ताज़ा खबर
 

हिंदू परिवार की शादी के लिए मुसलमानों का बड़ा फैसला, एक हफ्ते टाल दिया पैगंबर के जन्मदिन का जश्न

स्थानीय महालु कमेटी के सचिव एनसी अब्दुरहीमन ने बताया, 'हिंदू परिवार ने पहले से ही शादी की तारीख 10 नवंबर तय कर रखी थी। उन्हें इस बात का एहसास नहीं था कि उस दिन मिलाद-उन-नबी है। शादी के आयोजन में बाधा न आए, इसलिए हमने मस्जिद के कार्यक्रमों को टालने का फैसला किया।'

Author तिरुवनंतपुरम | Published on: November 17, 2019 8:45 AM
इंदिरा नाम्बियार ने कहा कि उन्होंने कभी कल्पना नहीं की थी कि उनकी बेटी की शादी के लिए मस्जिद अपने कार्यक्रम टाल देगा। (प्रतीकात्मक तस्वीर)

केरल के कोझिकोड जिले के एक गांव के मुस्लिमों ने अभूतपूर्व कदम उठाया। वे पैगंबर मोहम्मद के जन्मदिन का जश्न मिलाद-उन-नबी एक हफ्ते बाद आज यानी रविवार को मनाएंगे। असल में 10 नवंबर को पड़ने वाले इस त्योहार पर होने वाले कार्यक्रम को गांव के मुसलमानों ने टालने का फैसला किया था।

वजह थी, एक स्थानीय मस्जिद के सामने रहने वाले हिंदू परिवार के यहां शादी। शादी में दिक्कतें न हों, इसलिए मुसलमानों ने यह कदम उठाया। कोझिकोड के चंगारोथ पंचायत के तहत आने वाले एडिवेटी गांव स्थित जामा मस्जिद इंदिरा नाम्बियार के घर के ठीक सामने है। उनकी पोस्ट ग्रेजुएट स्टूडेंट बेटी प्रत्युषा की पिछले रविवार को ही शादी हुई।

स्थानीय महालु कमेटी के सचिव एनसी अब्दुरहीमन ने बताया, ‘हिंदू परिवार ने पहले से ही शादी की तारीख 10 नवंबर तय कर रखी थी। उन्हें इस बात का एहसास नहीं था कि उस दिन मिलाद-उन-नबी है। शादी की रस्में पूरे दिन चलती रहती हैं और हमें भी (मिलाद-उन-नबी पर) कई तरह की सांस्कृतिक कार्यक्रम करने पड़ते हैं। शादी के आयोजन में बाधा न आए, इसलिए हमने मस्जिद के कार्यक्रमों को टालने का फैसला किया।’

वहीं, इंदिरा नाम्बियार ने कहा कि उन्होंने कभी कल्पना नहीं की थी कि उनकी बेटी की शादी के लिए मस्जिद अपने कार्यक्रम टाल देगा। उन्होंने कहा, ‘महालु कमेटी ने मुझे बताया कि वे हमारी मदद के लिए अपना कार्यक्रम 17 नवंबर के लिए टाल रहे हैं। हमने ऐसी कोई दरख्वास्त नहीं दी थी। मस्जिद के कई लोग शादी वाले दिन मेरी बेटी को आशीर्वाद देने आए।’

अब्दुरहीमन ने बताया कि मस्जिद के अंतर्गत 120 मुस्लिम परिवार आते हैं और सभी ने इस फैसले पर रजामंदी दी। उन्होंने कहा, ‘एक ऐसे वक्त में, जब लोग धर्म के नाम पर लड़ रहे हैं, हम दूसरे समुदाय को लोग अपना भाईचारा जाहिर करना चाहते थे। हम चाहते तो पिछले रविवार को ही मिलाद-उन-नबी का आयोजन कर सकते थे, लेकिन इसकी वजह से शादी में बाधा पड़ सकती थी क्योंकि यह घर मस्जिद के ठीक सामने है।’

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 Weather forecast Today Updates: दिल्ली-एनसीआर में प्रदूषण से थोड़ी राहत, फिर खराब हो सकती है ‘हवा’
2 उत्तर प्रदेश: कमलेश तिवारी की पार्टी का नेता गिरफ्तार, ‘नाथूराम बलिदान दिवस’ मनाया, गांधी पर अभद्र टिप्पणी का आरोप
3 आज पद की शपथ लेंगे नए CJI जस्टिस शरद अरविंद बोबड़े
जस्‍ट नाउ
X