धार्मिक नफरत फैलाने के आरोप में बीजेपी सांसद पर FIR, पुरानी फोटो पोस्ट कर किया था “हिन्दू-मुसलमान”

भाजपा सांसद पर आरोप है कि उन्होंने बुधवार को एक ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने आरोप लगाया कि केरल के मलप्पुरम जिले में कई हिंदू परिवारों को इसलिए पानी नहीं दिया गया, क्योंकि इन परिवारों ने संशोधित नागरिकता कानून का समर्थन किया।

Author Edited By नितिन गौतम नई दिल्ली | Updated: January 25, 2020 10:31 AM
shobha krandlajeभाजपा सांसद शोभा करांदलाजे (इमेज सोर्स-फेसबुक@शोभा करांदलाजे)

केरल पुलिस ने कर्नाटक से भाजपा सांसद शोभा करांदलाजे के खिलाफ धार्मिक भावनाएं भड़काने के आरोप में एफआईआर दर्ज की है। भाजपा सांसद पर आरोप है कि उन्होंने बुधवार को एक ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने आरोप लगाया कि केरल के मलप्पुरम जिले में कई हिंदू परिवारों को इसलिए पानी नहीं दिया गया, क्योंकि इन परिवारों ने संशोधित नागरिकता कानून का समर्थन किया। भाजपा सांसद के खिलाफ पुलिस ने आईपीसी की धारा 153(ए) के तहत मामला दर्ज किया है।

बता दें कि भाजपा सांसद शोभा करांदलाजे ने अपने ट्वीट में लिखा कि “केरल धीरे-धीरे एक और कश्मीर बनने की तरफ बढ़ रहा है। कुट्टीपुरम पंचायत के हिंदुओं को सीएए का समर्थन करने के चलते पानी की सप्लाई रोक दी गई है।”

अपने इस ट्वीट के साथ सांसद ने दो फोटो भी ट्वीट किए, जिनमें महिलाएं घड़े लेकर पीने का पानी लेने का इंतजार करती दिखाई दे रही हैं। वकील सुभाष चंद्रा ने इस मामले में शिकायत दर्ज करायी, जिसके आधार पर शोभा करांदलाजे के खिलाफ मामला दर्ज किया गया।

अधिकारियों का कहना है कि जो तस्वीर भाजपा सांसद द्वारा पोस्ट की गई हैं, वो बीते साल की हैं। बताया जा रहा है कि केरल के मलप्पुरम जिले की कुट्टीपुरम एक दलित कालोनी है, जहां पानी की समस्या लंबे समय से बनी हुई हैं। कालोनी के कई परिवार मोहम्मद अली नामक व्यक्ति के कुएं से पानी भरते हैं।

 

इस महीने की शुरूआत में भाजपा द्वारा सीएए के समर्थन में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। इस कार्यक्रम में इस कालोनी के कुछ निवासियों ने भी शिरकत की थी। कथित तौर पर कहा जा रहा है कि मोहम्मद अली ने इसके बाद 12 परिवारों को पानी लेने से मना कर दिया था।

हालांकि पंचायत सदस्य वासेम्मा वालेरी ने इन रिपोर्ट्स को खारिज कर दिया और बताया कि “कालोनी के परिवारों ने दो दिन पहले ही अली के कुएं से पानी भरा था। वालेरी के अनुसार, सिर्फ 2-3 परिवार ही अली के कुएं पर निर्भर हैं। हाल ही में जब और परिवारों ने भी पानी के लिए कुएं पर आना शुरू किया तो इस दौरान अली पर लोगों को पानी से रोकने के आरोप लगे। दुर्भाग्य से इस मामले को सीएए से जोड़ दिया गया।”

Next Stories
1 शिवसेना का सामना के जरिए घुसपैठियों पर निशाना, कहा- देश में घुसे PAK व बांग्लादेशी मुसलमानों को निकाल फेंको
2 राजस्थान ने स्कूल की किताबों में संविधान की प्रस्तावना को किया अनिवार्य, छत्तीसगढ़ में सभी शैक्षणिक संस्थानों में संविधान पर होगी चर्चा
3 डॉक्टरों के सहारे दिल्ली में जीत का ‘इलाज’ ढूंढ रहे कांग्रेस भाजपा, दोनों दलों ने चार-चार डॉक्टरों को दिए टिकट, इस विधानसभा सीट पर दो डॉक्टरों के बीच है रोचक मुकाबला
ये पढ़ा क्या?
X