कोलकाता का डलहौजी स्क्वायर: शासन सत्ता का रहा है केंद्र, जुड़े हैं कई औपनिवेशिक यादें

जॉर्ज प्रथम के शासनकाल के दौरान कलकत्ता में विशाल डलहौजी स्क्वायर को लाल बाग के रूप में जाना जाता था, कुछ ऐतिहासिक संदर्भों से संकेत मिलते हैं कि शहर के अंग्रेजी निवासियों द्वारा ‘बाग’ को ‘पार्क’ के लिए प्रतिस्थापित किया गया था।

Kolkata, Writers Building,Bengal
कोलकाता का राइटर्स बिल्डिंग जो कि डलहौजी स्क्वायर में स्थित है अब शासन सत्ता का केंद्र रहा है (फोटो- इंडियन एक्सप्रेस- शशि घोष)

कोलकाता का डलहौजी स्क्वायर एक जमाने में ब्रिटिश शासन व्यवस्था का केंद्र हुआ करता था। वहीं अब भी वो पावर सेंटर है। वहीं स्थित विशाल राइटर्स बिल्डिंग की भव्यता देखती ही बनती है। स्वतंत्रता के बाद इस क्षेत्र का नाम बदलकर बी.बी.डी. बाग रख दिया गया। शहीद क्रांतिकारी बेनॉय बसु, बादल गुप्ता और दिनेश गुप्ता के नाम पर।

बताते चलें कि दिसंबर 1930 में, तीनों ने ही राइटर्स बिल्डिंग में प्रवेश किया था जो उस समय भी सचिवालय था। उनलोगों ने लेफ्टिनेंट कर्नल एन.एस. सिम्पसन की हत्या कर दी थी। उसकी हत्या के बाद बादल गुप्ता ने पोटैशियम साइनाइड खा लिया था, जबकि बेनॉय बसु और दिनेश गुप्ता ने कब्जा से बचने के लिए खुद को गोली मार ली थी।बसु को अस्पताल में भर्ती कराया गया था, लेकिन कुछ दिनों बाद उनकी मृत्यु हो गई थी। जबकि दिनेश गुप्ता गोली लगने से बच गए, और उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया, दोषी ठहराया गया और मौत की सजा सुनाई गई थी।

जॉर्ज प्रथम के शासनकाल के दौरान कोलकत्ता में विशाल डलहौजी स्क्वायर को लाल बाग के रूप में जाना जाता था, कुछ ऐतिहासिक संदर्भों से संकेत मिलते हैं कि शहर के अंग्रेजी निवासियों द्वारा ‘बाग’ को ‘पार्क’ के लिए प्रतिस्थापित किया गया था। अंग्रेजों के जमाने से पहले के भी इतिहास बताते हैं कि यह क्षेत्र शासन का केंद्र रहा था।

244 साल पुरानी राइटर्स बिल्डिंग, जिसे कई वर्षों में खंडों में बनाया गया था, लाल दिघी के नाम से जाना जाने वाला एक टैंक भी इस क्षेत्र में स्थित है, जो अभी भी अस्तित्व में है। दक्षिण-पश्चिम कोने में दरभंगा के महाराजा लखमेश्वर सिंह की मूर्ति है, जो अपने परोपकार के लिए जाने जाते थे।

अपनी अनूठी वास्तुकला को संरक्षित करने के लिए शहर के संघर्ष का प्रभाव शायद कहीं नहीं देखने को मिलता है जितना यह डलहौजी स्क्वायर के आसपास दिखता है। यह अभी भी कोलकाता के व्यापार और प्रशासनिक संस्थानों का केंद्र है, पिछले दो दशकों से, डलहौजी स्क्वायर अपनी ऐतिहासिक इमारतों को संरक्षित करने और अपनी आबादी की जरूरतों को समायोजित करने की कोशिश कर रहा है।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।