ताज़ा खबर
 

‘G-23’ पर बोले खुर्शीद- सुधार उसपर सवाल से नहीं आता, जिसका फायदा उठाया गया हो

खुर्शीद ने सवाल किया कि जो लोग संगठनात्मक चुनावों का आह्वान कर रहे हैं, क्या वे इसी तरह पार्टी में उस जगह पर पहुंचे है, जहां वे अभी हैं।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद‘जी-23’ नेताओं पर निशाना साधा है (एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद ने पार्टी में सुधार की फिर से अपील करने वाले ‘जी-23’ नेताओं पर निशाना साधते हुए रविवार को कहा कि सुधार उस चीज पर अचानक सवाल उठाने से नहीं आता, जिसका वर्षों तक ‘‘फायदा उठाया गया’’ हो, बल्कि यह त्याग से आता है।

खुर्शीद ने सवाल किया कि जो लोग संगठनात्मक चुनावों का आह्वान कर रहे हैं, क्या वे इसी तरह पार्टी में उस जगह पर पहुंचे है, जहां वे अभी हैं। ‘जी-23’ के नेता एम वीरप्पा मोइली ने पार्टी को चुनावी रूप से अधिक प्रतिस्पर्धी बनाने के लिए इसकी ‘‘बड़ी सर्जरी’’ की आवश्यकता पर जोर दिया था।मोइली के इस बयान के कुछ दिन बाद खुर्शीद ने कहा कि ये ‘‘अच्छे वाक्यांश उत्तर नहीं हैं’’, क्योंकि पार्टी नेताओं को पिछले 10 वर्ष में पैदा हुई चुनौतियों से मिलकर निपटने की जरूरत है।

खुर्शीद ने ‘पीटीआई-भाषा’ को दिए साक्षात्कार में कहा कि यह फैसला राहुल गांधी को करना है कि वह पार्टी के अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ना चाहते हैं या नहीं। उन्होंने कहा कि राहुल पार्टी अध्यक्ष हों या न हों, वह ‘‘हमारे नेता’’ रहेंगे।बताते चलें कि जी-23 नेताओं में शामिल रहे कपिल सिब्बल ने हाल ही में एक इंटरव्यू में फिर से बदलाव की मांग की थी।

साथ ही उन्होंने इस बात को माना था कि देश में मजबूत राजनीतिक विकल्प की जगह खाली है। कांग्रेस को भाजपा के व्यवहार्य सियासी विकल्प के तौर पर पेश करने का सुझाव देते हुए पार्टी के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने कहा था कि कांग्रेस को संगठन के सभी स्तरों पर व्यापक बदलाव लाना चाहिए जिससे यह नजर आए कि वह जड़ता की स्थिति में नहीं है।

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने माना कि फिलहाल भाजपा का कोई मजबूत सियासी विकल्प नहीं है लेकिन कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शासन का नैतिक अधिकार खो दिया है और देश के मौजूदा रुख को देखते हुए कांग्रेस एक विकल्प पेश कर सकती है।उन्होंने कहा कि चुनावों में हार की समीक्षा के लिये समितियां बनाना अच्छा है, लेकिन इन का तब तक कोई असर नहीं होगा जब तक उनके द्वारा सुझाए गए उपायों पर अमल नहीं किया जाता।

Next Stories
1 अंबानी से आगे निकलने की राह पर थे अडाणी, पर खिसक कर आए अमीरों की लिस्ट में नंबर-3 पर, जानें- कैसे पिछड़े
2 जनसंख्या नियंत्रण पर योगी सरकार सख्त! बोले UP लॉ कमिशन चीफ- सहयोग करने वालों को ही मिले सरकारी सुविधाओं का लाभ
3 ‘वाह रे मोदी तेरा खेल, न्याय मांगो तो जेल’, मोदी के विकास मॉडल पर दिग्विजय ने शेयर की कविता, ट्रोल
ये पढ़ा क्या?
X