know the facilities covered under the IRCTC passenger insurance - - Jansatta
ताज़ा खबर
 

“IRCTC यात्री बीमा योजना”, जानिए इससे जुड़ी सभी महत्वपूर्ण जानकारी

ट्रेनें कई बार बड़ी दुर्घटनाओं का शिकार होती हैं। ऐसी स्थिति में आपका IRCTC का रेल यात्रा बीमा लेना और भी जरूरी हो जाता है। जानिए उससे जुड़ी सभी महत्वपूर्ण जानकारी।

IRCTC Train Ticket Booking: तस्वीर का इस्तेमाल प्रतिकात्मक तौर पर। (फाइल फोटो)

भारतीय रेलवे दुनिया के सबसे बड़े रेल नेटवर्क्स में से एक है। आज (28 दिसंबर 2016) को कानपुर में सुबह 6 बजे के करीब अजमेर-सियालदाह ट्रेन के 14 डिब्बे पटरी से उतर गए। बीते एक महीने मे यह दूसरा सबसे बड़ा रेल हासदा है। इससे पहले कानपुर में ही पटना-इंदौर एक्सप्रेस भी एक दुर्घटना का शिकार हुई थी जिसमें 140 से ज्यादा लोग मारे गए थे। रेलवे में ऐसे हादसों का बार-बार होना बहुत चिंताजनक है। ऐसी स्थिति में आपका रेल यात्रा बीमा होगा जरूरी है। जानते हैं आईआरसीटीसी के यात्री बीमा योजना के बारे में।

कैसे होगा आईआरसीटीसी के जरिए बीमा ?
आईआरसीटीसी का बीमा आप वेबसाइट से टिकट बुक करते समय ले सकते हैं। टिकट बुक करते समय आपके सामने बीमा लेने का विकल्प आएगा। इसे सिलेक्ट करते ही आपके टिकट के दाम के अलावा 92 पैसे ज्यादा कटेंगे और आपका रेल यात्रा बीमा हो जाएगा। यह सुविधा 5 साल से कम उम्र के बच्चों को नहीं मिल पाएगी और न ही विदेशी नागरिकों को।

क्या कवर केरगा यह बीमा योजना ?
रेल यात्रा बीमा आपको रेल यात्रा के दौरान हुए हादसों के लिए भुगतान करेगा। इसमें 2 ट्रेनों के बीच टक्कर होने, ट्रेन के पटरी से उतरने जैसे हादसे शामिल हैं। हादसा होने की स्थिति में पैसेंजर या नॉमिनी (पॉलिसी हॉल्डर की मृत्यु होने पर) क्लेम कर सकता है। इसमें मृत्यु, गंभीर चोट की वजह से विकलांग होने और अस्पताल में इलाज होने जैसी स्थितियों में बीमा की रकम के लिए क्लेम किया जा सकेगा। क्लेम के लिए पीएनआर नंबर का होना भी जरूरी होगा।

क्या हैं फायदे ?
यात्री की मृत्यु होने या परमनेंट डिसबिलिटी होने की स्थिति में बीमा की गई रकम का 100% भुगतान दुर्घटना होने की तारीख से 12 महीनों के अंदर किया जाएगा। वहीं बीमा रकम का 75% गंभीर रुप से चोटिल होने और 20% भुगतान अस्पताल के खर्च या मेडिकल ट्रीटमेंट के लिए किया जाएगा। वहीं ट्रेन हादसे भी रेलवे ऐक्ट (1989) के तहत डिफाइन किए गए हैं। ऐक्ट के सेक्शन 123, 124, 124A में इनकी विस्तार से जानकारी दी गई है।

नॉमिनी कब कर सकते हैं क्लेम ?
दुर्घटना के बाद रकम पाने के लिए नॉमिनी को हादसे के 4 महीने के अंदर बीमा कंपनियों से क्लेम लेना होगा। क्लेम एनईएफटी के जरिए दिए जाएंगे। इसके अलावा क्लेम लेने के लिए नॉमिनी को सभी जरूरी दस्तावेज भी जमा कराने होंगे। अभी सिर्फ तीन कंपनियां ही रेल यात्रा बीमा की सुविधा दे रही हैं। इनमें आईसीआईसीआई लोंबार्ड, रॉयल सुंदरम जनरल इंश्योरेंस और श्रीराम जनरल इंश्योरेंस शामिल हैं। वहीं वेबसाइट पर इंश्योरेंस लेते समय नॉमिनी की डिटेल्स भरना न भूलें।

देखें वीडियो

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App