद खड़ा कर सकते हैं। लिहाजा उनका मुंह बंद रखने के लिए उन्हें स्वदेश लाना जरूरी है। इसके कुछ और भी लाभ होंगे।

सुषमा स्वराज से उनके पारिवारिक रिश्ते तो जगजाहिर हैं। साथ ही शरद पवार, प्रफुल्ल पटेल, राजीव शुक्ला, सलमान खुर्शीद सरीखे नेताओं से भी उनके मधुर संबध रहे हैं। सरकार की पकड़ में आने पर वे उनके खिलाफ भी मूल्यवान जानकारी दे सकते हैं जो कि निकट भविष्य में राज्यसभा में अटके विधेयकों को पारित करवाने व बिहार विधानसभा के पहले इन तमाम दलों को बेनकाब कर देने में सहायक साबित हो सकता है। ललित मोदी के खिलाफ 16 नोटिस जारी भी किए जा चुके हैं।

भाजपा में उन्हें करीब से जानने वाले बताते हैं कि वे कभी किसी के सगे नहीं रहे। जाने माने उद्योगपति गूजरमल मोदी के बेटे केके मोदी के पुत्र ललित मोदी शरद पवार से लेकर राजीव शुक्ला व अरुण जेटली तक को धता बता चुके हैं। शिमला के बिशप काटन स्कूल में प्रारंभिक शिक्षा लेने के बाद ललित मोदी उत्तरी कैरोलिना की ड्यूक यूनिवर्सिटी में पढ़ने गए जहां उन्हें कोकीन की तस्करी के मामले में गिरफ्तार किया गया। प्ली बारगेन के चलते दो साल की सजा होने के बाद भी वे जेल जाने से बच गए।

इसके बाद वे भारत लौटे। संयोग से उनकी मां की सहेली मीनल भी उस समय भारत आ चुकी थीं जो कि दक्षिण अफ्रीका के एक बड़े व्यापारी पेसू आसवानी की बेटी थीं। उनका अपने पति से तलाक हो चुका था जो कि हेराफेरी के अपराध में जेल में सजा काट रहे थे। उनकी पहले पति से एक बेटी थी। मीनल उम्र में ललित से 10 साल बड़ी थीं। उन दोनों का चक्कर चल गया और ललित मोदी उनसे शादी करने के लिए अड़ गए। यह उनके मां बाप के लिए बहुत बड़ा झटका था।

ललित मोदी नहीं माने और केके मोदी ने एक समझौते के तहत देश की दूसरे नंबर की अपनी तंबाकू कंपनी गाडफ्रे फिलिप्स में उन्हें निदेशक बना दिया ताकि उनको वेतन के रूप में खर्च मिलता रहे। उन्होंने ललित मोदी को मुंबई भेज दिया जहां वे गाडफ्रे फिलिप्स के अतिथि गृह में रहने लगे।

मुंबई में ही ललित मोदी बीना किलाचंद के संपर्क में आए जो कि वसुंधरा राजे की बचपन की दोस्त व सहपाठी थीं। उन्होंने मोदी की वसुंधरा से मुलाकात करवा दी। बस इसके बाद ललित मोदी ने पीछे मुड़ कर नहीं देखा। वे जयपुर पहुंच गए। वसुंधरा राजे के मुख्यमंत्री बनने के बाद वे सुपर मुख्यमंत्री की तरह बर्ताव करने लगे। मोदी को राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन (आरसीए) पर कब्जा करवाने के लिए वसुंधरा सरकार ने कानून बदलवा दिया और आरसीए के 67 सदस्यों से मतदान का अधिकार छीन कर यह फैसला करने का अधिकार 33 जिला इकाइयों को सौंप दिया। इससे पहले तीन दशकों से एसोसिएशन पर रूंगटा परिवार का कब्जा था।

इसी दौरान उसने राज्य सरकार की मदद से ललित मोदी ने पुरातत्व विभाग की दो हवेलियां चंद लाख रुपए में अपनी कंपनी के लिए हासिल कर लीं ताकि वहां वे हेरिटेज होटल बना सकें। उन्होंने वसुंधरा राजे के सांसद बेटे दुष्यंत की कागजी कंपनी नियंत हेरिटेज होटल्स के 10 रुपए के शेयर 96180 रुपए की दर से अपनी कंपनी आनंद हेरिटेज होटल के नाम खरीदे। इसके लिए सिंगापुर की कंपनी विल्टन इनवेस्टमेंट के जरिए 11.63 करोड़ रुपए का भुगतान किया गया।

अब भाजपा इस बारे में यह सफाई दे रही है कि दुष्यंत ने आयकर रिटर्न में इसका खुलासा कर दिया था। लेकिन ललित मोदी ने जिस तरह से वसुंधरा राजे का यह हलफनामा उजागर किया है कि वे उसके बारे में ब्रिटिश सरकार को जो गारंटी दे रही हैं उसे उजागर न किया जाए, भाजपा के लिए गले की फांस बन गया है। ललित मोदी के वसुंधरा से संबंध बिगड़ चुके हैं और उन्होंने अपने वकील के जरिए ये कागजात जारी करवा कर साबित कर दिया है कि वे कितना खतरनाक साबित हो सकते हैं। उनके हर दल में गहरे संबंध हैं। इसीलिए वे अभी तक बचते रहे हैं और किसी ने भी उनको पकड़ कर भारत लाने की कोशिश नहीं की। शरद पवार ने लंदन में मोदी से मुलाकात की बात को स्वीकार करते हुए कहा कि उन्होंने तो बस मोदी को भारत लौट आने की सलाह दी थी।

(विवेक सक्सेना)

Next Stories
1 लंदन में ललित मोदी से मिले थे मुंबई पुलिस कमिश्नर राकेश मारिया
2 जेल में ही रहेंगे आसाराम, कोर्ट ने फिर ख़ारिज की ज़मानत याचिका
3 गुड़गांव में 22 वर्षीय महिला से सामूहिक बलात्कार
ये पढ़ा क्या?
X