ताज़ा खबर
 

शाही इमाम बरकाती की लड़कियों को नसीहत, रेप से बचना है तो छोटी ड्रेस की जगह शालीन कपड़े पहनो

इससे पहले 13 जनवरी को शाही इमाम ने महिलाओं के लिए ड्रेस कोड तय करते हुए बताया था कि हिंदू हो या मुस्लिम, हिंदुस्तानी संस्कृति के अनुरुप भारतीय महिलाओं को खुद को पर्दे में रखना चाहिए।

Author कोलकाता | January 18, 2017 4:30 PM
लड़कियो को शाही इमाम की नसीहत। (ANI Photo)

देशभर में लड़कियों और महिलाओं की सुरक्षा लेकर बहस छिड़ी हुई है। इस बीच रेप को लेकर कोलकाता के टीपू सुल्तान मस्जिद के शाही इमाम सैयद मोहम्मद नुरुर आर बरकाती ने बयान देकर नए विवाद को जन्म दे दिया है। उन्होंने कहा कि लड़कियां अगर खुद को रेप और हत्या से बचाना चाहती है तो उन्हें छोटे कपड़े पहनने से परहेज करना चाहिए। उन्होंने आगे कहा कि लड़कियों को छोटे कपड़े में देखकर लड़के उत्तेजित हो जाते हैं और इससे बचने के लिए लड़कियों को शालीन कपड़े पहनने चाहिए।

एएनआई से बातचीत में शाही इमाम बरकाती ने कहा कि इन दिनों लड़कियां बहुत छोटे कपड़े और काफी खुली हुई शर्ट्स पहनती है। हम उन्हें ड्रेस पहनने से रोक नहीं रहे हैं लेकिन, उन्हें छोटे कपड़े पहनने से बचना चाहिए ताकि वह लड़कों की उत्तेजना से बच सके। साथ ही उन्होंने कहा कि छोटे कपड़े पहनने का नतीजा हमें रेप और मर्डर के रूप में दिखता है।

HOT DEALS
  • JIVI Revolution TnT3 8 GB (Gold and Black)
    ₹ 2878 MRP ₹ 5499 -48%
    ₹518 Cashback
  • Sony Xperia XA Dual 16 GB (White)
    ₹ 15940 MRP ₹ 18990 -16%
    ₹1594 Cashback

इससे पहले 13 जनवरी को शाही इमाम ने महिलाओं के लिए ड्रेस कोड तय करते हुए बताया था कि हिंदू हो या मुस्लिम, हिंदुस्तानी संस्कृति के अनुरुप भारतीय महिलाओं को खुद को पर्दे में रखना चाहिए। बरकाती की यह बयान समाजवादी पार्टी के नेता अबु आजमी के उस बयान के बाद आया है, जिसमें उन्होंने लड़कियों के ड्रेसिंग स्टाइल पर आपत्तिजनक बयान दिया था। अपने बयान में आजमी ने बेंगलुरु में लड़कियों के साथ हुई छेड़छाड़ के लिए उनके छोटे कपड़ों को जिम्मेदार बताया। आज के जमाने में महिला जितना नग्न रहती हैं उन्हें उतना ही उन्हें मॉर्डन और पढ़ा-लिखा कहा जाता है। यह देश में ज्यादा ही बढ़ रहा है। यह हमारी संस्कृति पर धब्बे की तरह है।’ खबरों के मुताबिक, आजमी यहीं नहीं रुके। उन्होंने सलाह दी कि महिलाओं को परिवार के साथ ही बाहर निकलना चाहिए।

गौरतलब है कि आईटी सिटी बेंगलुरु में नए साल के जश्न में हुआ पार्टी के दौरान लड़कियों से छेड़छाड़ का मामला सामने आया था। इस घटना की पूरे देश में निंदा हुई थी। लोगों की ओर से दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की मांग की थी।

निर्भया गैंगरेप केस: चार सालों में आखिर क्या बदला?

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App