ताज़ा खबर
 

नेहरू के कहने पर गए थे PAK, देखी थीं कई पीढ़ियां, जानें- मोदी पर क्या थे मिल्खा के विचार?

मिल्खा सिंह को देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने 1960 में पाकिस्तान में अब्दुल खालिक के खिलाफ दौड़ प्रतियोगिता के लिए राजी किया था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और फ्लाइंग सिख मिल्खा सिंह। (एक्सप्रेस फोटो)।

फ्लाइंग सिख के नाम से मशहूर मिल्खा सिंह ने इस दुनिया को अलविदा कह दिया है। यह तो सब जानते हैं कि मिल्खा सिंह को देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने 1960 में पाकिस्तान में अब्दुल खालिक के खिलाफ दौड़ प्रतियोगिता के लिए राजी किया था। नेहरू ने सिंह से बंटवारे की अपनी यादों को भुलाने की बात कही थी। इसके बाद मिल्खा सिंह ने पाकिस्तान में जाकर इतिहास रचने का काम किया था। तत्कालीन जनरल अयूब खान द्वारा उन्हें द फ्लाइंग सिख कहा गया था। लेकिन ये जानना दिलचस्प है कि मिल्खा सिंह की देश के मौजूदा पीएम नरेंद्र मोदी को लेकर क्या राय थी?

दरअसल, साल 2018 में नरेंद्र मोदी को लेकर पूछे गए एक सवाल के जवाब में फ्लाइंग सिख मिल्खा सिंह ने बताया था कि विदेशों में जब वे जाते हैं तो उन्हें पीएम मोदी की तारीफ सुनने को मिलती है। उन्होंने कहा था कि विदेश में रहने वाले भारतीय पीएम मोदी की तारीफ करते हैं। मिल्खा सिंह का कहना था कि उन्हें मोदी की सबसे अच्छी बात ये लगती है कि वे सभी देशों के साथ मैत्रीपूर्ण संबंध रखना चाहते हैं। मिल्खा सिंह ने बताया था कि मोदी ओलंपिक में भारत के बेहतर प्रदर्शन के लिए कोशिश कर रहे हैं। सिंह ने कहा था कि मोदी के दिल में गरीबों के लिए दर्द है।

अपने एक पुराने बयान में मिल्खा सिंह ने बताया था, ‘ मैं खेल को हमेशा राजनीति से दूर रखता हूँ। मैं अगर राजनीति में आना चाहता तो पंडित नेहरू और इंदिरा गांधी के समय पर सियासत में आ सकता था।’

बता दें कि मिल्खा सिंह का जन्म 20 नवंबर 1929 को एक सिख परिवार में गोविंदपुरा पंजाब प्रांत, ब्रिटिश भारत में हुआ था। जो कि आज की तारीख में पाकिस्तान में है। मिल्खा भारत विभाजन के दौरान अनाथ हो गए थे। मिल्खा सिंह का परिवार बंटवारे की हिंसा में मारा गया था। सिंह ने खुद इन हत्याओं को अपनी आंखों से देखा था।

बंटवारे के बाद वे भारत आ गए। जवान होने पर मिल्खा सिंह भारतीय सेना में भर्ती हो गए। इसके बाद उनका परिचय एथलेटिक्स से हुआ। बाद में सेना द्वारा एथलेटिक्स में विशेष प्रशिक्षण के लिए उनका चयन किया गया था। सिंह ने ओलंपिक खेलों, राष्ट्रीय खेलों,एशियाई खेलों, राष्ट्रमंडल खेलों में कई पदक जीते और देश का नाम रौशन किया।

Next Stories
1 भारतीय नौसेना की चिंता- लंका में चीन की मौजूदगी बढ़ा सकती है भारत के लिए खतरा
2 असीम उड़ान पर निकले ‘फ्लाइंग सिख’, टि्वटर पर उठी मांग- मिल्खा सिंह भारत रत्न के हकदार
3 हम दुनिया में सबसे बेहतर हो सकते हैं, यह यकीन दिलाने वाली शख़्सियत थे मिल्खा सिंह- आनंद महिंद्रा ने ऐसे किया याद
ये पढ़ा क्या?
X