एम्स में डेरा चीफ को लोगों से मिलने की अनुमति देने पर नपा डीएसपी, खट्टर सरकार ने किया सस्पेंड

डेरा प्रमुख की सुरक्षा का जिम्मा संभालने वाले डीएसपी शमशेर सिंह को तत्काल प्रभाव से सेवा से सस्पेंड कर दिया गया है।

haryana, gurmeet singh
डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह। (एक्सप्रेस फोटो)।

हरियाणा सरकार ने सोमवार को डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को कथित रूप से एम्स में लोगों से मिलने देने के लिए एक डीएसपी को सस्पेंड कर दिया। दरअसल, गुरमीत राम रहीम को पिछले महीने नई दिल्ली एम्स में मेडिकल टेस्ट कराने के लिए लाया गया था। गुरमीत वर्तमान में रोहतक की सुनारिया जेल में बलात्कार और हत्या के मामलों में सजा काट रहे हैं।

डेरा प्रमुख की सुरक्षा का जिम्मा संभालने वाले डीएसपी शमशेर सिंह को तत्काल प्रभाव से सेवा से सस्पेंड कर दिया गया है। एक आदेश में, हरियाणा के अतिरिक्त मुख्य सचिव राजीव अरोड़ा ने कहा: “शमशेर सिंह, एचपीएस, डीएसपी/महम को तत्काल प्रभाव से निलंबित किया जाता है।” बता दें कि यह आरोप लगाया गया था कि 13 जुलाई को एम्स में चार लोगों को डेरा प्रमुख से मिलने दिया गया था। वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने सिंह के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की सिफारिश की थी, जिन पर “जानबूझकर चूक” के आरोप थे।

नवंबर 2020 में, रिपोर्ट्स सामने आई थीं कि गुरमीत को “गुप्त रूप से” एक दिन के लिए पैरोल दी गई थी। हरियाणा के जेल मंत्री रंजीत सिंह चौटाला ने तब दावा किया था कि उन्हें इस मामले की जानकारी थी और “यह ऐसी जानकारी नहीं थी जिसे साझा करने की आवश्यकता थी”।

मंत्री ने इस कदम को यह कहते हुए भी सही ठहराया था कि 24 अक्टूबर, 2020 को दिन भर की पैरोल कानून के अनुसार दी गई थी ताकि डेरा प्रमुख को गुड़गांव के एक अस्पताल में जाने दिया जा सके, जहां उनकी बीमार मां को भर्ती कराया गया था।

जेल मंत्री ने कहा था, “वह (गुरमीत) अपनी अस्पताल में भर्ती मां से मिलने गया था। जमानत (पैरोल) का कानूनी प्रावधान है कि यदि किसी को कोई आपात स्थिति हो तो संबंधित कैदी को जमानत दी जा सकती है। हम उस कानून (पैरोल के लिए बने) को कैसे बदल सकते हैं?”

बता दें कि डेरा प्रमुख को बलात्कार के एक मामले के अलावा सिरसा के पत्रकार राम चंदर छत्रपति की हत्या का भी दोषी ठहराया गया था। विभाग के एक अधिकारी ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया था कि जेल अधीक्षक को किसी भी आपात स्थिति में दोषी को 21 दिनों के लिए पैरोल देने का अधिकार है। अधिकारी के मुताबिक गुरमीत के बेटे जसमीत के एक आवेदन के बाद उसे पैरोल दी गई थी।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
पंजाब की पावर टसल के बीच छत्तीसगढ़ में सीएम और सिंहदेव के बीच बढ़ रहा 36 का आंकड़ा, मंगलवार को होगी राहुल गांधी से मुलाकातchhattisgarh
अपडेट
X