ताज़ा खबर
 

मॉब लिंचिंग की वजह बेरोजगारी, मुसलमान और मोदी की बढ़ती लोकप्र‍ियता?

आरएसएस के नेता इंद्रेश कुमार ने भी मॉब लिंचिंग पर विवादित बयान दिया। पिछले दिनों रांची में एक कार्यक्रम में इंद्रेश कुमार ने कहा कि अगर लोग बीफ़ खाना छोड़ दें तो मॉब लिंचिंग जैसी घटनाएं रूक सकती हैं।

राजस्थान के अलवर में 20 जुलाई को गो-तस्करी के शक में भीड़ ने रकबर उर्फ अकबर नाम के शख्स की पिटाई कर दी जिसकी बाद में पुलिस हिरासत में मौत हो गई।

राजस्थान के अलवर में 20 जुलाई को गो-तस्करी के शक में भीड़ ने रकबर उर्फ अकबर नाम के शख्स की पिटाई कर दी जिसकी बाद में पुलिस हिरासत में मौत हो गई। इससे पहले भी राजस्थान में मॉब लिंचिंग हो चुकी है। जब राज्य की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे से इस पर प्रतिक्रिया पूछी गई तो उन्होंने मॉब लिंचिंग पर बेतुका बयान दिया। सीएम वसुंधरा ने कहा कि ये समस्या जनसंख्या विस्फोट से उत्पन्न हुई है। सीएम ने कहा, “लोगों को रोजगार चाहिए। वे इस बात से निराश हैं कि वो रोजगार के लिए काबिल नहीं बन पा रहे हैं। एक निराशा का भाव है जो लोगों और समुदायों में फैल रहा है। यह ऐसा कुछ नहीं है जो राज्य से आ रहा है। ऐसा लोगों की स्थितियों के कारण उनके गुस्से के तौर पर बाहर आ रहा है।’ वसुंधरा ने ये भी कहा कि यह सिर्फ राजस्थान की सच्चाई नहीं है, यह दुनिया की सच्चाई है और दुनियाभर में ऐसी घटनाएं हो रही हैं।

HOT DEALS
  • BRANDSDADDY BD MAGIC Plus 16 GB (Black)
    ₹ 16199 MRP ₹ 16999 -5%
    ₹1620 Cashback
  • Jivi Energy E12 8 GB (White)
    ₹ 2799 MRP ₹ 4899 -43%
    ₹0 Cashback

सीएम वसुंधरा राजे अकेली नेता नहीं हैं जिन्होंने मॉब लिंचिंग पर बेतुका बयान दिया हो। केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार में मंत्री और राजस्थान से सांसद अर्जुन राम मेघवाल ने भी कहा, ‘जैसे-जैसे मोदी जी लोकप्रिय होते जायेंगे ऐसी घटनाएं बढ़ेंगी। बिहार में चुनाव के समय ‘अवार्ड वापसी’, यूपी चुनाव में ‘मॉब लिचिंग’ और 2019 में कुछ और होगा। मोदी जी ने योजनाएं दी और उसका असर दिख रहा है। ये उसका एक रिएक्शन है।’ हालांकि, मेघवाल ने इस घटना की निंदा की लेकिन कहा कि यह सिर्फ अकेली घटना नहीं है। 1984 का सिख दंगा इतिहास की सबसे बड़ी ‘मॉब लिंचिग’ थी।’

राजस्थान भाजपा के अध्यक्ष मदनलाल सैनी ने भी मॉब लिचिंग पर अजीबो-गरीब बयान दिया। उन्होंने कहा कि मुगल काल में भी हिन्दुस्तान में गो-हत्या की अनुमति नहीं थी। उन्होंने इस घटना को मुगल बादशाह हुमायूं की मौत के उदाहरण से जोड़ा। सैनी ने कहा कि जब हुमायूं मर रहा था तब उसने बाबर को बुलाया। हुमायूं ने बाबर से कहा था कि यदि तुम्हें हिन्दुस्तान पर शासन करना है तो तीन बातों का विशेष ध्यान रखना होगा। बतौर सैनी हुमायूं ने कहा था कि गाय, ब्राह्मण और महिला की इज्जत और सम्मान बनाए रखना और उनका कभी अपमान नहीं होना चाहिए क्योंकि हिन्दुस्तान इसे कभी सहन नहीं करेगा।

आरएसएस के नेता इंद्रेश कुमार ने भी मॉब लिंचिंग पर विवादित बयान दिया। पिछले दिनों रांची में एक कार्यक्रम में इंद्रेश कुमार ने कहा कि अगर लोग बीफ़ खाना छोड़ दें तो मॉब लिंचिंग जैसी घटनाएं रूक सकती हैं। उन्होंने कहा कि मॉब लिंचिंग जैसी घटनाओं का स्वागत नहीं किया जा सकता लेकिन दुनिया के किसी भी धर्म में गाय का वध नहीं होता है।

अलवर के राजगढ़ में जहां यह घटना घटी, वहां के स्थानीय भाजपा विधायक ज्ञानदेव आहूजा ने कहा कि गोकशी की घटनाओं को आतंकवादी गतिविधियों की तरह ट्रीट किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा था कि जिस तरह के मामले आतंकवादियों पर चलाए जाते हैं, वैसे ही मामले गोकशी करनेवालों पर भी चलाए जाने चाहिए।

पिछले साल अलवर में ही जब कथित गोरक्षकों की पिटाई से पशु व्यापारी पहलू खान की मौत हुई थी, तब राजस्थान के गृहमंत्री गुलाब चंद कटारिया ने गोरक्षकों का बचाव किया था और कहा था, ‘गलती दोनों तरफ से हुई है। लोग जानते हैं कि गो-तस्करी गैरकानूनी है फिर भी वह इसे करते हैं। गोभक्त तो सिर्फ ऐसे लोगों को रोकने की कोशिश करते हैं जो ऐसे अपराधों में लिप्त होते हैं।’

तेलंगाना से भाजपा विधायक राजा सिंह जो खुद 60 से ज्यादा आपराधिक मुकदमों का सामना कर रहे हैं ने एक वीडियो जारी कर मॉब लिंचिंग को सही ठहराया और कहा कि जब तक देश में गोकशी होती रहेगी तब तक मॉब लिंचिंग होती रहेगी। इन्होंने मॉब लिंचिंग से बचने के लिए गाय को राष्ट्र माता का दर्जा देने की भी मांग की है।

इधर, त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लव देव ने भी मॉब लिंचिंग पर विवादित बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि कई मॉब लिंचिंग की घटना की वजह से राज्य में खुशी की लहर दौड़ पड़ी है। बीजेपी के फायरब्रांड नेता विनय कटियार ने भी विवदाति बयान दिया है और कहा है कि मुस्लिम समुदाय गाय को हाथ लगाने से पहले सोच ले क्योंकि हिन्दू समाज आक्रामक हो चुका है।

उधर, गोरक्षा के नाम पर हो रही मॉब लिंचिंग और मुस्लिमों की हत्या पर पीडीपी नेता मुजफ्फर हुसैन बेग ने भी विवादित बयान दिया है और देश के बंटवारे की धमकी दी है। शनिवार (29 जुलाई) को उन्होंने कहा, ‘गाय और भैंस के नाम पर मुसलमानों का कत्ल बंद करें वर्ना नतीजें अच्छे नहीं होंगे। 1947 में एक बंटवारा हो चुका है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App