ताज़ा खबर
 

जाधव का मामला हाथ में लेने वाले बकील को लाहौर हाईकोर्ट बार एसोसिएशन ने दी कार्रवाई की चेतावनी

लाहौर हाईकोर्ट बार एसोसिएशन ने सर्वसम्मति से यह फैसला लिया है कि जो भी वकील भारतीय जासूस कुलभूषण जाधव को अपनी सेवाएं देगा उसकी सदस्यता रद्द कर दी जाएगी।

Author April 14, 2017 8:03 PM
भारतीय नौसेना के पूर्व अधिकारी कुलभूषण जाधव को पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ने मार्च 2016 में पकड़ लिया था।

लाहौर हाईकोर्ट बार एसोसिएशन ने आज (14 अप्रैल) कहा कि वह भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को अपनी सेवाएं देने वाले वकील के खिलाफ कार्रवाई करेगा। पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने जाधव को मौत की सजा सुनाई है। लाहौर हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के महासचिव आमेर सईद रान ने बार की बैठक के बाद कहा, लाहौर हाईकोर्ट बार एसोसिएशन ने सर्वसम्मति से यह फैसला लिया है कि जो भी वकील भारतीय जासूस कुलभूषण जाधव को अपनी सेवाएं देगा उसकी सदस्यता रद्द कर दी जाएगी। उनके मुताबिक बार ने सरकार से कहा है कि जाधव के मामले में वह किसी भी विदेशी दबाव के आगे न झुके। उन्होंने कहा, भारत ने जाधव को अपना बेटा घोषित किया है और वह उसकी रिहाई के लिए पाकिस्तान की सरकार पर दबाव बना रहा है। हमारी मांग है कि पाकिस्तानियों के जीवन से खेलने वाले भारतीय जासूस को बख्शा नहीं जाना चाहिए और सरकार को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि उसे फांसी दी जाए।

इससे पहले, सैन्य प्रमुख जनरल कमर बाजवा के तहत पाकिस्तान के शीर्ष सैन्य कमांडरों ने यह स्पष्ट कर दिया कि इस किस्म की राष्ट्र विरोधी गतिविधियों पर कोई भी समझौता नहीं किया जाएगा। फील्ड जनरल कोर्ट मार्शल ने 46 वर्षीय जाधव को पाकिस्तान में जासूसी और तोड़फोड़ करने का दोषी पाया था जिसके बाद सैन्य प्रमुख जनरल बाजवा ने उनकी मौत की सजा की पुष्टि की थी। भारत ने स्वीकार किया था कि जाधव नौसेना में काम कर चुके हैं। लेकिन सरकार के साथ उनके किसी भी तरह के संपर्क से इनकार किया था।

कुलभूषण जाधव मामले में पाकिस्तान रोज रोज नये पैंतरेबाजी दिखा रहा है। शुक्रवार (14 अप्रैल) को विदेश मामलों के पाकिस्तानी प्रधानमंत्री के सलाहकार सरताज अजीज ने नया राग छेड़ा। उन्होंने कहा कि अगर कुलभूषण जाधव बेकसूर है तो वो हिन्दू और मुसलमान बनकर अलग अलग नाम से दो पासपोर्ट क्यों रखे हुए था। बता दें कि पाकिस्तान ने दावा किया है कि कुलभूषण जाधव के पास से दो पासपोर्ट बरामद हुए हैं। सरताज अजीज ने कहा कि भारत सरकार ये नहीं बता पाई है कि उनका नेवी कमांडर पाकिस्तान में क्या कर रहा था। सरताज अजीज ने ये भी कहा कि कुलभूषण जाधव पाकिस्तानी सैन्य अदालत के फैसले के खिलाफ 40 दिनों के अंदर अपील कर सकता है। बता दें कि कुछ ही दिन पहले सरताज अजीज ने ही कहा कि पाकिस्तान के पास कुलभूषण जाधव के खिलाफ मुकदमा चलाने के लिए जरूरी सबूत मौजूद नहीं है।

कौन हैं कुलभूषण जाधव? जानिए क्या हैं उन पर आरोप, देखें वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App