ताज़ा खबर
 

शाहीन बाग में विरोध कर रही महिला ने PM मोदी से पूछा- ‘तुम कब आओगे’, कहा- आओ करें चाय पे चर्चा, सुनो हमारे ‘मन की बात’

पोस्टकार्ड में महिलाओं की एक बड़ी जमात ने #तुमकबआओगे हैशटैग का इस्तेमाल करते हुए पीएम मोदी को शाहीन बाग में बुलाया है। इसका आयोजन 'फ्रेंड ऑफ शाहीन बाग' नामक एक ग्रुप ने किया है जिमने वकील, समाजिक कार्यकर्ता और स्थानीय जैसे बड़े लोग शामिल हैं।

Author नई दिल्ली | Updated: January 19, 2020 5:28 PM
शाहीन बाग में विरोध करती महिलाएं (फोटो सोर्स: इंडियन एक्सप्रेस)

(यशी)

CAA और NRC के विरोध में शाहीन बाग की औरतों ने पीएम मोदी को पोस्टकार्ड लिखकर ‘मन की बात’ को ‘चाय पर चर्चा’ करने की बात कही है। कानून के खिलाफ 36 दिनों से विरोध कर रही शाहीन बाग की औरतों ने करीब 2000 पोस्टकार्ड लिखे फिर इसे पीएम मोदी को भेजने की बात कही है। उनका कहना है कि पीएम उनकी पास आए और ‘चाय पर चर्चा’ में उनकी ‘मन की बात’ सुने। विरोध पर बैठी महिलाओं ने पैसों के लिए प्रदर्शन करने के आरोप को भी गलत ठहराया है। बता दें कि शाहीन बाग के विरोध को देखकर देश के कई हिस्सों में इस तरह के प्रदर्शन का आयोजन भी हुआ है।

पोस्टकार्ड में महिलाओं ने क्या लिखाः बता दें कि CAA और NRC के विरोध को नया रुप देने के लिए यहां पर महिलाओ ने एक नया तरीका निकाला है। पोस्टकार्ड में महिलाओं की एक बड़ी जमात ने #तुमकबआओगे हैशटैग का इस्तेमाल करते हुए पीएम मोदी को शाहीन बाग में बुलाया है। इसका आयोजन ‘फ्रेंड ऑफ शाहीन बाग’ नामक एक ग्रुप ने किया है जिमने वकील, समाजिक कार्यकर्ता और स्थानीय जैसे बड़े लोग शामिल हैं। पीएम मोदी से ‘मन की बात’ और ‘चाय पर चर्चा’ करने के लिए दावत दिया है।

Hindi News Live Hindi Samachar 19 January 2020: देश-दुनिया की तमाम बड़ी खबरे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करे

प्रदर्शनकारी महिलओं ने क्या कहाः शाहीन बाग में प्रदर्शन कर रही महिलाओं ने कहा कि वह अपनी बात पीएम मोदी तक पहुंचाना चाहती हैं। प्रदर्शन में शामिल फैशन डिजाइनर हुमा नाज ने कहा कि पीएम ‘बेटी बचाओं’ के बारे में बात करते हैं, लेकिन वे हमारी समस्याओं को सुनने नहीं आते हैं। उसने यह भी कहा कि कई दिनों से यहां हम विरोध कर रहे हैं, लेकिन हमारी कोई नहीं सुनता है।

विरोध कर रही महिलाओं ने बेइज्जती नहीं करने की बात कहीः विरोध में शामिल एक और महिला वहीदन ने बताया कि वह अपने घरों के कामों को छोड़कर यहां आती हैं, लेकिन उनकी कोई नहीं सुनने वाला है। फैशन डिजाइनर नाज ने यह भी कहा कि नेता अगर उनका साथ नहीं देते हैं तो सही लेकिन उनके खिलाफ गलत बयानबाजी न करें। नाज ने यह भी बोला कि अगर नेता उनसे सहमत नहीं हो सकते हैं तो वे उनकी बेइज्जती भी नहीं कर सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 उत्तराखंडः उर्दू की जगह अब संस्कृत में लिखे जाएंगे रेलवे स्टेशनों के नाम, सरकार बोली- नियम के तहत हो रहा बदलाव
2 यूपी पुलिस ने खारिज किया CAA का विरोध कर रहीं महिलाओं से कंबल छीनने का आरोप, कहा- कानूनी रूप से जब्त किए
3 कर्मचारी के रिटायरमेंट पर आनंद महिंद्रा ने किया दिल जीतने वाला इमोशनल ट्वीट, इंटरनेट पर हो रही वाहवाही
शाहीन बाग LIVE
X