ताज़ा खबर
 

बाढ़ में डूबी थी मस्‍ज‍िद तो नमाज के लिए खोले मंदिर के दरवाजे

एक मस्जिद में लबालब पानी भर गया था, जिससे वहां पर न तो कोई जा सका और न ही नमाज अदा की जा सकी। ऐसे में हिंदू समुदाय के लोगों ने गंगा-जमुनी तहजीब की मिसाल पेश की।

केरल स्थित मंदिर के हॉल में नमाज पढ़ते हुए नमाजी। (फोटोः टि्वटर)

केरल में बाढ़ का पानी बकरीद (22 अगस्त) के दिन भी परेशानी का सबब बना रहा। यहां की एक मस्जिद में लबालब पानी भर गया था, जिससे वहां पर न तो कोई जा सका और न ही नमाज अदा की जा सकी। ऐसे में हिंदू समुदाय के लोगों ने गंगा-जमुनी तहजीब की मिसाल पेश की। हिंदुओं ने नमाजियों के लिए एक मंदिर के दरवाजे खोल दिए, जहां हॉल में उन्हें नमाज पढ़ने की अनुमति दी गई। मुस्लिमों ने इसके बाद एक-दूजे को बकरीद की मुबारकबाद दी।

यह मामला कोचुकवाडू की मस्जिद से जुड़ा है, जहां बुधवार को बुरी तरह पानी भर गया था। वे लोग ईद की नमाज अदा करने के लिए कोई और जगह तलाश रहे थे। उसी बीच उन लोगों को एनएनडीपी योगम मिल गए, जो कि पुराप्पुल्लीक्कावु रत्नेश्वरी मंदिर का काम-काज संभालते हैं। उन्होंने नमाजियों को मंदिर के हॉल में आकर नमाज पढ़ने की पेशकश की। बाद में मुसलमानों के राजी होने पर थिस्सूर जिला स्थित एरावाथुर इलाके के मंदिर में नमाज पढ़ने का बंदोबस्त कराया गया था।

फेसबुक पर इस घटना से जुड़ा एक वीडियो भी वायरल हुआ। एक शख्स इसमें कहता दिखा, “मंदिर प्रशासन ने हम लोगों (मुस्लिमों) को ईद की नमाज पढ़ने के लिए जगह दी और हम उनके इस फैसले से बेहद खुश हैं।”

वहीं, सोशल मीडिया पर कुछ और तस्वीरें भी वायरल होती दिखीं, जिनमें मुसलमान मंदिरों में भरे बाढ़ के पानी को साफ करते हुए नजर आए, जबकि ईद से पहले कुछ राहत शिविरों पर नन के बाढ़ पीड़ितों के मेहंदी लगाने की तस्वीरें भी वायरल हुईं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App