ताज़ा खबर
 

राम मंदिरः जज्बाती हो बोले एलके आडवाणी- भूमि पूजन का दिन ऐतिहासिक, 1990 में मंदिर आंदोलन में होना मेरा सौभाग्य

आडवाणी ने कहा कि , ‘‘श्री राम का स्थान भारतीय संस्कृति और सभ्यता की धरोहर में सर्वोच्च है और वे विनीत, मर्यादा और शिष्टाचार के मूर्तरूप हैं। मेरा मानना है कि यह मंदिर सभी भारतीयों को भगवान राम के गुणों को आत्मसात करने के लिए प्रेरित करेगा।’’

LK Advani, Ram Mandirपूर्व उप प्रधानमंत्री ने मंगलवार को एक बयान जारी कर कहा कि उनका मानना है कि राम मंदिर एक शांतिपूर्ण सौहार्दपूर्ण राष्ट्र के रूप में भारत का प्रतिनिधित्व करेगा।(फाइल फोटो)

राम मंदिर निर्माण से पहले भूमि पूजन कार्यक्रम में भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी ने जज्बात छलक आए। उन्होंने कहा कि भूमि पूजन का दिन ऐतिहासिक है और 1990 में मंदिर आंदोलन में मेरा होना सौभाग्य की बात है।अयोध्या में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों राम मंदिर निर्माण के शिलान्यास से ठीक एक दिन पहले वरिष्ठ भाजपा नेता लालकृष्ण आडवाणी ने 1990 में रामजन्मभूमि आंदोलन के दौरान सोमनाथ से अयोध्या तक की ‘‘राम रथ यात्रा’’ में अपनी भूमिका का स्मरण करते कहा कि यह उनके और सभी भारतीयों के लिए ऐतिहासिक और भावपूर्ण दिन है।

पूर्व उप प्रधानमंत्री ने मंगलवार को एक बयान जारी कर कहा कि उनका मानना है कि राम मंदिर एक शांतिपूर्ण सौहार्दपूर्ण राष्ट्र के रूप में भारत का प्रतिनिधित्व करेगा जहां सबके लिए न्याय होगा और कोई भी बहिष्कृत नहीं होगा, ताकि देश ‘‘राम राज्य’’ की ओर अग्रसर हो, जो ‘‘सुशासन का प्रतिमान’’ है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं विनम्रता का अनुभव करता हूं कि नियति ने मुझे वर्ष 1990 में रामजन्मभूमि आंदोलन के दौरान सोमनाथ से अयोध्या तक राम रथ यात्रा का दायित्व प्रदान किया और इस यात्रा ने असंख्य लोगों की आकांक्षा, उर्जा और अभिलाषा को प्रेरित किया।’’

उन्होंने कहा, ‘‘श्री राम का स्थान भारतीय संस्कृति और सभ्यता की धरोहर में सर्वोच्च है और वे विनीत, मर्यादा और शिष्टाचार के मूर्तरूप हैं। मेरा मानना है कि यह मंदिर सभी भारतीयों को भगवान राम के गुणों को आत्मसात करने के लिए प्रेरित करेगा।’’ उल्लेखनीय है कि 92 वर्षीय आडवाणी को कोरोना महामारी के मद्देनजर उनकी उम्र को देखते हुए शिलान्यास समारोह के लिए आमंत्रित सदस्यों की सूची में नहीं रखा गया है।

PM का क्या है अयोध्या प्लान?: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार को अयोध्या में ‘‘श्री राम जन्मभूमि मंदिर’’ के शिलान्यास के मौके पर आयोजित एक जन समारोह में शामिल होंगे। प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी एक विज्ञप्ति में कहा गया कि इस कार्यक्रम से पहले मोदी हनुमानगढ़ी में ‘‘पूजा’’ और ‘‘दर्शन’’ करेंगे। मंदिर के शिलान्यास समारोह में शामिल होने के लिए मोदी अयोध्या का दौरा करेंगे, आज इसकी आधिकारिक रूप से पुष्टि हुई।

हनुमानगढ़ी में पूजा अर्चना के बाद प्रधानमंत्री ‘‘श्री राम जन्मभूमि’’ जाएंगे जहां वह ‘भगवान श्री रामलला विराजमान’ की पूजा और दर्शन में शामिल होंगे। बयान के मुताबिक प्रधानमंत्री पारिजात का पौधा लगाएंगे और फिर भूमि पूजन करेंगे। मंदिर निर्माण की आधारशिला रखने के लिए वह एक पट्टिका का अनावरण करेंगे और इस मौके पर ‘‘श्री राम जन्मभूमि मंदिर’’ पर एक स्मारक डाक टिकट भी जारी करेंगे।

(भाषा इनपुट्स के साथ)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 बाबर रोड का नाम हो 5 अगस्त मार्ग- भूमि पूजन से पहले BJP नेता विजय गोयल ने उठाई मांग
2 PAK का नया नक्शाः लद्दाख-सियाचिन और जूनागढ़ को बताया अपना, तो बोला भारत- ये मूर्खता की कोशिश
3 बजरंगबली का हनुमान से बड़ा कोई भक्त नहीं- जब चैनल पर ‘प्रवचन’ करते एंकर ने कहा ऐसा तो हुई किरकिरी
ये पढ़ा क्या?
X