ताज़ा खबर
 

कलकत्‍ता हाई कोर्ट ने आरएसएस को दी रैली की इजाजत, पुलिस ने कर दिया था इनकार

बुधवार को कलकत्ता हाई कोर्ट ने पुलिस को 24 घंटे का समय यह सोचने के लिए दिया था कि क्या संघ को रैली करने की इजाजत दी जाए या नहीं।
राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के कार्यकर्ता। (फाइल फोटो)

उच्‍च न्‍यायालय ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को कोलकाता में रैली की इजाजत दे दी है। 14 जनवरी यानी मकर संक्रांति के दिन आरएसएस ब्रिगेड परेड ग्राउंड में रैली करना चाहता था। मगर कोलकाता पुलिस ने इसकी इजाजत नहीं दी थी। जिसके बाद संघ ने कलकत्ता हाई कोर्ट से गुहार लाई थी। बुधवार को हाई कोर्ट ने कोलकाता पुलिस को 24 घंटे का समय यह सोचने के लिए दिया था कि क्या संघ को रैली करने की इजाजत दी जाए या नहीं। इस रैली में सरसंघचालक मोहन भागवत के भी आने की उम्मीद थी। लेकिन एक दिन बाद ही पुलिस ने रैली की इजाजत देने से इनकार कर दिया। आरएसएस से किसी और तारीख पर रैली करने को कहा गया था।

आरएसएस के बंगाल अध्यक्ष बिद्युत मुखर्जी ने कहा था कि हम 1939 से कोलकाता में काम कर रहे हैं, लेकिन कभी प्रशासन की तरफ से एेसा दुश्मनी भरा रवैया नहीं देखा। पहले हमने भूकैलाश मैदान के बारे में पूछा था, लेकिन पुलिस ने इनकार कर दिया। इसके बाद हमने ब्रिगेड परेड ग्राउंड की इजाजत मांगी तो उसके लिए भी इनकार कर दिया गया।

दूसरी ओर दक्षिणी बंगाल में आरएसएस के सेक्रेटरी जिश्नू बासु के मुताबिक भूकैलाश मैदान में परेड की इजाजत न देते हुए पुलिस ने कहा था कि यह बहुत छोटा है और भीड़ ज्यादा होने पर परेशानियां खड़ी हो सकती हैं। बिग्रेड परेड ग्राउंड के लिए पुलिस ने कहा था कि यह बहुत बड़ा है। राज्य सरकार के एक अधिकारी के मुताबिक इस स्थिति पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और राज्य सरकार बेहद करीबी नजर रखे हुए है। यह माना जा रहा है कि इस रैली के जरिए आरएसएस राज्य में सांप्रदायिक तनाव पैदा करना चाहता है।

ममता बनर्जी बोलीं- “पीएम मोदी को जाना होगा, देश को बचाने के लिए बनाई जाए राष्ट्रीय सरकार”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App