जिस दिन से आंदोलन छोड़कर गए, तब से BJP की कठपुतली बन गए हैं BKU (भानु) चीफ, करा रहे किरकिरी- बोले KSU अध्यक्ष

चौधरी पुष्पेंद्र सिंह ने कहा कि भानु प्रताप सिंह ने जीवन भर किसानों के लिए संघर्ष किया है। लेकिन जिस दिन ये किसान आंदोलन छोड़ कर गए हैं। उस दिन से ये खुद भाजपा की कठपुतली बन गए हैं।

किसान आंदोलन से अलग होने के बाद से ही बीकेयू(भानु गुट) के अध्यक्ष भानु प्रताप सिंह लगातार दिल्ली की सीमाओं पर चल रहे आंदोलन के खिलाफ बयानबाजी कर रहे हैं। (एक्सप्रेस फोटो)

पिछले साल दिसंबर के महीने में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के साथ मुलाक़ात के बाद भारतीय किसान यूनियन (भानु गुट) के अध्यक्ष भानु प्रताप सिंह ने अपने संगठन को किसान आंदोलन से अलग कर लिया था। तब से ही वे किसान आंदोलन के खिलाफ बयान दे रहे हैं। किसान आंदोलन के प्रति भानु प्रताप सिंह के रुख को लेकर आजतक न्यूज चैनल पर आयोजित टीवी डिबेट शो में किसान शक्ति संघ के अध्यक्ष चौधरी पुष्पेंद्र सिंह ने कहा कि जिस दिन से भानु प्रताप सिंह आंदोलन छोड़ कर गए हैं तब से वो बीजेपी की कठपुतली बन गए हैं और अपनी किरकिरी करा रहे हैं।

दरअसल आजतक न्यूज चैनल पर आयोजित कार्यक्रम में एंकर अंजना ओम कश्यप ने डिबेट में मौजूद रहे किसान शक्ति संघ के अध्यक्ष चौधरी पुष्पेंद्र सिंह से सवाल पूछते हुए कहा कि भानु प्रताप सिंह कह रहे हैं कि देश में लंबे समय तक कांग्रेस की सरकार रही है इसलिए ही किसानों की ऐसी दुर्गति हुई है और कुछ किसान नेता उनकी कठपुतली बने हुए हैं। 

एंकर के सवाल के जवाब में चौधरी पुष्पेंद्र सिंह ने कहा कि जहां तक भानु प्रताप सिंह का सवाल है, उन्होंने जीवन भर किसानों के लिए संघर्ष किया है। लेकिन जिस दिन ये किसान आंदोलन छोड़ कर गए हैं। उस दिन से ये खुद भाजपा की कठपुतली बन गए हैं। ये लगातार किसानों के खिलाफ बयान दे रहे हैं। साथ ही उन्होंने भानु प्रताप सिंह से सवाल पूछने वाले अंदाज में कहा कि अगर आपको आंदोलन नहीं करना है और आप इन मांगों के साथ नहीं खड़े हो तो क्या आप किसानों के लिए एमएसपी की क़ानूनी गारंटी भी नहीं चाहते हैं।

आगे चौधरी पुष्पेंद्र सिंह ने कहा कि आपने आंदोलन छोड़ दिया है इसकी खीज किसान नेताओं पर नहीं निकालिए। आप किसानों के बीच में अपनी किरकिरी खुद ही करा रहे हैं। किसान कह रहे हैं कि ये व्यक्ति किसानों के खिलाफ क्यों बोलते हैं। इसलिए आपको किसानों के खिलाफ नहीं बोलना चाहिए क्योंकि आप बहुत सम्मानित व्यक्ति रहे हैं और आपने बहुत संघर्ष किया है।

बता दें कि पिछले साल दिसंबर के महीने में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से मुलाकात के बाद भारतीय किसान यूनियन (भानु गुट) के अध्यक्ष भानु प्रताप सिंह ने अपने संगठन की ओर से नोएडा बॉर्डर पर चल रहा किसान आंदोलन ख़त्म कर लिया था। आंदोलन ख़त्म करने के बाद से ही वे किसान नेता राकेश टिकैत और दिल्ली की सीमाओं पर चल रहे किसान आंदोलन को लेकर हमलावर हैं। पिछले दिनों भी भानु प्रताप सिंह ने कहा था कि राकेश टिकैत दिल्ली की सीमाओं पर आतंक फैला रहे हैं और भाजपा विरोधी दलों द्वारा किसान आंदोलन की फंडिंग की जा रही है।     

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट
X