ताज़ा खबर
 

किशोर कुमार के फैंस को बड़ा झटका, बिक गई महान सिंगर के पुर्खों की हवेली

किशोर कुमार का पुश्तैनी मकान खांडवा शहर की मेन मार्केट में स्थित है। 10000 स्कवायर फीट में फैले इस मकान के सामने कई व्यवसायिक दुकानें बन चुकी हैं। मकान के मेन गेट पर 'गांगुली हाउस' लिखा हुआ है।

किशोर कुमार का पुश्तैनी मकान बिका। (image source-Facebook)

महान गायक, अभिनेता और फिल्मकार किशोर कुमार का पुश्तैनी मकान, जो कि मध्य प्रदेश के खांडवा में स्थित था, उसके बिकने की खबर है। बताया जा रहा है कि इस मकान को एक बिजनेसमैन द्वारा खरीदा गया है, जिनका नाम अभय जैन है और वह खांडवा के ही निवासी हैं। वहीं किशोर कुमार के फैन्स जो कि उनके इस पुश्तैनी मकान को मेमोरियल के रुप में स्थापित कराना चाहते थे, उन्हें इस खबर से बड़ा झटका लगा है। मकान बिकने की खबर से नाराज किशोर कुमार के फैन्स का कहना है कि वह किशोर कुमार के इस पुश्तैनी मकान को नहीं टूटने देंगे। खांडवा के लोगों का कहना है कि वह चंदा इकट्ठा कर इस मकान को बिकने से रोकेंगे।

पिछले काफी समय से किशोर कुमार के पुश्तैनी मकान के बिकने की खबरें आ रही थीं। कहा जा रहा था कि किशोर कुमार के रिश्तेदार मकान बेचने के लिए बिजनेसमैन के संपर्क में हैं। बीते साल खबर आयी थी कि यह मकान खांडवा नगर निगम द्वारा ढहाया जाएगा। नगर निगम के नोटिस में कहा गया था कि मकान बेहद ही जर्जर हालत में है और कभी भी गिर सकता है, जिससे आसपास रहने वाले लोगों को खतरा पैदा हो सकता है। ऐसे में घर में रहने वाले लोग इस मकान को 24 घंटों में खाली कर दें। बता दें कि किशोर कुमार के इस पुश्तैनी मकान में सीताराम नामक व्यक्ति पिछले 4 दशकों से रह रहा है। नगर निगम का नोटिस मिलने के बाद सीताराम ने मुंबई में रहने वाले किशोर कुमार के परिवार को सूचित किया।

हालांकि बाद में नगर निगम के इस फैसले पर कोर्ट से स्टे ले लिया गया। जिसके बाद मकान को तोड़ने का फैसला रोक लिया गया। बता दें कि हाल ही में इस मकान का एक हिस्सा जर्जर हालत में होने के कारण गिर गया था। जिसके बाद नगर निगम ने इस मकान में लोगों की एंट्री बैन कर दी थी। उल्लेखनीय है कि किशोर कुमार का पुश्तैनी मकान खांडवा शहर की मेन मार्केट में स्थित है। 10000 स्कवायर फीट में फैले इस मकान के सामने कई व्यवसायिक दुकानें बन चुकी हैं। मकान के मेन गेट पर ‘गांगुली हाउस’ लिखा हुआ है। गौरतलब है कि किशोर कुमार के पिता के लाल गांगुली खांडवा के मशहूर वकील थे। किशोर कुमार और उनके भाई अशोक कुमार का जन्म इसी मकान में हुआ था। खांडवा से प्रारंभिक शिक्षा लेने के बाद दोनों भाई अभिनय के क्षेत्र में करियर बनाने के लिए मुंबई चले गए थे।

किशोर कुमार भले ही मुंबई चले गए, लेकिन अपने पुश्तैनी मकान से उनका जुड़ाव हमेशा रहा और किशोर कुमार अक्सर खांडवा आते रहते थे। यहां तक कि साल 1987 में किशोर कुमार की मौत के बाद उनका अंतिम संस्कार भी खांडवा में ही किया गया था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App